समाचार

एक्सरे टेक्नीशियन ने दुधमुँहे बच्चे को दे दिया एक्सपायरी ओ आर एस

–परिजनों ने अस्पताल पर किया हँगामा 

परिजनों की सतर्कता से बचा हादसा 

सिसवा बाजार (महराजगंज), 9 अगस्त। मंगलवार को सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में 9 माह के बच्चे को एक्सरे टेक्निशियम ने एक्सपायरी  ओ आर एस का पैकेट दे दिया। गनीमत रही कि परिजनों की नज़र ओ आर एस के पैकेट पर पड़ गयी और कोई अनहोनी नहीं हो पायी।
सिसवा कस्बा के नौका टोला निवासी शिव जायसवाल के 9 माह के बेटे सात्विक को दो दिनों से दस्त हो रहा था। इलाज़ करने के लिये मंगलवार को सुबह 10 बजे शिव अपने बेटे को लेकर सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र पहुंचा। ओपीडी में डॉ आशीष रंजन ने सात्विक का चेकअप करने के बाद पर्चे पर ओ आर एस का घोल लिखकर दे दिया। जिसके बाद शिव पर्ची लेकर दवा के खिड़की पर गया। जहाँ बैठा एक्सरे टेक्नीशियन ने ओआरएस के तीन पैकेट शिव को दे दिया। घर आने पर जब शिव ने सात्विक को पिलाने के लिए ओ आर एस का पैकेट निकाला, तभी उसकी नज़र ओ आर एस के एक्सपायरी डेट पर पड़ी। ओ आर एस का पैकेट जुलाई 2016 में एक्सपायर हो चुका था। जिस पर आक्रोशित शिव अस्पताल पहुंचकर जमकर हंगामा किया। शिव ने मुख्य चिकित्साधिकारी को मौके पर ही फोन कर इसकी शिकायत की।
बता दें कि इस के पहले भी 19 जुलाई की रात में भी इसी तरह के एक और घटना प्रकाश में आयी थी। जिसमें कोठीभार थानाक्षेत्र के बेलभरिया निवासी हरिओम मिश्रा अपनी 20 माह की पोती उन्नति का इलाज़ कराने सिसवा प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र पर आये थे। जिसे ओपीडी में बैठे चिकित्सक ने उन्नति को देखा और उसके चोट पर एक्सपायरी दवा लगा दिया। इसके उपरान्त चिकित्सक बच्ची को एक्सपायर इंजेक्शन लगाने ही जा रहे थे कि हरिओम मिश्रा की नजर इंजेक्शन पर प्रकाशित एक्सपायरी डेट पर पड़ गयी। जिस पर हरिओम मिश्रा और उनके परिजनों ने अस्पताल पर बवाल काटा था।

लिखित शिकायत पर होगी कार्रवाई

इस सम्बन्ध में पूछे जाने पर सिसवा प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र व सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र के प्रभारी डॉ ईश्वर चन्द्र विद्यासागर ने कहा कि गलती से ओ आर एस के एक्सपायरी पैकेट को हटाया नहीं जा सका था। जिसकी लिखित शिकायत मिलने पर कार्रवाई की जायेगी।⁠⁠⁠⁠