Templates by BIGtheme NET
e_page_level_ads: true });
Home » Author Archives: गोरखपुर न्यूज़ लाइन (page 310)

Author Archives: गोरखपुर न्यूज़ लाइन

कुपोषित तो हैं 12 हजार लेकिन पहुंचे सिर्फ चार

109718-chinese-scientists

कुपोषित बच्चों को लेकर यूपी गवर्नमेंट कई योजनाएं चला रही है। माह में दो से तीन बार डीएम व सीडीओ जिले में कुपोषित बच्चों की स्थिति जानने के लिए समीक्षा मीटिंग भी लेते हैं। सीएमओ सहित अन्य अधिकारियों को निर्देशित करते हैं कि कुपोषित बच्चों के लिए चलाई जा रही योजनाओं में किसी भी तरह की कोई लापरवाही न बरती ...

Read More »

शराबी कर्मचारियों का रजिस्ट्रार उतारेंगे नशा

20_04_2016-ddugu_g_200416

GORAKHPUR: शराब पीकर काम करने वाले डीडीयूजीयू कर्मचारियों की अब खैर नहीं है। रजिस्ट्रार ऐसे कर्मचारियों की लिस्ट बनवा रहे हैं जो ऑन ड्यूटी शराब के नशे में धुत रहते हैं। यूनिवर्सिटी प्रशासन के मुताबिक इन सभी को चिन्हित करके इनका मेडिकल कराया जाएगा। पुष्टि होने पर इनके खिलाफ विभागीय कार्रवाई की जाएगी. रजिस्ट्रार से भिड़ चुका है कर्मचारी पिछले ...

Read More »

महाराजगंज में तेंदुए के हमले में 8 घायल

महाराजगंज, 21 अप्रैल। उत्तर प्रदेश में पश्चिम के बाद अब पूर्वी क्षेत्र में तेंदुआ का कहर बरपा है। आज सुबह महराजगंज जिले में तेंदुआ ने ग्रामीणों पर हमला बोल दिया। आठ ग्रामीणों को घायल करने के बाद तेंदुआ वन विभाग की टीम की गिरफ्त में आ गया। महराजगंज के पुरन्दरपुर थाना क्षेत्र के देवपुर गांव में आज सुबह करीब सात ...

Read More »

भूकंप के पूर्वानुमान का नया तरीका ‘स्लो फाल्ट मूवमेंट’

108899-earthquake

अब तक वैज्ञानिकों का मानना है कि छोटे कंपन या ‘स्लो फाल्ट मूवमेंट’ से रिएक्टर पैमाना पर दो इकाई से कम के भूकंप के झटके के बाद बड़ा भूकंप आने की संभावना नहीं होती है। हालांकि सिंगापुर के नानयांग प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय (एनटीयू) के अनुसंधानकर्ताओं ने पाया कि ये कंपन न केवल आसन्न भूकंप की ओर इशारा करते हैं बल्कि उन्होंने ...

Read More »

बुजुर्ग भी इसलिए करते हैं फेसबुक से ‘दोस्ती’!

109381-429782-fb

न सिर्फ युवा बल्कि बुजुर्ग भी फेसबुक के सबसे तेजी से बढ़ रहे समुदाय का हिस्सा बन रहे हैं। शोधकर्ताओं के दल ने यह जानकारी दी। इस दल में एक भारतीय मूल के शोधार्थी व पेन्सिलवेनियास्टेट यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर एस. श्याम सुंदर भी हैं। उनका कहना है कि बुजुर्ग भी फेसबुक से उन्हीं कारणों से जुड़ते हैं जिसके कारण युवक-युवतियां ...

Read More »

अंतरिक्ष में चूहे का भ्रूण विकसित, चीनी वैज्ञानिकों ने किया दावा

109718-chinese-scientists

चीनी शोध अकादमी (सीएएस) के शोधकर्ता दुआन एनकुई ने बताया कि छह अप्रैल को प्रक्षेपित एसजे-10 शोध उपग्रह में किसी माइक्रोवेव ओवेन की आकार के चैंबर में चूहे के 6,000 से ज्यादा भ्रूण विकसित किए गए। सरकारी समाचार एजेंसी ‘शिन्हुआ’ ने खबर दी कि इनमें से 600 भ्रूणों को ऊंची रेजोल्यूशन वाले एक कैमरे के सामने रखा गया जिससे चार दिनों ...

Read More »

नासा के अंतरिक्ष यान ने पहली बार किया सौरमंडल में धूल की संरचना का विश्लेषण

109501-nasa-casini

शनि ग्रह की कक्षा से गुजरने वाले धूल कणों की तीव्रता 72,000 किलोमीटर प्रति घंटा है। कैसिनी ने पहली बार किसी धूल की संरचना का विश्लेषण किया है, जो बर्फ नहीं है, बल्कि खनिजों का एक बहुत ही विशेष मिश्रण है। धूल कणों का कैसिनी के विशेष ब्रह्मांडीय धूल विश्लेषक (कॉस्मिक डस्ट एनालाइजर) उपकरण ने पता लगाया गया है। नासा ...

Read More »

कैंसर कोशिकाओं को खत्म कर सकता है कोलेस्ट्रॉल से लड़ने वाला अणु

109551-cancer-cells

अनुसंधानकर्ताओं ने कहा है कि प्रोस्टेट कैंसर से लड़ने के उपचार की मानक तकनीक में कीमोथेरेपी को शामिल किया जा सकता है जो कैंसर की कोशिकाओं को खत्म करता है। उन्होंने बताया कि हालांकि कीमोथेरेपी के दौरान दवा प्रतिरोधी कैंसर कोशिकाएं उभर सकती हैं, जिससे कैंसर से लड़ने वाले एजेंट के रूप में इसकी क्षमता प्रभावित होती है। अमेरिका के ...

Read More »

जीएम सरसों के मामले में पर्यावरण मंत्रालय की खिंचाई, जानकारी सार्वजनिक करने के निर्देश

gm-mustard-650_650x400_51459956452

नई दिल्ली: केंद्रीय सूचना आयोग ने जेनेटिकली मोडिफाइड (जीएम) फूड के मामले में पारदर्शिता न बरतने के लिये पर्यावरण मंत्रालय की खिंचाई की है। केंद्रीय सूचना आयोग ने सरकार से कहा है कि वह जीएम मस्टर्ड (सरसों) से जुड़ी सारी जानकारी और आंकड़े 30 अप्रैल से पहले सार्वजनिक करे। जीएम मस्टर्ड को हालांकि अभी खेतों में बतौर फसल उगाने और ...

Read More »

दिल्‍ली की तरह बैंगलुरु में भी लागू हो सकता है ऑड-इवन फॉर्मूला

08-1452235542-pollution-1

वायु प्रदूषण देश के लिए कैंसर वाहनों के परिचालन की वजह से शहरों में प्रदुषण की दर गाँव की तुलना में अधिक है। पिछले साल के अप्रैल महीने में प्रधानमन्त्री द्वारा ‘राष्ट्रीय एयर क्वालिटी इंडेक्स’ (AQI) प्रणाली का शुभारम्भ किया गया। जो की हवा की गुणवत्ता मापने का एक वैश्विक मानक है इसे उन शहरों में लागू किया जाएगा जिनकी ...

Read More »