समाचार

आर्थिक असमानता लोकतंत्र के लिये अत्यन्त घातक: बाबू सिंह कुशवाहा

जन अधिकार मंच की फरेन्दा और महराजगंज में जनसभा

फरेंदा (महराजगंज ), 7 जून। जन सम्पर्क यात्रा के तहत जन अधिकार मंच की जनसभा फरेन्दा और महराजगंज में हुई जिसे मुख्य अतिथि पूर्व मंत्री बाबू सिंह कुशवाहा ने संबोधित किया।

मुख्य अतिथि एवं पार्टी के संस्थापक पूर्व मंत्री बाबू सिंह कुशवाहा ने महराजगंज और फरेन्दा की सभा में कहा कि भारतीय संविधान में स्थापित सामाजिक, आर्थिक एवं राजनैतिक लक्ष्यों को पूरा करने में राष्ट्रीय एवं प्रान्तीय सरकारे विफल रही हैं। वर्तमान में 54 प्रतिशत आबादी वाले पिछड़े वर्ग को केवल 27 प्रतिशत आरक्षण का प्राविधान है। इस आरक्षण में से केवल कुछ ही लोग पूरे आरक्षण का लाभ लेकर शेष अतिपिछड़ी जातियों के हक पर कब्जा जमाये बैठे है। आर्थिक असमानता लोकतंत्र के लिये अत्यन्त घातक है जिसका परिणाम है कि अतिपिछड़े, अतिदलित, शोषित, गरीब किसान मजदूर, कामगार, अल्पसंख्यक वर्तमान व्यवस्था के प्रति इनका असंतोष बढ़ता ही जा रहा है। आजाद भारत में शोषित एवं वंचित समाज की स्थिति में किसी भी प्रकार का परिवर्तन नही आया है। कल तक वे विदेशियों की गुलामी करते थे और स्वतंत्र भारत में नये सामान्तो एवं पूंजीपतियों के गुलाम है। कुछ दलों ने सामन्तवादी ताकतो को चुनौती देते हुये कुछ प्रान्तो में अपनी सरकारें बनायी किन्तु आज वह दल भी सत्ता के मद में चूर होकर अपनी मूल नीतियों एवं मिशन से भटक गये है।

कार्यक्रम में प्रदेश महासचिव बालजीत कुशवाहा ने कहा कि आज देश में किसान कर्ज में डूबा हुआ है और आत्महत्या करने पर मजबूर है लेकिन सरकारो को कोई फर्क नही पड़ रहा है। जिलाध्यक्ष जीतन प्रसाद मौर्या ने कहा कि जब तक किसान मजदूर एवं गरीबो को उनकी आबादी के हिसाब से देश व प्रदेश के बजट व संसाधानो में वाजिब हिस्सा नही मिल जायेगा तब तक स्थिति यथावत बनी रहेगी। यह एकजुट होने का सही समय है। हम सभी लोगो को एकजुट होना होगा। कार्यक्रम को अशोक मौर्या, जितेन्द्र कुशवाहा, आशुतोष मौर्या, सुन्दर गुप्ता ने भी सम्बोधित किया। इस दौरान सुग्रीव निषाद, राकेश शर्मा, डा. राकेश मौर्या, बिन्द्रावती मौर्या, अच्छेलाल मौर्या, बीएल मौर्या, सूर्यनाथ मौर्या, सन्नी मौर्या, विशाल मौर्या आदि लोग मौजूद रहे।⁠⁠⁠⁠

Leave a Comment