Templates by BIGtheme NET
e_page_level_ads: true });
Home » समाचार » शिक्षा मित्रों ने जोरदार प्रदर्शन कर तीन दिवसीय सत्याग्रह आंदोलन शुरू किया
गोरखपुर में बेसिक शिक्षा अधिकारी कार्यालय पर धरना देते शिक्षा मित्र
गोरखपुर में बेसिक शिक्षा अधिकारी कार्यालय पर धरना देते शिक्षा मित्र

शिक्षा मित्रों ने जोरदार प्रदर्शन कर तीन दिवसीय सत्याग्रह आंदोलन शुरू किया

बेसिक शिक्षा कार्यालय पर जुटे हजारों शिक्षा मित्र, योगी सरकार पर लगाया वादाखिलाफी का आरोप

गोरखपुर , 17 अगस्त. योगी सरकार पर वादाखिलाफी का आरोप लगाते हुए शिक्षा मित्रों ने आज से सभी जिलों पर बेसिक शिक्षा अधिकारी कार्यालय पर तीन दिवसीय सत्याग्रह आंदोलन शुरू कर दिया। आंदोलन के पहले दिन गोरखपुर और महराजगंज में शिक्षा मित्रों ने जोरदार प्रदर्शन किया।
गोरखपरु में शिक्षा मित्रों के प्रदर्शन का नेतृत्व उत्तर प्रदेश प्राथमिक शिक्षा मित्र संघ के जिलाध्यक्ष व आदर्श शिक्षा मित्र वेलफेयर एसोसिएशन के अध्यक्ष गदाधर दुबे ने किया। इस मौके पर हुई सभा को सम्बोधित करते हुए शिक्षा मित्रों ने कहा कि 25 जुलाई को सुप्रीम कोर्ट द्वारा समायोजन रद किए जाने से शिक्षा मित्र दुखी हैं। उन्हें उम्मीद थी कि सरकार उनके बारे में सकरात्मक निर्णय लेगी।

भाजपा ने अपने घोषणा पत्र में शिक्षा मित्रों को न्याय देने की बात कही थी। प्रधानमंत्री ने वाराणसी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गोरखपुर केकी सभा में कहा कि शिक्षा मित्रों की जिम्मेदारी उनकी है लेकिन अब सत्ता में आने के बाद वे अपने वादे भूल चुके हैं। शासन स्तर पर कई दौर की वार्ता के बावजूद सरकार अपनी हठवादिता पर कायम है और शिक्षा मित्रों की बात नहीं मान रही है। उल्टे बार-बार हटाने की धमकी दे रही है।

शिक्षा मित्रों का प्रदर्शन _महराजगंज

महराजगंज में बेसिक शिक्षा अधिकारी कार्यालय पर धरना देते शिक्षा मित्र

मुख्यमंत्री ने बातचीत के दौरान कहा था कि वे इस समस्या का स्थाई हल निकालेंगे लेकिन अब शिक्षा मित्रों से कहा जा रहा है कि दस हजार मानदेय पर कार्य करें जो कि हमें हरगिज स्वीकार नहीं है।
सभा में शिक्षा मित्रों ने नया अध्यादेश लाकर सभी शिक्षा मित्रांे को सहायक अध्यापक पद पर स्थापित करने की मांग की गई। यह भी कहा गया कि सरकार सुप्रीम कोर्ट में पुनर्विचार याचिका दायर करे। समायोजन रद होने की खबर के बाद सदमे से मरने वाले शिक्षा मित्रांे के घर के एक सदस्य को नौकरी और 20 लाख की आर्थिक सहायता भी देने की मांग की। शिक्षा मित्रों के नेता अजय सिंह और गदाधर दुबे ने कहा कि 19 अगस्त तक तीन दिवसीय सत्याग्रह के बाद भी सरकार बात नहीं माती है कि 21 अगस्त को लखनउ में विशाल प्रदर्शन किया जाएगा। सभा में बेचन सिंह पटेल, रामनगीना निषाद, अतुल राय, अविनाश कुमार, अशोक चन्द्र, अमित राय, आफाश समानी आदि ने अपने विचार रखे।
महराजगंज में भी शिक्षा मित्रों ने बेसिक शिक्षा कार्यालय पर प्रदर्शन किया और सरकार पर वादाखिलाफी का आरोप लगाते हुए मांगों को जल्द पूरा करने को कहा।

e_page_level_ads: true });

About गोरखपुर न्यूज़ लाइन

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*