सूर्य महोत्सव में बाल कलाकार स्वरा ने बिखेरे सुरों के कई रंग

कुशीनगर। कुशीनगर के गुप्तकालीन सूर्य मन्दिर को पर्यटन के नक्शे पर लाने की कोशिशों के तहत आयोजित पांच दिवसीय सूर्य महोत्सव का रविवार की रात रंगारंग समापन हो गया। बाल कलाकार स्वरा त्रिपाठी समेत अनेक कलाकारों की प्रस्तुतियों का लोगों ने जमकर आनंद उठाया।

इस मौके पर मुख्य अतिथि अपर पुलिस महानिदेशक दावा शेरपा ने प्रयासों की सराहना की और हर सम्भव सहयोग देने का भरोसा दिया।

महोत्सव का आयोजन एक समाचार चैनल ने किया था। महोत्सव के दौरान कृषि प्रदर्शनी, क्रिकेट और मैराथन प्रतियोगिता और सांस्कृतिक सन्ध्या समेत कई कार्यक्रम आयोजित किये गए थे। समापन की रात यूं तो कई कलाकारों ने अपनी प्रतिभा के जलवे बिखेरे पर दर्शक मुरीद शान-ए-अवध पुरस्कार से सम्मानित बाल कलाकार स्वरा के सुरों के हुए। एडीजी पुलिस दावा शेरपा और डीएम आंद्रा बामसी समेत उपस्थित लोग स्वरा की प्रतिभा के कायल हुए ही स्वरा जैसी प्रतिभाओं को निखारने के चैनल के प्रयासों की भी सराहना की।

sury mahotshw 2

स्वरा त्रिपाठी के गीत नृत्य ‘अपने सजन की मैं बनूँ रे जोगनिया…..ने सर्वाधिक वाहवाही बटोरी। ए धरती हिंदुस्तान की….प्रस्तुति ने माहौल को देशभक्ति की भावना से ओत प्रोत कर दिया। स्वरा की बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ व स्वच्छता विषयक  सामयिक प्रस्तुतिया भी सराही गई। संतराज गोरखपुरी के देवी गीत,पचरा और आर्यन गुप्ता, नमस्वी गुप्ता व मनीष मौर्य के बेहतरीन नृत्य को भी सराहना मिली।

अपर पुलिस महानिदेशक दावा शेरपा ने इस मौके पर दो दशक पूर्व कुशीनगर के पुलिस अधीक्षक रहते सूर्य मन्दिर से अंतर्राष्ट्रीय मूर्ति तस्करों के गिरोह द्वारा नीलमणि पत्थर की बनी  गुप्तकालीन सूर्य प्रतिमा चोरी किये जाने और पुलिस द्वारा उसकी बरामदगी का उल्लेख किया। उन्होंने कहा कि सौभाग्य ने पुनः सूर्य प्रतिमा का दर्शन करने का अवसर दिया है। सुप्रीम कोर्ट के अधिवक्ता प्रदीप राय,आयोजक विनय राय ने एडीजी और डीएम को स्मृति चिन्ह प्रदान किया।

Leave a Comment

Skip to toolbar