समाचार

अंबेडकराइट स्टूडेंट यूनियन फार राइट्स ने संविधान बचाओ मशाल यात्रा निकाली

गोरखपुर. बाबा साहब डा. भीमराव अंबेडकर के 62वें परिनिर्वाण दिवस की पूर्व संध्या पर 5 दिसम्बर को  छात्र संगठन अंबेडकराइट स्टूडेंट यूनियन फार राइट्स (असुर, ASUR) के कार्यकर्ताओं ने आज “संविधान बचाओ मशाल यात्रा” निकाली. गोरखपुर विश्वविद्ध्यालय मुख्य द्वार से आंबेडकर चौक तक निकली  इस मशाल यात्रा में शामिल कार्यकर्ताओं का कहना था कि बाबा साहब के संवैधानिक अधिकारों और देश की संवैधानिक संस्थाओं को बचाकर के ही बाबासाहेब अंबेडकर को सच्ची श्रद्धांजलि अर्पित की जा सकती है.

मशाल यात्रा में शामिल कार्यकर्ताओं ने ‘ जय भीम ‘  , ‘ बाबा साहब अंबेडकर अमर रहे ‘ , ‘ संविधान जिंदाबाद-लोकतंत्र जिंदाबाद ‘ के गगनभेदी नारे लगाये.

संविधान बचाओ मशाल यात्रा” का नेतृत्व कर रहे असुर के जिला संयोजक मंजेश कुमार ने पत्रकार बन्धुओ से बात करते हुए कहा कि देश के संविधान, संवैधानिक अधिकारों व संवैधानिक संस्थाओं को बचाना ही बाबा साहब अम्बेडकर को सच्ची श्रद्धांजलि होगी. आज बाबा साहब अंबेडकर के परिनिर्वाण दिवस की पूर्व संध्या पर हम संविधान बचाओ मशाल यात्रा निकालकर संवैधानिक अधिकारों संवैधानिक संस्थाओं, संविधान की मूल भावना समता, स्वतंत्रता, न्याय, बंधुत्व को बचाएं रखने के संघर्ष को जिंदा रखने के लिए संकल्पित हो रहे है। साथ ही सरकारों को आगाह करना चाहते हैं कि बाबा साहब अंबेडकर की मूर्तियों पर माला पहनाने से नहीं बल्कि उनके विचारों पर चलने से काम होगा, देश का भला होगा । उन्होंने कहा कि एक तरफ कार्यक्रमों का आयोजन करके,बैनर पोस्टर लगाकर बाबा साहब के नाम पर वोट साधने की कोशिश हो रही है दूसरी तरफ एक-एक करके देश की सारी संवैधानिक संस्थाओं को नष्ट करने के साथ अम्बेडकरवाद की बात करने वालो, अंबेडकर के दिए अधिकारों के लिए संघर्ष करने वालो को कुचला जा रहा है, इसे बर्दाश्त नहीं किया जायेगा.

मशाल यात्रा में राहुल चंद्रा, प्रताप गौतम, राजन कुमार, सतीश चंद्र, विशाल राजा, पंकज कुमार, इश कुमार, विक्की जयसवाल, सतीश चंद्र सिंघम, कमलेश गगहा, अमित सिंघानिया, प्रशांत कुमार, मंजेश कुमार, सुधीराम रावत, सचिन कुमार, अखंड मित्रा, अभय प्रताप, निलेश कुमार, सोनू सिद्धार्थ, पवन कुमार, भास्कर चौधरी, नीतीश कुमार, प्रदीप कुमार, अमरजीत, अखिल प्रताप, शाहिद खान, लक्ष्मण कुमार, राजेश निषाद, सुमित कुमार, सुरेंद्र बाल्मीकि समेत तमाम कार्यकर्ता मौजूद रहे।

Leave a Comment