समाचार स्वास्थ्य

बीआरडी मेडिकल कालेज में सात महीने में इंसेफेलाइटिस से 92 लोगों की मौत

इंसेफलाईटिस से प्रभावित बच्चा (फाइल फोटो)
  • 18
    Shares

गोरखपुर. इस वर्ष के सात महीने (जनवरी से जुलाई) में इंसेफेलाइटिस से बीआरडी मेडिकल कालेज में 92 लोगों की मौत हो चुकी है जिसमें अधिकतर बच्चे थे.

पिछले दो वर्षों के मुकाबले इन सात महीनों में इंसेफेलाइटिस के मरीजों की संख्या और मौत में कमी है लेकिन मृत्यु दर काफी ऊँची यानि 32.24 फीसदी हो गई है जो चिंता का विषय है.

बीआरडी मेडिकल कालेज में एक जनवरी से 31 जुलाई तक इंसेफेलाइटिस के 278 मरीज भर्ती हुए. इनमें 92 की मौत हो गई.

बीआरडी में इंसेफेलाइटिस सबसे मरने वाले मरीजों में गोरखपुर और बिहार के सर्वाधिक थे. इन सात महीनों में बिहार और गोरखपुर जिले के 20-20 इंसेफेलाइटिस मरीजों की मौत हुई है. इसके अलावा कुशीनगर जिले के 14, देवरिया जिले के 12, महराजगंज जिले के  08, बस्ती जिले के 4, सिद्दार्थनगर के 8 और संतकबीरनगर व मउ जिले के 3-3  इंसेफेलाइटिस रोगियों की मौत हुई है.

बीआरडी मेडिकल कालेज सहित चार जिलों-गोरखपुर, महराजगंज, देवरिया और कुशीनगर में इस वर्ष एक जनवरी से 25 जुलाई तक  इंसेफेलाइटिस (एक्यूट इंसेफेलाइटिस सिंड्रोम) से 57 रोगियों की मौत हुई है. इस दौरान इंसेफेलाइटिस के कुल 439 मरीज बीआरडी मेडिकल कालेज के अलावा चारों जिलों के जिला अस्पताल, सीएचसी व पीएचसी में भर्ती हुए. इन चार जिलों में एक मरीज में जापानी इंसेफेलाइटिस की पुष्टि हुई और उसकी मौत हो गई. यह मरीज गोरखपुर जिले का था.

वर्ष 2016 में इसी अवधि में इन चार जिलों में एईएस (एक्यूट इंसेफेलाइटिस सिंड्रोम) के 500 मरीज सरकारी अस्पतालों में भर्ती हुए जिसमे 69 की मौत हो गई. इसके अलावा इन चार जिलों में जापानी इंसेफेलाइटिस  (जेई)  के 11 मरीज सरकारी अस्पतालों में भर्ती हुए जिसमें दो की मौत हो गई.

बीआरडी मेडिकल कालेज में इंसेफेलाइटिस (जेई/एईएस)से मौतें

Month 2016    2017    2018
case death case death case death
Jan 26 10 31 o9 21 06
Feb 47 09 35 06 32 09
March 35 14 38 18 31 18
April 25 11 33 10 45 07
May 38 16 43 12 38 18
June 46 13 49 14 48 15
July 155 23 149 33 63 19
Total 372 96 378 102 278 92
% 25.80   26.98   33.09

 * आंकड़े 31 जुलाई 2018 तक के हैं

Skip to toolbar