समाचार

सपा ने अमन मणि को बनाया प्रत्याशी, अखिलेश सिंह समर्थकों को झटका

पूर्व मंत्री अमरमणि त्रिपाठी के बेटे हैं अमन मणि, पत्नी की हत्या के हैं आरोपी, चल रही है सीबीआई जांच
महराजगंज, 3 अक्टूबर। समाजवादी पार्टी ने पत्नी की हत्या के आरोप में सीबीआई जांच का सामना कर रहे अमन मणि त्रिपाठी को महराजगंज जिले के नौतनवां से प्रत्याशी बनाया है। आज जारी सपा के 7 प्रत्याशियों की सूची में अमन मणि का नाम है। सपा ने उन्होंने वर्ष 2012 में भी टिकट दिया था लेकिन वह कांग्रेस प्रत्याशी कौशल सिंह उर्फ मुन्ना सिंह से हार गए थे।
मुन्ना सिंह को 76584 मत मिले थे जबकि अमन मणि को 68747 मत मिले थे।
अमन मणि त्रिपाठी पूर्व मंत्री अमर मणि त्रिपाठी के बेटे हैं। अमर मणि त्रिपाठी और उनकी पत्नी मधु मणि कवयित्री मधुमिता की हत्या के आरोप में आजीवन कारवास की सजा काट रहे हैं। दोनों इस समय गोरखपुर के जेल में बंद हैं।

अमनमणि की पत्नी सारा की एक संदिग्ध मार्ग दुर्घटना में मौत हो गई। गाड़ी खुद अमनमणि चला रहे थे। सारा की मां ने सीमा सिंह ने अमनमणि पर हत्या का आरोप लगाया और उनकी मांग पर इस मामले की जांच सीबीआई को सौंप दी गई है। इसके पहले अमनमणि पर एक ठेकेदार के अपहरण का मामला दर्ज हुआ था। हाल में अपने पिता के नौतनवा स्थित कार्यालय के लेकर हाईकोर्ट में चल रहे मामले में उन पर वादी साजिद को कोर्ट रूम में धमकी देने का आरोप लगा। इस मामले में हाईकोर्ट के आदेश पर उनके खिलाफ अवमानना केस भी दर्ज हुआ है।

अमनमणि को टिकट मिलने से सपा के वरिष्ठ नेता और पूर्व सांसद अखिलेश सिंह व उनके समर्थकों को करारा झटका लगा है। वर्तमान विधायक कौशल सिंह उर्फ मुन्ना सिंह, अखिलेश सिंह के छोटे भाई हैं। भाई के साथ वह सपा में ही सक्रिय रहे हैं लेकिन पिछले विधानसभा चुनाव में टिकट नहीं मिलने पर कांग्रेस से चुनाव लड़े और जीते। कांग्रेस का विधायक होने के बावजूद वह सपा के ही कार्यक्रमों में नजर आते थे। हाल मंे विधान परिषद व राज्य सभा चुनाव में भी उन्होंने सपा प्रत्याशियों के पक्ष में मतदान किया था। वह सार्वजनिक तौर पर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को अपना नेता घोषित कर चुके थे। उम्मीद की जा रही थी कि सपा इस बार उन्हें ही प्रत्याशी बनाएगी लेकिन अमन मणि को प्रत्याशी बनाने से उन्हें निराशा हुई है।