समाचार

ईद-उल-अजहा पर कुर्बानी के जानवरों के आवक को लेकर बैठक, मुस्लिम पीस कमेटी डीएम को ज्ञापन देगी

गोरखपुर, 6 अगस्त. नसीराबाद स्थित गेस्ट हाउस पर रविवार को जिला के मुस्लिम बु़द्धिजीवियों की एक बैठक हुई जिसमें आगामी ईद-उल-अजहा पर्व पर कुर्बानी के मामले पर विचार विर्मश किया गया. बैठक में 15 सदस्यीय गोरखपुर मुस्लिम पीस कमेटी का भी गठन हुआ जिसका संयोजक हाजी सैयद तहव्वर हुसैन को सर्वसम्मति से बनाया गया।
बैठक की अध्यक्षता मुफ्ती वलीउल्लाह ने की जबकि संचालन मदरसा दारुल उलूम हुसैनिया दीवान बाजार के प्रधानाचार्य हाफिज नजरे आलम कादरी ने किया. मुख्य अतिथि के तौर पर वरिष्ठ चिकित्सक  डा. अजीज अहमद मौजूद रहे. इस अवसर पर मुख्य रूप से ईद-उल-अजहा पर्व पर कुर्बानी की अदायगी का मुद्दा उठाया गया।

index 2

बैठक में कहा गया कि चूंकि कुर्बानी के जानवर भैंस, पड़वा, बकरा की आवक प्रदेश के विभिन्न जिलों से होती हैं ऐसे में प्रशासन द्वारा गाड़ियों को बिना रोक-टोक शहर में आने दिया जायें और बिला वजह का शोषण न किया जायें। अगर कोई व्यक्ति कुर्बानी सेंटर से अपने हिस्से का गोश्त ले जा रहा हैं तो रास्ते में किसी तरह की असुविधा न होने पायें। कुर्बानी सेंटरों पर पर्याप्त सुरक्षा बंदोबस्त किया जायें। इसी तरह कुर्बानी के जानवर की खाल को ले जाने में भी कोई रूकवाट न पैदा की जायें। उक्त मांगों को लेकर पीस कमेटी 11 अगस्त को प्रातः 9 बजे जिलाधिकारी को ज्ञापन सौंपेगी।
कमेटी में हाजी सैयद तहव्वर हुसैन, मुफ्ती वलीउल्लाह, डा. अजीज अहमद, मोहम्मद नसीम अशरफ, मौलाना शौकत अली नूरी, अब्दुल जलील मजाहिरी, जियाउल इस्लाम, अब्दुल जब्बार, नौशाद आलम लारी, कारी रईसुल कादरी, रहमतुल्लाह, शब्बीर अहमद, नूरूज्जमां मिस्बाही, मोहम्मद आजम, मोहम्मद सनाउल्लाह शमिल हैं.

Leave a Comment