समाचार

गुरू पूर्णिमा पर हियुवा के बर्खास्त प्रदेश अध्यक्ष सहित 200 शिष्यों ने योगी आदित्यनाथ की चरण वंदना की

योगी आदित्यनाथ के साथ सुनील सिंह (फाइल फोटो )

गोरखपुर, 9 जुलाई। गुरू पूूर्णिमा पर आज मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गोरक्षपीठाधीश्वर के रूप में करीब 200 शिष्यों को तिलक लगाकर आशीर्वाद दिया। इन शिष्यों में हिन्दू युवा वाहिनी के बर्खास्त प्रदेश अध्यक्ष सुनील सिंह भी शामिल थे। बकौल सुनील सिंह आज उनके लिए गुरू का पांव पखारना और उनका आशीर्वाद प्राप्त करना बहुत सुखद अनुभूति वाला था।
गोरखनाथ मंदिर में यूं तो हर वर्ष गुरू पूर्णिमा पर परम्परागत तरीके से आयोजन होता रहा है लेकिन आज का आयोजन भिन्न था क्योंकि गोरक्षपीठाधीश्वर योगी आदित्यनाथ अब प्रदेश के मुख्यमंत्री हैं। आज का आयोजन परम्परा के अनुसार ही हुआ, सिवाय दो चीजों के। एक तो मुख्यमंत्री की कड़ी सुरक्षा के कारण पूरा कार्यक्रम सुरक्षा कर्मियों के घेरे में था। दूसरी विशेष चीज यह हुई कि शिष्यों को दक्षिणा देने से मनाही कर दी गई। शायद मुख्यमंत्री होने के कारण योगी आदित्यनाथ दक्षिणा स्वीकार नहीं करना चाहते थे। पूर्व में शिष्य उनका पांव पखारने के बाद तिलक लगाते थे और दक्षिणा भेंट करते थे। बदले में उन्हें योगी आदित्यनाथ तिलक लगाकार आशीर्वाद देते थे।

guru
आज गुरू पूूर्णिमा का कार्यक्रम गोरखनाथ मंदिर के तिलक हाल में किया गया था। पूर्व में भी गुरू पूर्णिमा का आयोजनद यहीं होता था। कार्यक्रम नौ बजे से निर्धारित था लेकिन योगी जनता दरबार में व्यस्तता के कारण दोपहर 12 बजे तिलक हाल में पहुंचे। वहां करीब 200 शिष्य उनका इंतजार कर रहे थे। योगी आदित्यनाथ के हाल में पहुंचने के बाद गुरू पूर्णिमा का परम्परागत आयोजन शुरू हुआ। सबसे पहले भजन गायक राकेश श्रीवास्तव ने भजन गाया। इसके बाद योगी आदित्यनाथ ने शिष्यों को सम्बोधित किया। उन्होंने अपने सम्बोधन में कहा कि आज का दिन छोटी-मोटी गलतियों को भूल कर देश निर्माण, राष्ट निर्माण और समाज निर्माण में लगने की प्रेरणा देता है। वह शिष्यों से यही उम्मीद करते हैं।

guru pornima 2
इसके बाद एक-एक कर शिष्य आए और उनका चरण वंदन करते हुए उन्हें तिलक लगाया। बदले में योगी ने भी उन्हें तिलक लगाकर आशीर्वाद दिया। इन शिष्यों में समाज के विभिन्न तबकों के लोग थे। कार्यक्रम ढाई बजे तक चला.
इन शिष्यों में जिस चेहरे पर सबसे अधिक लोगों की निगाहें गईं, वे थे हिन्दू युवा वाहिनी के प्रदेश अध्यक्ष सुनील सिंह। वह भी गुरू योगी आदित्यनाथ के पास आए और उनकी चरण वंदना की। इसके बाद उन्हें तिलक लगाया। योगी आदित्यनाथ ने उन्हें तिलक लगाकर आशीर्वाद दिया.
सुनील सिंह ने विधानसभा चुनाव के वक्त हिन्दू युवा वाहिनी के सरपरस्त योगी आदित्यनाथ के खिलाफ विद्रोह कर दिया था। उनके साथ हिन्दू युवा वाहिनी के कई पदाधिकारी भी हो गए। उनका कहना था कि भाजपा, योगी आदित्यनाथ का सम्मान नहीं कर रही है और उनकी लोकप्रियता का उपयोग कर रही है। अंदर की कहानी यह थी कि सुनील सिंह सहित कई हियुवा नेता विधानसभा चुनाव लड़ना चाहते थे लेकिन भाजपा ने उन्हें टिकट नहीें दिया। योगी आदित्यनाथ ने भी उनकी पैरवी नहीं की और टिकट न मिलने के बावजूद भाजपा के पक्ष में चुनाव प्रचार में लगने को कहा जो इन नेताओं का मंजूर नहीं था। विद्रोही तेवर दिखाने के बाद योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर सुनील सिंह को बर्खास्त कर दिया गया।
चुनाव बाद योगी आदित्यनाथ के मुख्यमंत्री बन जाने से  स्थिति एकदम बदल गई। हियुवा के विद्रोही नेता कहीं के नहीं हुए। सुनील सिंह ने मुख्यमंत्री बनने के बाद पहली बार गोरखपुर आने पर योगी आदित्यनाथ के स्वागत में होर्डिंग लगााया लेकिन हिन्दू युवा वाहिनी की ओर से प्रेस में बयान जारी कर दिया गया कि अब वे हियुवा में नहीं है।
करीब दो माह बाद आज सुनील सिंह, योगी आदित्यनाथ के साथ दिखे। उन्होंने पत्रकारों से कहा कि योगी आदित्यनाथ उनके लिए हमेशा गुरू रहेंगे। हर वर्ष की तरह आज भी उन्होंने गुरू वंदना की और उनका आशीर्वाद प्राप्त किया। आज दिन उनके लिए बेहद सुखद अनुभूति वाला है।

Add Comment

Click here to post a comment