समाचार

साइकिल ट्रैक की सफाई कर ट्रैक तोड़ने के निर्णय का विरोध किया

गोरखपुर, 27  जुलाई.  पूर्वांचल सेना  और अम्बेडकरवादी छात्र सभा ने प्रदेश सरकार द्वारा साइकिल ट्रैक को तोड़ने के निर्णय का विरोध आज अनूठे तरीके से किया. दोनों संगठनों से जुड़े युवाओं ने आज विश्वविद्यालय के आस-पास बने साइकिल ट्रैक पर जमे कूड़े कचरे को साफ कर योगी सरकार के साइकिल ट्रैकों को तोड़ने के निर्णय का विरोध करते हुए साइकिल ट्रैक को बचाने की मुहिम का आगाज किया ।
इस मुहिम का नेतृत्व कर रहे पूर्वांचल सेना के अध्यक्ष धीरेंद्र प्रताप ने कहा कि वाहनों के प्रदूषण से जहरीली होती हवा, ग्लोबल वार्मिंग और जटिल ट्रैफिक समस्याओ को देखते हुए साइकिल चालान को बढ़ावा देने के बजाए साइकिल ट्रैकों को तुड़वाना गलत, मूर्खतापूर्ण और द्वेषवश लिया गया निर्णय है . उन्होंने कहा कि देश मे ऐसी परिस्थितियां और मानसिकता बनाई गई है कि साइकिल आम आदमी, गरीब आदमी ही चलाता है, यही कारण है कि साइकिल चलाने वाले को हेय दृष्टि से देखा जाता है और सड़क पर चलने वाले वाहन धारी साइकिल चालको के प्रति उपेक्षित रवैया रखते है। उत्तर प्रदेश में पिछली सरकार द्वारा साइकिल ट्रैक बनवाने से साइकिल सवारों को सम्मान बोध तो हुआ ही था साथ ही साथ साइकिल स्पोर्ट्स और शौकिया साइकिल चलाने वालों में भी बढ़ोतरी हुई थी । उन्होंने कहा कि साइकिल ट्रैक तुड़वाने के बजाए नए साइकिल ट्रैकों, साइकिल स्टैंडों का निर्माण कराना चाहिए, साइकिल ट्रैक तोड़े गए तो सरकार आंदोलन के लिए तैयार रहे ।

bysycle trek 1

कार्यक्रम में शामिल छात्र नेता अन्नू प्रसाद ने कहा कि योगी सरकार ने 15 जून तक सड़को को गड्ढा मुक्त करने का दावा किया था जो फ्लॉप रहा. अपने इस असफलता को छिपाने के लिए तमाम अतार्किक कारण बताकर साइकिल ट्रैकों को निशाना बनाया जा रहा है । उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय में पढ़ने आने वाले छात्र बड़ी संख्या में साईकिल प्रयोग करते है, साइकिल ट्रैक बनने से उन्हें एक अलग जगह मिली थी पर वर्तमान सरकार के साइकिल ट्रैकों के प्रति नकारात्मक रवैये के कारण साइकिल ट्रैकों पर अतिक्रमण हो चुका है । उन्होंने कहा कि साइकिल ट्रैकों को तोड़ने के निर्णय का विरोध करते है । और अगर ऐसा किया गया तो छात्रों ले द्वारा भी गंभीर आंदोलन किया जाएगा ।
इस अवसर पर प्रणय कुमार श्रीवास्तव, अमर सिंह पासवान, सुरेंद्र वाल्मीकि, प्रशांत कुमार, मोoअख्तर, सुनील पासवान,अमित सिंघानिया,  इंद्रेश यादव, योगेंद्र बौद्ध, सत्येंद्र प्रताप, भास्कर चौधरी, पवन यादव, सत्येंद्र प्रताप, जितेंद्र प्रताप, अश्वनी कुमार भारी संख्या में पूर्वांचल सेना और अम्बेडकरवादी छात्रसभा के कार्यकर्ता मौजूद रहे ।