समाचार

शिक्षा मित्रों को गोरखनाथ मंदिर जाने से रोकने के लिए लाठीचार्ज, पानी की बौछार

दो दर्जन शिक्षा मित्र घायल, दो महिला शिक्षा मित्रों को गंभीर चोटें आईं
गोरखपुर, 27 जुलाई। सहायक शिक्षक पद पर समायोजन रद किए जाने से आक्रोशित शिक्षा मि़त्रों ने आज दूसरे दिन भी जोरदार प्रदर्शन किया और गोरखनाथ मंदिर जाने की कोशिश की। पुलिस ने शिक्षा मित्रों को रोकने के लिए धर्मशाला पर न सिर्फ उन पर लाठी चार्ज किया बल्कि वाटर कैनन का भी इस्तेमाल किया। लाठीचार्ज व पानी के तेज बौछार से दो दर्जन से अधिक शिक्षा मि़त्र घायल हो गए जिसमें एक महिला शिक्षा मित्र को गंभीर चोटें आई हैं। पुलिस ने दो दर्जन से अधिक महिला शिक्षा मित्रों को हिरासत में लेकर घंटों पुलिस लाइन में बिठाया रखा। शिक्षा मित्रों के प्रदर्शन को गोरखनाथ मंदिर जाने से रोकने के लिए डीएम और डीआईजी पर सड़क पर उतर आए थे।

index
सुप्रीम कोर्ट द्वार शिक्षा मित्रों को सहायक शिक्षक पद पर समायोजन रद किए जाने के निर्णय से शिक्षा मित्र अपने भविष्य को लेकर आशंकित हैं। उनके अंदर जबर्दस्त क्षोभ है और वे मांग कर रहे हैं कि प्रदेश सरकार उन्हें सहायक शिक्षक बनाए रखे और इसके लिए नीति बनाकर उसे कानूनी वैधता दे।

arrest

शिक्षा मित्रों ने 26 जुलाई को सैकड़ों की संख्या मंे गोरखनाथ मंदिर के गेट पर प्रदर्शन किया था। प्रदर्शनकारियों की बढ़ती भीड़ देख प्रशासन ने मंदिर गेट को बंद करा दिया था।
आज प्रदर्शन के दूसरे दिन बड़ी संख्या में देवरिया व कुशीनगर से शिक्षा मित्र गोरखपुर पहुंचे और गोरखपुर विश्वविद्यालय के पंत पार्क में एकत्र हो गए।

महिला शिक्षा इतर

दूसरी तरफ गोरखपुर जिले के शिक्षा मित्र नगर निगम परिसर स्थित लक्ष्मी बाई पार्क में जमे और प्रदेश सरकार की सद्बुद्धि के लिए यज्ञ की तैयारी करने लगे। शिक्षा मित्रों के एक दिन के पहले के प्रदर्शन को देखते हुए आज प्रशासन पहले से सर्तक था और उसने धर्मशाला पुल के नीचे जबर्दस्त घेराबंदी कर रखी थी ताकि प्रदर्शनकारी गोरखनाथ मंदिर की तरफ न जा सके।

shiksha mitr 4

दरअसल प्रदर्शनकारी गोरखनाथ मंदिर जाकर मुख्यमंत्री के कार्यालय में ज्ञापन देना चाहते थे।
दोपहर में पंत पार्क पर एकत्र शिक्षा मित्र गोरखनाथ मंदिर की तरफ जाने लगे। पुलिस ने उन्हें धर्मशाला पुल के नीचे रोकने की कोशिश की। नारेबाजी करते शिक्षा मित्र जब दबाव बढ़ाने लगे तो पहले उन पर लाठी भांजी गई और फिर वाटर कैनन का इस्तेमाल किया गया।

shiksha mitr

धर्मशाला पुल से लेकर काली मंदिर तिराहे तक की जगह कुछ देर के लिए रणक्षेत्र में बदल गई। चारो तरफ टैफिक रूक किया। पुलिस ने दर्जनों शिक्षा मित्रों को जमकर पीटा। पुलिस की पिटाई की शिकार महिला शिक्षा मित्र भी हुईं। सरदारनगर क्षेत्र की एक शिक्षा मित्र के सिर में गंभीर चोटें आईं और वह बेहोश हो गई। उसका सीटी स्कैन कराया गया गया है।

घायल शिक्षा मित्र

इसी तरह एक शिक्षा मित्र का सिर फूट गया और वह खून से लथपथ हो गया। कुशीनगर जिले से आए संजय और रमेश भी लाठीचार्ज में बुरी तरह घायल हो गए। लाठीाचार्ज में दो दर्जन से अधिक शिक्षा मित्रों को चोर्टें आईं। इनमें से कई जिला अस्पताल में इलाज के लिए गए।

shiksha mitr 2

लाठीचार्ज से गुस्से में आए शिक्षा मि़त्रों ने काली मंदिर के पास एक बस पर पथराव किया जिससे उसके शीशे टूट गए। धर्मशाला पुल के पास एक टेम्पो को भी उलट दिया।
शिक्षा मित्रों को रोकने के लिए डीएम और डीआईजी भी सड़क पर नजर आए और अफसरों को निर्देश देते रहे। डीआईजी ने कहा कि कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए हल्का बल प्रयोग किया गया है।
शिक्षा मित्रों ने बताया कि पुलिस ने 30 महिला शिक्षा मित्रों सहित तमाम लागों को हिरासत में ले लिया और उन्हें पुलिस लाइन भेज दिया।

Leave a Comment