समाचार

देवरिया के केन्द्रीय विद्यालय की भूमि पर हो रहा है कब्जा, जिम्मेदार मूकदर्शक बने

  • 12
    Shares

प्रभावशाली सपा नेता विद्यालय की भूमि पर बना रहे पोल्ट्री फार्म 

जीएनएल रिपोर्टर

देवरिया, 27 अक्टूबर। देवरिया में केन्द्रीय विद्यालय के लिए आरक्षित जमीन पर कब्जा हो रहा है और जिम्मेदार अधिकारी मूकदर्शक बने हुए हैं। केन्द्रीय विद्यालय की जमीन पर एक प्रभावशाली सपा नेता पोल्ट्री फार्म बनवा रहे हैं लेकिन उसे रोकने वाला कोई नहीं है।

4681b4be-fe3c-4639-bdb3-9cfd2ed2bce4
वर्ष 2004 में देवरिया में केन्द्रीय विद्यालय बनाने का निर्णय हुआ था। विद्यालय के लिए देवरिया-खोरमा कन्हौली मार्ग पर रजला गांव में 9 एकड़ भूमि का चयन किया गया। यह जमीन बीआरडी पीजी कालेज के नाम थी। बीआरडी पीजी कालेज को यह भूमि रजला गांव सभा ने दी थी। केन्द्रीय विद्यालय को भूमि दिलाने के लिए बीआरडी पीजी कालेज की प्रबंध समिति ने यह भूमि फिर से गांव सभा को वापस कर दी और गांव सभा ने इसे केन्द्रीय विद्यालय के नाम कर दिया।

8847cb73-9cde-4b52-82a0-b1209eb34dec

भूमि मिलने के बाद केन्द्रीय विद्यालय की चहारदीवार बनाने के लिए वर्ष 2011-12 में 70 लाख रूपए जारी किया गया। इस पैसे से चहारदीवारी बनाने का कार्य शुरू हुआ लेकिन कुछ लोगों की आपत्ति के बाद चहारदीवारी का कार्य रूक गया। इसके बाद से 4 वर्ष हो गए न चहारदीवारी बनी न केन्द्रीय विद्यालय के निर्माण का कार्य आगे बढ़ा।
इसका फायदा उठाते हुए दबंग लोगों ने केन्द्रीय विद्यालय की भूमि पर कब्जा करना शुरू कर दिया है। इस जमीन से सटे ईंट भट्ठा है जिसके लिए ईंट पथाई का कार्य भी विद्यालय की ही भूमि पर होता था। अब कुछ दिनों से विद्यालय की जमीन पर पोल्ट्री  फार्म बनाने का कार्य हो रहा है। बताया जाता है कि यह पोल्ट्री फार्म हेचरी एक प्रभावशाली सपा नेता की है जो इसी गांव के रहने वाले हैं। उनकी केन्द्रीय विद्यालय के पास अपनी भूमि है और कुछ अन्य भूमि खरीदा है। पोल्ट्री फार्म निर्माण के लिए वह अपनी जमीन के साथ-साथ विद्यालय की भूमि को भी अपने कब्जे में लेते जा रहे हैं।
केन्द्रीय विद्यालय की भूमि पर कब्जे की जानकारी प्रशासन को है। इसके बावजूद वह मूकदर्शक बना हुआ है।
इससे बड़ी विडम्बना क्या हो सकती है कि केन्द्रीय विद्यालय की भूमि खाली पड़ी है और विद्यालय आईटीआई कैम्पस में किराये पर भवन लेकर चलाया जा रहा है। यदि समय रहते ध्यान नहीं दिया गया तो विद्यालय की पूरी भूमि पर कब्जा हो जाएगा।

Add Comment

Click here to post a comment