Templates by BIGtheme NET
Home » विचार » गोरखपुर के सांस्कृतिक भूगोल के शिल्पी प्रेमचन्द
IMG_0046

गोरखपुर के सांस्कृतिक भूगोल के शिल्पी प्रेमचन्द

 सदानन्द शाही
यों तो ऐसे बहुत से लोग होंगे जो प्रेमचन्द की तरह तबादला होने पर गोरखपुर आये होंगे और कुछ साल बिताकर चले गये होंगे।कितने कलक्टर,कितने कमिश्नर,स्कूल आफ इन्स्पेक्टर और कितने कुलपति ।उनकी स्मृति भी उनके पद के साथ ही चली गयी होगी।लेकिन एक साधारण कद काठी का स्कूल मास्टर मास्टर अठारह अगस्त १९१६ को शाम  पांच बजे पंहुचता है और पहली रात स्कूल के बरामदे में टिकाया जाता है।अगली सुबह यानी १९ अगस्त सोलह को उसे आवास मिलता है । उस आवास में रहते हुए उनके सेवासदन और प्रेमाश्रम जैसे उपन्यास ही नहीं दर्जनों कहानियां लिखीं जिनमें भूख की पीडा का अदभुत आख्यान रचती बूढी काकी जैसी क्लासिक कहानी  भी है,जो लोभ और क्षुद्रता की संस्कृति को उजागर करती है। इसके अलावा अपने समय के सवालों से दो दो  हाथ करते उनके वैचारिक ग द्य को जोड लें तब गोरखपुर में प्रेमचन्द के पांच साल का अर्थ समझ में आता है। इन रचनाओं में ऐसा क्या है  कि एक साधारण सी शख्शियत  किसी शहर की  स्मृति में असाधारण हैसियत पा लेती है और शताब्दियों तक बनी रहती है।

गोरखपुर को विश्वविद्यालय शहर (University Town ) हुए पचास से ज्यादा बरिस हो गये लेकिन बौद्धिक जडता और रूढिवादिता जस की तस है।आज भी यह शहर वर्णबोध की गिरफ्त में जकडा हुआ है।कल्पना करें कि सौ साल पहले यह जकडन किस कदर मजबूत रही होगी। प्रेमचन्द की रचनात्मक उपस्थिति ने  वर्णाग्रह से अभिभूत शहर की  विश्वदृष्टि को चुपचाप झकझोर दिया था। १९२० में स्वदेश में प्रकाशित मनुष्य का परम धर्म कहानी वर्णाग्रही मन का जैसा चित्र उपस्थित करती है वह काबिले गौर है।वर्णवादी अमानुषिकता प्रेमचन्द के मन में गहरे धंसी हुई थी।वे आजीवन  वर्णाग्रह की तंगदिली से टकराते रहे और उससे आजिज लोगों के लिए एक नये आकाश और अवकाश का सृजन किया।वैसे ही जैसे गोरखपुर के सांस्कृतिक भूगोल के  महान शिल्पियों -बुद्ध,गोरखनाथ और कबीर की उपस्थिति ने किया था।प्रेमचन्द की उपस्थिति ने गोरखपुर के सांस्कृतिक भूगोल को बदला और काफी हद तक रचा भी।उनकी उपस्थिति गोरखपुर के सांस्कृतिक भूगोल में एक उदार,समावेशी और लोकतांन्त्रिक स्पेस रचती है ।इसीलिए वे लोग तो प्रेमचन्द को  याद रखते ही  हैं जिन्हें ऐसे स्पेस की दरकार है,याद वे भी रखते हैं जिन्हें ऐसे लोकतान्त्रिक स्पेस के सृजन में अपनी दरकती हुई जमीन दिखायी देती है। अकारण नहीं है कि गोरखपुर विश्वविद्यालय का वर्चस्वशाली बौद्धिक मन प्रेमचन्द की उपस्थिति को लेकर निरन्तर असहज रहा है और है।

 pr sadanand shahi

( सदानंद शाही बीएचयू में हिन्दी के प्रोफेसर हैं। उनका यह लेख आज ‘ हिंदुस्तान ‘ के गोरखपुर के संस्करण में प्रकाशित हुआ है)  

About गोरखपुर न्यूज़ लाइन

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*