जनपद

हजरत मुबारक खां शहीद अलैहिर्रहमां के उर्स-ए-पाक का हुआ आगाज

  • 13
    Shares
गोरखपुर,1अगस्त । नार्मल स्थित हजरत बाबा मुबारक खां शहीद अलैहिर्रहमां का सालाना उर्स-ए-पाक सोमवार को अकीदत के साथ शुरू हुआ। मुस्लिम समुदाय के अलावा अन्य धर्मो के लोगों ने बाबा की दरगाह पर अकीदत के फूल पेश कर अमन चैन व खुशहाली की दुआ मांगी।
जलसा-ए-ईद मिलादुन्नबी व दस्तारबंदी से उर्स का आगाज हुआ। भोर में 3 बजे गुस्ल एवं संदल पोशी हुई। गुस्ल व संदल पोशी कार्यक्रम में लोगों ने बढ़चढ़ कर हिस्सा लिया। बिजली के रंगबिरंगे झालरों से दरगाह का नजारा दिलकश लग रहा था।  बच्चों के मनोरंजन के लिए स्वचालित झूले, खिलौनों, मिठाईयों की दुकानें लोगों को आकर्षित कर रहे हैं।
रात्रि नमाज के बाद ईद-ए-मिलादुन्नबी व जलसा-ए-दस्तारबंदी की शुरुआत कारी शराफत हुसैन व कारी शादाब रजा ने कलाम-ए-पाक की तिलावत से की।
मुख्य अतिथि कोलकाता के मौलाना सखावत हुसैन बरकाती ने कहा कि वलियों की बारगाह से इत्तेहाद और भाईचारगी का सबक मिलता है। भटकी हुई इंसानियत के लिए राहत और सुकून आस्तानों से ही हासिल हो सकता है।
विशिष्ट अतिथि मेंहदावल के मौलाना अलाउद्दीन मिस्बाही ने कहा कि इस्लाम हमेशा से भाईचारा, समानता और अमन की बात करता आया है और इन्हीं पर यकीन करता है। इस संदेश को जन-जन जक पहुंचाने में हमारे बुजुर्गों और सूफियों ने बहुत मेहनत की है। वली दिलों को जोड़ता है। ऐसे ही वली है हजरत मुबारक खां शहीद अलैहिर्रहमां जिनके दर पर पहुंचने वाला फकीर भी फैज पाता है और  अमीर भी। गंगा जमुनी तहजीब यहीं नजर आती है।
विशिष्ट अतिथि बलरामपुर के मौलाना मोहम्मद अली निजामी ने कहा कि गोरखपुर में एक सच्चे वली हजरत मुबारक खां अलैहिर्रहमां आये जिन्होंने अपनी पाक दामिनी और सच्चे ईमान का किरदार पेश किया। नेक लोगों का जिक्र ईमान और अकीदे में मजबूती पैदा करने का बेहतरीन जरिया है।
नात-ए-पाक मुहम्मद इस्लाम गाजीपुरी, कमाल अख्तर अदरी मऊ व गोरखपुर के एजाज अहमद ने पेश ने की। अध्यक्षता सैयद मोहम्मद अली मोहतिसम कबीर ने व संचालन मौलाना मकसूद आलम मिस्बाही ने किया। कार्यक्रम के अंत में फैजान-ए-मुबारक खां शहीद मदरसा के तालिबे इल्म हाफिज मोहम्मद आरिफ रजा की दस्तारबंदी की गयी। सलातो सलाम पढ़ कौमों मिल्लत की सलामती के लिए दुआ की गयी। भोर में मजार शरीफ की  गुस्ल व संदल पोशी रिवायत के अनुसार की गयी।
इस दौरान दरगाह के सदर इकरार अहमद, सैयद शहाब, मोहम्मद अली, शमसीर अहमद शेरू, तौकीर किक्कू, वहाज, अहमद हसन, सैयद सदफ, रमजान, बाॅबी, एजाज अहमद, सरवर, कुतुबुद्दीन, इमरान खान, अनवर आलम, कलीम, उमर कादरी, मोहम्मद कमर उर्फ राजू, रणवीर सिंह, दानिश गोरखपुरी, सद्दाम, महेन्द्र सिंह राणा, अनिल, राजा, मुफ्ती अख्तर हुसैन, शाहबाज़ खान, मौलाना रईसुल कादरी, मौलाना शमसीर अहमद, मोहम्मद राजिक, नियाज अहमद, मौलाना शम्सुद्दीन, नुरूज्जमां, नजरे आलम, मकबूल अहमद, शौकत अली नूरी, फैजुल्लाह बरकाती, अब्दुल्लाह बरकाती, मोहम्मद मुस्तकीम निजामी, सफीउल्लाह, यार मोहम्मद, फखरूद्दीन, मोहम्मद अहमद, मोहम्मद अजहर शम्सी, युनूस आलम, नेमतुल्लाह, अली अहमद, मोहम्मद अयूब, मोहम्मद हुसैन, मोहम्मद आलम, रहमत अली,, हिदायतुल्लाह, अफजल हुसैन, बदरूल हसन, शमसुद्दीन, सदरे आलम, मोहम्मद उस्मान, सहित तमाम लोगों ने शिरकत किया।
कुल शरीफ, चादर व गागर का जुलूस आज
 हजरत मुबारक खां शहीद अलैहिर्रहमां के सालाना उर्स के मौके पर मंगलवार को फज्र की नमाज के बाद कुरआनी खानी होगी। सुबह 10 बजे कुल शरीफ का कार्यक्रम होगा। शाम 5 बजे सरकारी चादर व गागर का शानदार जुलूस तुर्कमानपुर जफर क्लाथ हाउस से निकलेगा जो तुर्कमानुपर, हाल्सीगंज, मिर्जापुर, साहबगंज, खुनीपुर, नखास चौक, रेती चौक , घण्टाघर, पाण्डेयहाता, नार्मल स्कूल होते हुए आस्ताना आलियां पर पहुंचेगा। बाद नमाज मगरिब सरकारी चादर व गागर आस्तान-ए-आलिया पर पेश होगी। रात्रि नमाज बाद कव्वाली का प्रोग्राम होगा।