जनपद

धान खरीद में सुस्ती पर दो एजेंसी प्रबंधकों से स्पष्टीकरण माँगा, दो को नोटिस

खरीद न करने तथा बंद मिले क्रय केन्द्र प्रभारियो का कटेगा एक दिन का वेतन

महराजगंज,  15 नवंबर.  जिलाधिकारी वीरेन्द्र कुमार सिंह द्वारा धान क्रय केन्द्रों का कराये गए औचक निरीक्षण में कई केन्द्रों पर कमियाँ पाईं गई। इस पर डीएम ने जहाँ दो क्रय एजेंसी प्रबंधकों से स्पष्टीकरण तलब किया वहीं दो को नोटिस जारी किया। जो क्रय केन्द्र बंद पाए गए अथवा जहाँ खरीद नहीं शुरू हुई उन केन्द्र प्रभारियों का एक दिन का वेतन काटने का निर्देश जारी किया है।
डीएम श्री सिंह ने यूपी स्टेट एग्रो के जिला प्रभारी को नोटिस जारी कर कहा कि एजेंसी द्वारा तीन केन्द्र खोला गया है जिसमें से एक केन्द्र अभी तक क्रियाशील नहीं हो सका है। सभी केन्द्रों पर धान खरीद में तेज़ी लाएं।  कर्मचारी कल्याण निगम के जिला प्रभारी को जारी नोटिस में कहा कि नौ केन्द्रों में से अभी भी एक केन्द्र पर खरीद शुरू नहीं हुई। एक केन्द्र पर झरना तो दो केन्द्रों पर नमी मापन यंत्र नहीं है।  व्यवस्था ठीक तथा धान खरीद में तेज़ी लाएं।
वहीं पर डीएम श्री सिंह ने एनसीसीएफ व पीसीएफ के प्रबंधकों से स्पष्टीकरण तलब किया है। डीएम ने कहा कि एनसीसीएफ के सात क्रय केन्द्रों में से तीन केन्द्र बंद पाए गए। आनंदनगर मंडी में खोले जाने वाला केन्द्र कहीँ और खोला गया।  तीन केन्द्र बंद पाया गया। मंगलपुर,टिकुलहिया तथा आनंद नगर केन्द्र प्रभारियो से स्पष्टीकरण प्राप्त कर अपना भी स्पष्टीकरण तीन दिन के अंदर प्रस्तुत करें।
इसी प्रकार पीसीएफ के जिला प्रबंधक से भी स्पष्टीकरण तलब किया गया हैं। कारण कि निरीक्षण के दौरान पीसीएफ के 59 केन्द्रों में से दो केन्द्र बंद पाए गए। दो केन्द्रों पर कांटा, सात पर झरना,चार पर पंखा खराब मिला तो 20 पर नमी मापन यंत्र नहीं था।निरीक्षण के दौरान शाहाबाद व रामनगर का केन्द्र बंद पाया गया जबकि अहिरौली , बेलवा बुजुर्ग, बंसवार, बङवार ,गोपाला ,शाहाबाद व बैकुंठपुर का क्रय केन्द्र क्रियाशील नहीं मिले। ऐसे में निरीक्षण के दौरान अनुपस्थित, बंद तथा अक्रियाशील केन्द्र प्रभारियो का एक दिन का वेतन काटने हुए स्पष्टीकरण तलब करें तथा अपना  भी स्पष्टीकरण तीन दिन के अंदर प्रस्तुत करें। अलबत्ता खाद्य विभाग के सभी बारह केन्द्र खुले व क्रियाशील पाए गए बल्कि सभी केन्द्रों पर व्यस्था चाक चौबंद मिली। वहीं पर भारतीय खाद्य निगम के चारों केन्द्रों की निरीक्षण आख्या नहीं मिल सकी है।

Skip to toolbar