समाचार

आरएसएस की नीतियों को घर-घर पहुंचाने की जरूरत-योगी आदित्यनाथ

गोरखपुर, 30 अप्रैल। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ गोरखपुर दौरे के आज दूसरे दिन आरएसएस के एक कार्यक्रम में पहुंचे। इस मौके पर उन्होंने कहा कि संघ की नीतियों को घर-घर पहुंचाने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि वंदे मातरम् बोलने पर किसी को कोई ऐतराज नहीं होना चाहिए। इसमें कोई सांप्रदायिकता नहीं है।

उन्होंने कहा कि वंदे मातरम के बारे में अगर आज कोई चर्चा करता है तो इसका श्रेय संघ के स्कूलों को जाता है। संघ के स्कूलों में वंदे मातरम अनिवार्य नहीं होता तो लोग अब तक इसे भूल चुके होते।

IMG-20170430-WA0001

योगी ने बताया कि 15 छुट्टियां रद्द करने से सरकार को 50 हजार करोड़ रुपये का बचत होना वाला है, जिसे बच्चों की पढ़ाई पर खर्च किया जाएगा। उन्होंने कहा कि गोरक्षा के नाम पर हिंसा गलत है और गोरक्षा केवल दिखावे के लिए नहीं होनी चाहिए। गाय पालना और फिर उसे सड़क पर खुले छोड़ा देना गोरक्षा का परिचय नहीं है।

इससे पहले सीएम ने आज के दिन की शुरुआत गोरखनाथ मंदिर के गोशाला में गायों को चारा खिलाकर की। इसके बाद साढ़े नौ बजे उनका जनता दरबार सजा. मुख्यमंत्री बनने के बाद योगी आदित्यनाथ का गोरखपुर का दूसरा दौरा है।

दोपहर को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने देवरिया के सलेमपुर में दिव्यांगों को उपकरण बांटे।  इस मौके पर आयोजित कार्यक्रम में उन्होंने अपनी सरकार की अब तक की उपलब्धियां गिनवाईं और जनता से किये वादे दोहराए। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को दिव्यांगों का हमदर्द बताते हुए योगी ने कहा कि उनकी सरकार भी दिव्यांगों को स्वावलंबी बनाने के लिए हर मुमकिन कोशिश करेगी।उन्होंने याद दिलाया कि राज्य सरकार ने दिव्यांगों की मासिक पेंशन 300 रुपये से बढ़ाकर 500 रुपये की है। योगी ने ऐलान किया कि तहसील दिवस पर दिव्यांगों के लिए विशेष सुविधाओं का ऐलान होगा। उन्होंने आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं की समस्याओं को 120 दिनों के भीतर सुलझाने का वादा भी किया।

योगी ने कहा कि हम 120 दिनों के भीतर आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं की समस्या को हल करेंगे, जो आज यहां आए हैं. मैं उन्हें वादा करता हूं। उन्हें चिंतित नहीं होना चाहिए। किसानों से जुड़े मुद्दे मुख्यमंत्री के भाषण में छाए रहे. उन्होंने बताया कि गन्ना किसानों को अब तक 5500 करोड़ रुपये का भुगतान किया जा चुका है और चीनी मिलें इसी वित्तीय वर्ष में उनका बकाया चुकाएंगी. उन्होंने चीनी मिलों का पूर्वी यूपी की अर्थव्यस्था का आधार बताया और कहा कि पूर्वी यूपी की बंद चीनी मिलों को जल्द दोबारा शुरू करवाया जाएगा. योगी आदित्यनाथ के मुताबिक चीनी मिलों की दशा सुधारने के लिए एक हाईपावर कमेटी बनाई गई है. साथ ही किसानों को गेहूं पर मिलने वाले समर्थन मूल्य में भी 10 रुपये का इजाफा किया गया है. मुख्यमंत्री का कहना था कि गरीबी की रेखा से नीचे रह रहे लोगों को मुफ्त बिजली कनेक्शन दिया जाएगा।

Add Comment

Click here to post a comment