‘ हम तो किसी के धार्मिक आयोजनों में व्यवधान नहीं डालते तो हमारे प्रार्थना सभा को क्यों रोका गया ‘ 

हिन्दू युवा वाहनी के विरोध पर प्रार्थना सभा रोके जाने से चर्च के पास्टर दुखी

ग्रामीणों ने धर्म परिवर्तन के आरोपों को नकारा 

 पुलिस ने चर्च के पास्टर को नोटिस जारी किया  

सिसवा बाजार (महराजगंज) 8 अप्रैल। कोठीभार थाना क्षेत्र के ग्राम सभा डढौली स्थित सेंट एंड्रयूज चर्च में लेन डे (40दिन का उपवास) के अवसर पर शुक्रवार को आयोजित प्रार्थना सभा को  हिन्दू युवा वाहिनी कार्यकर्ताओं के विरोध पर कोठीभार पुलिस द्वारा रोके जाने के बाद आज डरे-सहमे लोग शनिवार को चर्च में नही आए। चर्च परिसर में सन्नाटा पसरा रहा। उधर कोठीभार पुलिस ने चर्च के पास्टर को नोटिस जारी कर चर्च की गतिविधियों के बारे में जानकारी मांगी है।

कल की घटना से चर्च के  के पास्टर योहन्ना आदम बहुत दुखी हैं। उन्होंने कहा कि हम तो किसी के धार्मिक आयोजनों में व्यवधान उत्पन्न नही करते। हम तो सबकी सुख शांति की दुआ करते है फिर हमारे प्रार्थना सभा को क्यों रोका गया।

c1b475f0-abd0-4a8a-9b98-6a3768ab6e6b

100 साल पुराने इस चर्च में एक मार्च से 14 अप्रैल गुड फ्राइडे 40 दिनों तक चलने वाले उपवास लेन डे के अवसर पर शुक्रवार को आयोजित प्रार्थना में 9 अमेरिकी नागरिक ( न्यूयार्क निवासी विलियम फेडमिन, एलेक्जेंडर डूडकल, रॉबर्ट कलिशियस, केविन फेडमिन, पॉवेल, गौरवेल, कजमीर कैशेन ) और यूक्रेन की 2 महिलाएं ( पटदाना वालेन और ओलेना ) समेत डेढ़ सौ स्थानीय लोग शामिल हुए थे। प्रार्थना सभा चल रहा था कि हिंदू युवा वाहिनी के कार्यकर्ता वह पहुँच गए और धर्म परिवर्तन का आरोप लगाते हुए हंगामा खड़ा कर दिया। हिन्दू युवा वाहिनी कार्यकर्ता पुलिस से पांच घण्टे तक बहस करते रहे और कार्रवाई का दबाव बनाते रहे। दबाव में आए अधिकारियों ने प्रार्थना सभा रोक दी और आयोजन के बारे में पूछताछ करने लगे। अधिकारियों ने विदेशी नागरिकों के वीजा और पासपोर्ट की जांच की और सही पाये जाने पर उन्हें जाने की इजाजत दे दी थी।

13ad606a-1b0a-4365-9bd8-7dd68b35d0ff

इस घटना से सहमे लोग शनिवार को चर्च नही पहुंचे। वहां सन्नाटा छाया रहा। चर्च के पास्टर योहन्ना आदम का कहना है कि वह  इस चर्च में 13 वर्षो से रहते आ रहे है परंतु यह पहली घटना है कि उन्हें विरोध का सामना करना पड़ा। वह भी विदेशी मेहमानों के सामने। हम तो किसी के धार्मिक आयोजनों में व्यवधान उत्पन्न नही करते हम तो सबकी सुख शांति की दुआ करते है। पास्टर सुशील का कहना है हम लोगो ने किसी का धर्म परिवर्तन नही कराया। हम लोग शुक्रवार और रविवार को प्रार्थना करते थे जिस देख लोग स्वेच्छा से चर्च में आते और अपने दुःख तकलीफों के लिए प्रभु ईशु से पार्थना करते। कुछ लोगों की तकलीफ दूर हो गई जिसके बाद उनकी आस्था जुड़ गई और वे हमेशा आने लगे। हमें खुद कोई पैसा या लालच नही मिलता तो हम कहाँ  से किसी को देंगे। हम छात्रों के लिए रायपुर में छत्रावास चला कर उसके आय से अपना जीवन यापन करते है।

हमने धर्म परिवर्तन नही किया हमें चर्च में प्रार्थना करने से शांति मिलती है

प्रार्थना सभा में भाग लेने वाले महिला पुरुष से संपर्क करने पर उषा देवी, काजल, गुड़िया, लता, सुमन, राजकुमार, राजेश, अखिलेश, अंगद, विजेंद्र ने बताया कि हम धर्म परिवर्तन नही किये है, परंतु हमें यहां प्रार्थना करने से मन में शांति मिलती है और हमारे दुःख तकलीफ दूर होते है तो हम यहां आते रहते है। यह हमारा व्यक्तिगत मामला है। इस पर किसी को आपत्ति नही होनी चाहिए।

इस मामले को लेकर वाहिनी कार्यकर्ताओं ने कोठीभार पुलिस को चर्च की देख-रेख करने वाले योहन्ना आदम के खिलाफ तहरीर देकर कार्रवाई की मांग की थी। इस बाबत कोठीभार एस ओ आंनद गुप्ता ने बताया कि चर्च के कर्ता-धर्ता को नोटिस जारी की गई है लेकिन उन्होने यह नहीं बताया कि नोटिस में क्या सवाल जवाब किया गया है। सूत्रों ने बताया कि पुलिस ने चर्च कि गतिविधियों, कार्यक्रमों के बारे में जानकारी मांगी है और पूछा है कि विदेशी नागरिकों के कार्यक्रम में शरीक होने की जानकारी पुलिस को क्यों नहीं दी गई।
⁠⁠⁠⁠

Leave a Comment

Skip to toolbar