गोरखपुर लोकसभा उपचुनाव समाचार

बीटेक व एमबीए हैं सपा के प्रत्याशी, बोले-बीजेपी नहीं सुनती मजबूरों व मजदूरों की आवाज 

 

गोरखपुर लोकसभा उपचुनाव

गोरखपुर, 18 फरवरी। गोरखपुर लोकसभा उपचुनाव के लिए घोषित समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी प्रवीण कुमार निषाद उर्फ संतोष निषाद बीटेक और एमबीए हैं।

प्रवीण कुमार निषाद उर्फ संतोष निषाद ने वर्ष 2009 में एनआईईटी ग्रेटर नोएडा से बीटेक (मैकेनिकल ) किया। पढ़ाई पूरी करने के बाद करीब ढ़ाई साल इंडो एलोसिस इंडस्ट्रीज लिमिटेड भीवाड़ी (राजस्थान) में बतौर प्रोडक्शन मैनेजर काम किया। इसी दौरान उन्होंने सिक्किम मनीपाल यूनिवर्सिटी से दूरस्थ शिक्षा के माध्यम से एमबीए (प्रोजेक्ट मैनेजमेंट) किया।
इसके कुछ दिनों बाद वह राजनीति में आ गए। राष्ट्रीय एकता परिषद व अन्य संगठनों में कई जिम्मेदार पदों पर सक्रिय रहे। जब उनके पिता डा. संजय कुमार निषाद ने अगस्त 2016 में निषाद पार्टी बनाई तब प्रवीण ने बतौर प्रदेश प्रभारी की हैसियत से काम किया और आज भी उसी हैसियत से काम कर रहे है।

सपा प्रत्याशी प्रवीण ने गोरखपुर न्यूज़ लाइन से बातचीत में कहा कि बीजेपी मजबूत पार्टी है लेकिन मजबूरों व मजदूरों की फरियाद नहीं सुन रही है। 2014 में जनता ने बीजेपी को ‘सबका साथ- सबका विकास’ के नाम पर वोट दिया। आज जनता का क्या हाल है, सबको पता है। आज पढ़ा लिखा नौजवान बेरोजगार है। भ्रष्टाचार चरम पर है। सरकार एंटी रोमियो यूनिट तो बना देती है लेकिन एंटी बेरोजगार यूनिट नहीं बनाती। केंद्र में मोदी व प्रदेश में योगी की सरकार बेरोजगारों, मजबरों, मजदूरों के लिए चाहे तो बहुत कुछ कर सकती है लेकिन उसके बावजूद दोनों सरकारें कोई ठोस कदम नही उठाती।



उन्होंने कहा कि वर्ष 2014 में बेरोजगारी, भ्रष्टाचार, महिला सुरक्षा को लेकर जनता ने बीजेपी ने वोट दिया था आज उसी जनता को नहीं सुना जा रहा है। मजबूरों, मजदूरों के हक की आवाज को बुलंद करने के लिए सपा, निषाद पार्टी व पीस पार्टी ने गठबंधन किया है।

निषाद पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष डा. संजय कुमार निषाद के तीन पुत्र और एक पुत्री हैं। पहले पुत्र डा. अमित कुमार निषाद (MBBS) दिल्ली में प्रेक्टिस करते है। दूसरे पुत्र प्रवीण कुमार निषाद उर्फ संतोष निषाद व इं. श्रवण कुमार निषाद राजनिति में सक्रिय है।

Skip to toolbar