समाचार स्वास्थ्य

इंसेफेलाइटिस के 62 फीसदी मामले स्क्रब टायफस के हैं तो मौतें कम क्यों नहीं – डॉ आर एन सिंह

गोरखपुर, 23 जुलाई. इंसेफेलाइटिस उन्मूलन अभियान के चीफ कैंपेनर डा. आर एन सिंह ने सवाल उठाया है कि जब एईएस (एक्यूट इंसेफेलाइटिस सिंड्रोम) के 62 फीसदी मामले को स्क्रब टायफस बताया जा रहा है और इसकी दावा दी जा रही है तो इंसेफेलाइटिस से मौतें कम क्यों नहीं हो रही हैं.

डॉ सिंह ने कहा कि इस वर्ष आईसीएमआर व  एनआईवी  के शोधकर्ताओं ने दावा किया है कि एई एस का मुख्य कारण (लगभग 62%) स्क्रब टायफस है। खास बात यह है कि यह बैक्टीरीयल कारक अजिथ्रोमाइसिन और डाक्सीसाइक्लिन से ट्रीटेबल है।पहले के एईएस के मुख्य  कारण जे ई और एन्ट्रो वायरल  (दोनों वायरल  महामारी) लाइलाज हैं। जब स्क्रब टायफस का सटीक इलाज उपलब्ध है ( ऐन्टिबायटिक) फिर तो मौतें इस वर्ष काफी कम होनी चाहिए लेकिन ऐसा नहीं हो रहा है. आखिर इसका कारन क्या है ?

Leave a Comment