जनपद

सूफी संत हरियरा बाबा की मजार पर जुटे हजारों जायरीन

लक्ष्मीपुर (महराजगंज), 30अक्टूबर। मोगलहा स्थित सूफी संत हरियरा बाबा की मजार पर हजारों की संख्या में पहुँचे जायरीनों ने चादर, मुर्गा, सिरनी चढा़कर सलामती की दुआ माँगी.  उर्स की शुरुआत गुलपोशी व चादर पोशी से हुई.

उर्स का मुख्य कार्यक्रम गागर शरीफ व महफिले शमाँ रात में शुरू हुआ जो पूरी रात चलता रहा.  महफिले शमां मे कव्वालो मे के एन लाल,  जामीन अली, तवारक, शमसुद्दीन, शिवलला पाठक,  अव्वास अली,  अनवर वारसी सहित लोगो ने सूफी संत का बखान किया।
शनिवार व रविवार सुबह से ही मजार पर पूर्वांचल के विभिन्न जिलों सहित पड़ोसी देश नेपाल  के जायरीनों का जमावड़ा शुरू हो गया जो देर रात तक चलता रहा | मजार पर पहुँचे लोगों ने मजार पर चादर चढ़ाया. परिवार के साथ पहुँचे जायरीनों ने  मजार के आसपास मुर्गा पका कर फ़ातिहा करा कर प्रसाद के रूप में ग्रहण किया. फिर रात में उर्स का मुख्य कार्यक्रम गागर शरीफ व महफिले शमाँ की शुरूआत हुआ जो पूरी रात तक चलता रहा.  कव्वालों ने एेसा शमाँ बाँधा की जायरीन झूमते नजर आये. दूर-दराज से आये तमाम कव्वालों ने अपने मधुर धुन से लोगों को मन्त्रमुग्ध कर दिया. हजारों की संख्या में आए लोगों को नियन्त्रित करने के लिए पुलिस व मजार के तरफ से लगाये गये स्वयं सेवको को काफी मशक्कत करनी पड़ी.  पुलिस को भीड़ नियन्त्रण के लिए मजार के एक किलोमीटर पहले ही बैरीकेडिंग कर चार पहिया वाहनों को रोकना पड़ा |