Templates by BIGtheme NET
Home » समाचार » बड़ी संख्या में ईवीएम मशीन क्यों खराब हुए
evm

बड़ी संख्या में ईवीएम मशीन क्यों खराब हुए

गोरखपुर, 12 मार्च. गोरखपुर लोकसभा उपचुनाव में बड़ी संख्या में ईवीएम में खराबी से न सिर्फ मतदाता परेशान हुए, बल्कि इससे मतदान प्रतिशत भी कम हुआ. ईवीएम  मशीनों में खराबी से कई बूथों पर कई-कई  घंटे मतदान प्रक्रिया बाधित रही। काफी संख्या में मतदाता वोट डालने से महरूम रहे। कई बूथों पर  ईवीएम के साथ-साथ वीवीपैट भी खराब हुए.

ख़राब ईवीएम मशीनों को ठीक करने या उसको बदल कर दूसरा ईवीएम लगाने में भी बहुत समय लगा जिसके कारण मतदाता पपरेशान हुए.

 सहजनवां विधानसभा के पाली में मेवास टिकरिया गांव में प्राथमिक विद्यालय पाली प्रथम नं. 58,  बाबा अमृतदास इंटर कालेज के बूथ नम्बर 74, दोहरिया कलां के बूथ नं. 86, कुआं बाजार के बूथ नं. 127 सहित तमाम जगहों पर ईवीएम खराब होने से डेढ़ से दो घंटा मतदान बाधित रहा। काफी संख्या में मतदाता वापस लौट गए.

इसी तरह कैंपियरगंज विधानसभा के बूथ नं. 120 समेत कई जगहों पर ईवीएम खराब हुई। चौमुखा बूथ नं. 141 पर वीवीपैट खराब हुई। पीपीगंज में भी ईवीएम खराब होने से मतदान में देरी हुई.

पिपराइच विधानसभा के बूथ नं. 119, 130, इस्माईलपुर में बूथ नं. 90, मोहम्मदबरवां के बूथ नंबर 282, हरखांपुर के बूथ नं. 364, तेनुआ के बूथ नं. 282 पर ईवीएम व वीवी पैट खराब होने से मतदान बाधित हुआ. गोरखपुर ग्रामीण विधानसभा के घोसीपुर प्राथमिक विद्यालय में ईवीएम खराब हुई. कई घंटे बाद बनी उसके बाद फिर खराब हो गई. काफी मतदाता बिना निराश होकर वापस चले गये. जिसमें बड़ी संख्या में महिलाएं थी. मतदाताओं ने दोबारा मतदान की मांग भी की.

इसी तरह भौवांपुर के बूथ नं. 271, रानीबाग के बूथ नं. 321 समेत अन्य जगहों पर ईवीएम खराब होने की शिकायत मिली है. गोरखपुर शहर विधानसभा क्षेत्र के सेंट जांस इंटर कालेज बशारतपुर के बूथ नं. 161, नीना थापा इंटर कालेज के बूथ नं. 420 व 421 समेत आधा दर्जन जगहों पर ईवीएम खराब होने की शिकायत है. कई जगह ईवीएम को सही करके दोबारा प्रयोग में लाया गया तो कहीं पर ईवीएम बदलनी पड़ी.

निषाद पार्टी के अध्यक्ष डॉ संजय कुमार निषाद ने आरोप लगाया कि 100 से अधिक ईवीएम मशीन खराब हुईं और उन्हें ठीक करने और बदलने में काफी समय लगाया गया. यह एक साजिश का हिस्सा है. ईवीएम मशीनें वहीँ ज्यादा खराब हुईं सपा प्रत्याशी मजबूत था.

About गोरखपुर न्यूज़ लाइन

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*