राज्य

भाजपा की वोटों के ध्रुवीकरण की कोशिश नाकाम होगी : सतीश मिश्रा

 – सुनामी में भाजपा का सूपड़ा होगा साफ, चौंकाने वाले होंगे यूपी चुनाव के नतीजे
-स्वामी प्रसाद मौर्य की राजनीतिक हैसियत खत्म

सैयद फरहान अहमद
गोरखपुर, 18 फरवरी। बसपा के महासचिव एवं राज्यसभा सांसद सतीश चंद्र मिश्र ने कहा हैं कि विधानसभा चुनाव के नतीजे इंतेहाई चौंकाने वाले होंगे। सुनामी तो जरुर आयेगी जिसमें भाजपा का सूपड़ा साफ हो जायेगा और बसपा पूर्ण बहुमत की सरकार बनायेगी। उन्होंने भी यह दावा किया कि प्रदेश का हर वर्ग भाजपा, सपा और कांग्रेस के झूठे विकास के नारों से इतर बसपा के समर्थन में आ चुका हैं।
गोरखपुर न्यूज लाइन से आज सुबह खास बातचीत में बसपा के वरिष्ठ नेता ने सपा और भाजपा पर कड़ा प्रहार करते हुए कहा कि इन दोनों का विकास सिर्फ ढ़िढ़ोरा है। यह दोनों एक ही सिक्के दो पहलू है। दोनों ने मिलकर पांच सौ दंगे कराये हैं। इसके विपरीत देश-प्रदेश की जनता ने बहन जी (मायावती) के कार्यकाल को देखा है जिसमें कानून व्यवस्था के साथ खिलवाड़ तो दूर छेड़छाड़ मुमकिन नहीं होती है। सपा-कांग्रेस के गठबंधन को नाकाम बताते हुए उन्होंने कहा कि इन दोनों पार्टियों ने अपनी हार पहले ही मान ली हैं वरना कांग्रेस द्वारा ’27 साल यूपी बेहाल’ का नारा देने के बाद ‘‘यह साथ पसंद है‘‘ की बात नहीं करती । उन्होंने यह भी कहा कि इन दोनों पार्टियों का कोई नजरिया नहीं है। उन्हें बस सत्ता से प्यार है। सतीश मिश्रा के अनुसार भाजपा के नेता विवादित मुद्दों को उठाकर लगातार वोटों के ध्रुवीकरण की कोशिश कर रहे है लेकिन जनता ने भी मन बना लिया हैं कि वह अब उनके झांसे में नहीं आयेंगे। वर्ष 2014 के आम चुनाव में विश्वास करके केंद्र की सत्ता में ला दिया लेकिन तमाम वादें “जुमले‘‘ ही साबित हुए और उससे भी आगे बढ़ते हुए नोटबंदी ने ऐसा प्रहार किया कि देश का हर अंग बुरी तरह प्रभावित हो चुका है।
एक प्रश्न के उत्तर में उन्होंने कहा कि बसपा सुप्रीमों ने यह स्पष्ट कर दिया है कि वह न तो भाजपा को समर्थन देंगी और न ही समर्थन लेंगी। इसके बाद अब किसी तरह का कोई संदेह नहीं होना चाहिए। उन्होंने दावा किया कि अल्पसंख्यकों के हक में जितना काम बसपा सरकार में हुआ है उतना मौजूदा सपा सरकार ने नहीं हुआ। जितनी भी योजनाएं है उनमें से ज्यादातर बसपा द्वारा शुरू की गयी है। उन्होंने इस बात का भरोसा दिया कि सरकार में आने पर जनता की हितकारी योजनाओं को पलटा नहीं जायेगा अलबत्ता कामियों और खामियों को दुरूस्त किया जायेगा ताकि उन योजनाओं को लाभ हकदारों तक पहुंच सकें।
कौमी एकता दल को बसपा में विलय की जरूरत से सबंधित सवाल के जवाब में सतीश मिश्रा ने कहा कि मुख्तार अंसारी का बचाव करते हुए कहा कि उनकी फैमिली का देश की आजादी में योगदान रहा है और उन पर जो मुकदमें हैं वह राजनीति से प्रेरित नजर आते है। जबकि भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष केशव प्रसाद के खिलाफ कई संगीन मुकदमें है और वह पूरे प्रदेश में घूम रहे है लेकिन उन पर कोई बात नहीं कर रहा है। हम सेकुलर ताने-बाने को मजबूत करना चाहते है।
विधानसभा में विपक्ष के पूर्व नेता स्वामी प्रसाद मौर्य के पार्टी छोड़ने के सवाल पर उन्होंने कहा कि बसपा ने ही उन्हें नेता बना दिया लेकिन आज जिस पार्टी में वह शमिल में है उनकी कोई औकात नहीं है। खुद उनके समुदाय के लोग उनसे दूर हैं। अब उनका नाम लेवा कोई नहीं है।
टिकट बटवारें में पैसे के आरोपों पर कहा कि सबसे ज्यादा तो जूतमपैजार भाजपा में है। वहां लोग पैसे वापस मांगने के लिए पार्टी दफ्तरों में तोड़फोड़ पर आमादा है।  सीएम अखिलेश यादव द्वारा बार-बार पत्थरों वाली सरकार से होशियार रहने की अपील पर सतीश मिश्रा ने कहा कि उनका बचपना अभी खत्म नहीं हुआ हैं। उन्होंने भी जो तथाकथित विकास किए है वहां भी तो पत्थर ही लगवायें है।
मुसलमानों को आरक्षण और तीन तलाक के मुद्दे पर कहा कि इस बाबत पार्टी सुप्रीमों द्वारा पहली ही अपना पक्ष  रख दिया गया है। ⁠⁠⁠⁠

Add Comment

Click here to post a comment