समाचार

बच्चों की मौत के मामले में प्राचार्य, उनकी पत्नी सहित छह के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने का आदेश

बीआरडी मेडिकल कालेज गोरखपुर

अपर मुख्य सचिव चिकित्सा शिक्षा अनीता जैन भटनागर हटाई गईं

भ्रष्टाचार, सदोष मानव हत्या और प्राइवेट प्रैक्टिस के आरोप में दर्ज होगी एफआईआर 
गोरखपुर, 22 अगस्त। बीआरडी मेडिकल कालेज में आक्सीजन की कमी के कारण बच्चों की मौत के मामले में मुख्य सचिव की रिपोर्ट मिलने के बाद अपर मुख्य सचिव चिकित्सा शिक्षा अनीता जैन भटनागर को उनके पद से हटा दिया गया है। इसके अलावा बीआरडी मेडिकल कालेज के प्राचार्स आरके मिश्र, उनकी पत्नी डा. पूर्णिमा शुक्ल, आक्सीजन सप्लाई के प्रभारी डा. सतीश, डा कफील, लिक्विड आक्सीजन सप्लाई करने वाली कम्पनी पुष्पा सेल्स प्राइवेट लिमिटेड के अलावा प्राचार्य कार्यालय के तीन बाबुओं के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराने का आदेश दिया गया है।
इन लोगों पर लखनउ के हजरतगंज थाने में एफआईआर दर्ज की जाएगी।
प्राचार्य सहित जिन छह लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने का आदेश दिया गया है, उनके खिलाफ तीन अलग-अलग एफआईआर दर्ज करायी जा रही है। इन एफआईआर में भ्रष्टाचार, सदोष मानव हत्या और प्राइवेट प्रैक्टिस का आरोप लगाया गया है। प्राइवेट प्रैक्टिस का आरोप प्राचार्य डा. राजीव मिश्रा, डा. कफील और प्राचार्य डा. राजीव मिश्रा की पत्नी पूर्णिमा शुक्ल पर लगाया है।
इसके अलावा इस प्रकरण में लापरवाही के आरोप में अपर मुख्य सचिव डा. अनीता जैन भटनागर को उनके पद से हटा दिया गया है। उन्हें डीजी ट्रेनिंग बनाया गया है।

Add Comment

Click here to post a comment