Templates by BIGtheme NET
Home » समाचार » अल्पसंख्यकों के हक-हुकूक पर हुआ मंथन, समस्या समाधान का मिला आश्वासन
अल्पसंख्यक अधिकार दिवस

अल्पसंख्यकों के हक-हुकूक पर हुआ मंथन, समस्या समाधान का मिला आश्वासन

माह के अंत में मिल जायेगा मदरसा शिक्षकों का मानदेय

गोरखपुर, 18 दिसम्बर। जिला अल्पसंख्यक कल्याण विभाग के तत्वावधान में सोमवार को विकास भवन के सभाकक्ष में ‘अल्पसंख्यक अधिकार दिवस’ के मौके पर परिचर्चा हुई। अल्पसंख्यकों के हक-हुकूक की बात हुई। सामाजिक, आर्थिक, शौक्षिक योजनाओं पर रोशनी डाली गई। अल्पसंख्यकों ने अपनी परेशानियां बतायी। समाधान का आश्वासन भी मिला। मुस्लिम, सिख, ईसाई, बौद्ध धर्म से ताल्लुक रखने वाले जनप्रतिनिधियों ने अपनी बातें बेबाकी से कही।
सिख समुदाय के सरदार बलवीर सिंह ने जटाशंकर में स्कूल सहित अन्य मसला उठाया। वहीं बौद्ध समुदाय के परदेशी बौद्ध व रामचरन बौद्ध ने पाली भाषा के संरक्षण की बात रखी। शहर काजी मुफ्ती वलीउल्लाह ने तीन तलाक पर बेबाक बाते कहीं। मदरसा दारूल उलूम हुसैनिया दीवान बाजार के प्रबंधक हाजी सैयद तहव्वर हुसैन ने वक्फ संपत्तियों के संरक्षण, मदरसा मिनी आईटीआई सर्टिफिकेट की मान्यता, मदरसा शिक्षकों की समस्या पर विस्तार से रौशनी डाली।

उन्होंने कहा कि सरकार एक तरफ तो सबका साथ सबका विकास का नारा देती है वहीँ मदरसों के साथ भेदभाव करती है। मदरसों में शिक्षकों को वेतन समय से नहीं देती है। आधुनिकीकरण योजना के शिक्षकों को मानदेय अभी तक ना मिलना दुर्भाग्यपूर्ण है जबकि उनका वेतन जिले पर आए हुए पांच माह का समय गुज़र चुका है। मदरसा आधुनिकीकरण शिक्षक संघ के मंडल अध्यक्ष नवेद आलम व प्रदेश संयोजक बदरे आलम अंसारी ने अभी हाल में मदरसा शिक्षक मोहम्मद आजम की मां के देहांत का मसला उठाया। उन्होंने कहा कि मानदेय अगर समय से मिल जाता तो बेहतर इलाज हो सकता था। मदरसों को करीब लाने के बजाए सरकार विभिन्न जांचे करके उन्हें मुख्यधारा से दूर कर रही है। जांच के नाम पर पैसा रोका जा रहा है। जब भी मानदेय आता है तो जांच शुरु हो जाती है। कई-कई सालों का मानदेय बाकी है। मदरसा का जांच के नाम पर, मानक के नाम पर शोषण किया जा रहा है।
मौलाना शौकत नूरी ने सरकार द्वारा विभाग की विभिन्न  योजनाओं को बंद किए जाने पर सरकार की मंशा पर सवालिया निशान उठाया। विचार विमर्श मेम अल्पसंख्यकों के डरे सहमे होने की बात भी उठी।
जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकार संजय कुमार मिश्र ने कहा कि अल्पसंख्यकों के हित में केंद्र व राज्य सरकार द्वारा कई योजनाएं चलायी जा रही है। उन्होंने विभाग द्वारा संचालित विभिन्न योजनाओं के बारे में विस्तार से बताया। उन्होंने प्राथमिकता के आधार पर समस्यओं के निस्तारण का आश्वासन दिया। जनप्रतिनिधियों द्वारा जो विचार व्यक्त किए गए उनके संबंध में यथा आवश्यक कार्यवाही किए जाने के निमित्त आश्वस्त किया। उन्होंने माह के अंत तक मदरसा शिक्षकों के मानदेय भुगतान की बात कही।

कार्यक्रम की शुरूआत कारी नसीमुल्लाह ने तिलावत-ए- कुरआन पाक से की। संचालन सैयद जफर हसन ने किया।
इस मौके पर जिला समाज कल्याण अधिकारी सप्तऋषि कुमार, जिला पिछड़ा वर्ग कल्याण अधिकारी अश्विनी सिंह, विष्णु प्रकाश राय, शमीम अहमद, मोहम्मद इजहार खान, मोहम्मद फैजान, शहनवाज, मनोज, श्यामधर गुप्ता, जगत नारायण यादव, राजकुमार यादव, नवेद आलम, हाफिज नजरे आलम कादरी, मौलाना कुतबुद्दीन, मौलाना सिद्दीक, मौलाना नूरुज्जमां,  अजमल, इरफान, शादाब सहित जनपद के विभिन्न मदरसों के प्रधानाचार्य, अध्यापक सहित तमाम लोग मौजूद रहे।

About गोरखपुर न्यूज़ लाइन

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*