Templates by BIGtheme NET
Home » राज्य » निजीकरण के खिलाफ बिजली अभियन्ताओं एवं कार्मिको के सभी संगठनों ने कार्य बहिष्कार किया
बिजली कर्मचारी

निजीकरण के खिलाफ बिजली अभियन्ताओं एवं कार्मिको के सभी संगठनों ने कार्य बहिष्कार किया

प्रदेश के सभी कार्यालय रहे बन्द
निजीकरण का फैसला वापस न होने पर 9 अप्रैलसे 72 घण्टे का कार्य बहिष्कार

लखनऊ। निजीकरण के विरोध में उ0प्र0 पावर आफीसर्स एसोसिएशन, विद्युत कर्मचारी संयुक्त संघर्ष समिति उ0प्र0 सहित बिजली कार्मिको के कई संगठनों द्वारा आज पूरे दिन का कार्य बहिष्कार कर कार्य बन्द रखा गया। पूरे प्रदेश में आज बिजली कार्मिको ने जोरदार प्रदर्शन किया.

लखनऊ के सभी कार्यालयों के कार्मिक/अभियन्ता सुबह 10 बजे से ही शक्ति भवन पर जमा होने लगे. देखते-देखते 5 हजार से ज्यादा की संख्या में अभियन्ताओं एवं कार्मिको ने पूरा शक्ति भवन घेर लिया और लगातार सरकार की विरोध में नारे बाजी करते हुए निजीकरण के फैसलो को अविलम्ब वापस करने के लिए सरकार के निर्णय के खिलाफ अपने गुस्से का इजहार किया।

पावर आफिसर्स एसोसिएशन के पदाधिकारियों ने कहा कि जब तक निजीकरण का फैसला वापस नहीं होगा यह आन्दोलन आगे भी जारी रहेगा।  ऐसोशिएशन के सदस्य 28 मार्च से नियमानुसार अपना कार्य करेगे और फिर भी फैसला वापस न हुआ तो 9 अप्रैल से सभी अभियन्ता 72 घण्टे का प्रान्त व्यापी कार्य बहिस्कार करेगें।

उ0प्र0 पावर आफिसर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष के0बी0 राम, कार्यवाहक अध्यक्ष अवधेश कुमार वर्मा, अति0 महासचिव अनिल कुमार, सचिव आर0पी0 केन, संगठन सचिव, एस पी सिंह  अजय कुमार, आदर्श कौशल, पी0पी0 सिंह, राधेश्याम, रामशब्द, रामचन्द्र, ट्रांस्को अध्यक्ष महेन्द्र सिंह, सिविल इकाई अध्यक्ष बीना दयाल ने कहा जिस प्रकार से आज पूरे प्रदेश में बिजली अभियन्ताओं व कार्मिको ने एकजुट होकर अपनी ताकत का इजहार किया है उससे उ0प्र0सराकर को अब यह सोचना होगा वह निजीकरण के फैसले पर पुनः विचार करे।  एसोशिएशन के पदाधिकारियों ने एक स्वर में यह एलान किया है आन्दोलन आगे भी जारी रहेगा।

About गोरखपुर न्यूज़ लाइन

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*