समाचार

माँ के हौसले ने मुफ़लिसी को नही बनने दी बच्चों की शिक्षा में दीवार

चाय दुकानदार की बेटी मानसी ने 10 सीजीपीए के साथ हाई स्कूल की परीक्षा पास की

सिसवा बाजार (महराजगंज), 3 जून। मानसी के लिए गरीब माँ-बाप की परिश्रम के साथ साथ उसकी पढाई की लगन ने कामयाबी दिला दी और वह हाई स्कूल की परीक्षा में 10 सीजीपीए के साथ सफलता हासिल कर परिवार के साथ साथ कस्बे का नाम रौशन कर दिया।
सिसवा कस्बे के वार्ड नम्बर 6 गोपालनगर निवासी छोटी सी चाय की दुकान चलने वाले मनोज कुमार और यशोदा देवी के छह संतानों में सबसे छोटी मानसी स्टर्लिंग पब्लिक स्कूल की छात्रा है। अपने मेहनत और लगन के साथ साथ माता-पिता के परिश्रम के बदौलत मानसी सीबीएसई बोर्ड की परीक्षा में 10 सीजीपीए ग्रेड पाकर परिवार का नाम रौशन किया है। मानसी की बड़ी बहनें सरोज, सरिता, रूपा परास्नातक हैं। एक बहन मुस्कान बीएससी कर रही है। वही इकलौता भाई अभिषेक स्नातक में है।

मानसी के पिता मनोज चाय की छोटी सी दूकान चला कर भी बच्चो को शिक्षा देने में कभी पीछे नही हटे। पांच वर्ष पूर्व महंगी शिक्षा के बोझ तले दब कर जब पिता के हिम्मत जवाब देने लगी तो माँ यशोदा देवी ने बच्चों के   शिक्षा के राह में रोड़ा बनने वाली गरीबी को हराने के लिए घर पर सिलाई कर फ़ीस का इंताज़म करने लगी और बच्चों की शिक्षा अनवरत ज़ारी रखी। उन्होंने बच्चों को अच्छी तालीम देने में कोई कोर कसर नही छोड़ी। आज उसी का परिणाम है कि बच्चे भी माता पिता का मान रखते हुए सफलता की मंजिले तय करने में पीछे नही रहे।

मानसी का लक्ष्य आईएएस बनने की है और देश सेवा के साथ साथ माता पिता का सेवा के उत्तरदायित्व का निर्वाह करना चाहती है। बेटी के सफलता से गदगद माँ यशोदा देवी ने कहा कि मै अपनी बेटी के सपनो को साकार करने के दिन रात परिश्रम करुँगी और उसे आईएएस बना के दम लूँगी। उन्होंने सरकार से अपील की है कि प्रतिभावान बच्चो के लिए सरकार को मदद करनी चाहिए और शिक्षा को व्यवसायीकरण से मुक्ति दिलानी चाहिए।⁠⁠⁠

Leave a Comment