समाचार

जब सड़क पर उतरे और अनशन किया तब अफसर आये चक्शा हुसैन मुहल्ले में

जल जमाव से परेशान नागरिकों ने प्रदर्शन किया, तीन दिन से आमरण अनशन कर रहे थे शाकिर सलमानी

सिटी मजिस्ट्रेट और उपनगर आयुक्त के आश्वासन पर अनशन खत्म
गोरखपुर। वार्ड नंबर 64 अहमदनगर चक्शा हुसैन नूरी जामा मस्जिद के आस-पास जलजमाव और नाले के पानी की निकासी सुनिश्चित कराने के लिए 3 दिन से चल रहा आमरण अनशन शनिवार को सिटी मजिस्ट्रेट, उपनगर आयुक्त और नगर निगम के अधिकारियों के आश्वासन पर खत्म हो गया। अनशनकारी शाकिर सलमानी को सिटी मजिस्ट्रेट ने जूस पिलाकर अनशन तोड़वाया।

chaksa husain 7

हिंदू मुस्लिम एकता कमेटी की जानिब से आमरण अनशन पर शाकिर सलमानी बैठे हुए थे। इससे पहले कमेटी ने प्रशासन व नगर निगम के तमाम अधिकारियों से गुहार लगायी थी लेकिन किसी ने एक नहीं सुनी।

यह वार्ड मुस्लिम बाहुल्य है। यहां बीजेपी अल्पसंख्यक मोर्चा के एक बड़े पदाधिकारी रहते है। पार्षद भी उनका रिश्तेदार है। नगर निगम चुनाव में बीजेपी ने यहां से मुस्लिम को टिकट दिया था  जिसकी जमानत जब्त हो गई थी।

इस वार्ड में समस्याएं बहुत है लेकिन समाधान बिल्कुल नहीं। बीजेपी सरकार के स्वच्छता अभियान की पोल यहीं खुलती है। मुकद्दस रमजान के करीब होने पर यहां के लोगों का सब्र जवाब दे गया। मजबूर होकर उन्हें सड़कों पर उतरना पड़ा।

chaksa husain 5

शनिवार को सिटी मजिस्ट्रेट, उपनगर आयुक्त और नगर निगम के अधिकारियों ने काफी मान मनौव्वल किया।  सिटी मजिस्ट्रेट ने मुख्यमंत्री के शहर में होने का हवाला दिया। उन्होंने कहा कि आपकी जो भी मांग है हमारे सामने रखिए और जिलाधिकारी से वार्ता करिए। शाकिर ने जिलाधिकारी से फोन पर वार्ता की.  जिलाधिकारी ने समस्या के जल्द समाधान का आश्वासन दिया।

इस मौके पर 13 सूत्रीय मांग पत्र सिटी मजिस्ट्रेट को सौंपा गया। सिटी मजिस्ट्रेट ने सोमवार को कमेटी के एक प्रतिनिधिमंडल को जिलाधिकारी से मिलाने का वादा किया। इस दौरान समाजसेवी आदिल अमीन भी मौजूदे थे.

[box type=”shadow” ] मांग

नाले के निर्माण और नाले की सफाई रोड का निर्माण

जगह-जगह टूटे नाले का निर्माण

मस्जिदों के पास जो क्रास टूटे हुए है उसे सही किया जाए

सफाई कर्मचारियों की संख्या बढ़ायी जाय

अहमदनगर के जेई और यहां के सुपरवाइजर को हटाया जाय [/box]

लोगों ने आशा व्यक्त किया है कि रविवार से साफ-सफाई का काम शुरू हो जाएगा। अनशन में शमशाद खान भोला, समाज सेवी काजी आदिल अमीन, इंजीनियर एसएस पांडे, सुधीर झा, राणा राहुल सिंह, फैज अहमद फैजी, हाजी नोमान, मसूद आलम उर्फ ताहिर, हाजी हसीन खान, जावेद खान, सोनू खान, गुलाम गौस उर्फ जख्मी सहित मोहल्ले वालों का भारी  समर्थन रहा।

Skip to toolbar