समाचार

बुनकरों को फ्लैट रेट पर मिले बिजली : बुनकर सभा

गोरखनाथ में उप्र बुनकर सभा की बैठक में उठी मांग
अशफाक अहमद
गोरखपुर. एक मार्च। उत्तर प्रदेश बुनकर सभा के तत्वावधान में बुनकर प्रतिनिधियों की एक बैठक बुधवार को गोरखनाथ स्थित खुशी मैरेज हाल में हुई. बैठक में बुनकरों को दी जाने वाली सब्सिडी बैंक खाते में दिए जाने को सही नहीं मानते हुए बुनकरों को फ्लैट रेट योजना पर ही बिजली दिए जाने के संबंध में विस्तार से चर्चा हुई.

मुख्य अतिथि हाजी इफ़्तेखार अहमद अंसारी ने कहा कि बुनकरों का एकमात्र रोटी-रोजी का साधन पुश्तैनी कारोबार कपड़ा बुनाई है. प्रदेश का पावरलूम उद्योग बुनकरों का लघु उद्योग है जिसमें प्रदेश के लाखों बुनकर कार्यरत है. यह लघु उद्योग कृषि के बाद सबसे अधिक रोजगार का अवसर प्रदान करता है.  वर्ष  2006 में उत्तर प्रदेश पावरलूम लघु उद्योग के विकास एवं प्रोत्साहन के लिए प्रदेश के पावरलूम बुनकर को किसानों की तरह फ्लैट दर पर बिजली आपूर्ति की स्वीकृति प्रदान की थी. उत्तर प्रदेश विद्युत नियामक आयोग द्वारा प्रत्येक वर्ष आयोग द्वारा जारी टैरिफ विद्युत प्रदान की जाती रही है. फ्लैट रेट योजना लागू होने से विद्युत चोरी पर लगाम लगा साथ ही विद्युत विभाग द्वारा उनको का किया जा रहा शोषण एवं उत्पीड़न भी बंद हुआ.

bunkar

उन्होंने कहा कि  अब सरकार द्वारा बुनकरों को बिजली के बिल की सब्सिडी बैंक खाते में भेजने का बात कही जा रही है वहीं सवाल यह है कि जब गरीब बुनकर विद्युत बिल ही नहीं जमा कर पायेगा तो फिर उसको सब्सिडी कहां से मिलेगी . इससे पावरलूम बुनकर विद्युत विभाग का बड़ा बकायेदार बन जायेगा। जिससे बुनकरो को अपना पावरलूम बंद करना पड़ेगा. सरकार को अपना निर्णय वापस लेना चाहिए और पुरानी व्यवस्था ही चालू रखनी चाहिए.

अध्यक्षता करते हुए हाजी अज़ीज़ुलहई ने कहा कि बुनकरों की आर्थिक स्थिति काफी कमजोर है। बाजार की पूंजीवादी व्यवस्था एवं मंदी के कारण बुनकरों को आर्थिक क्षति उठानी पड़ रही है। नई स्कीम से गरीब बुनकरों की कमर टूट जायेगी। यह गैर मुनासिब व गरीब बुनकरों के साथ अन्याय है।

संचालन असगर ने किया। इस दौरान मौलाना ओबैदुर्रहमान नदवी, हाजी इमामुद्दीन, हाजी शमीउल्लाह, आरिफ, नजमुल हसन सहित प्रदेश के जिलों से आए बुनकर प्रतिनिधि मौजूद रहे।

Skip to toolbar