Templates by BIGtheme NET
Home » विचार

विचार

व्यवहार के दार्शनिक विवेकानन्द

Swami-Vivekananda

सदानन्द शाही विवेकानन्द की एक किताब है-मेरा भारत,अमर भारत। हर उस व्यक्ति को जो देश से प्रेम करता है और देश के लिए कुछ करना चाहता है,यह किताब जरूर पढनी चाहिए।इस किताब में विवेकानन्द ने अपने भारत की कल्पना की है ।साथ ही कल्पना को साकार करने के उपाय बताये हैं। राष्ट्रीय पतन के कारणों पर विचार करते हुए विवेकानन्द ...

Read More »

कबीर : काशी से मगहर

maghar kabir ki samadhi and mazar

सदानन्द शाही कल देर रात किसी पत्रकार ने फोन कर के पूछा कि मगहर में कबीर का निर्वाण हुआ था,वहां कबीर जयन्ती मनाना आपकी नजर में उचित है या अनुचित।मैंने छूटते ही जवाब दिया कि कबीर जिस तरह के संत और कवि हैं उनकी जयन्ती कहीं भी मनाना उचित है फिर मगहर तो कबीर की निर्वाण भूमि है ,वहां कबीर ...

Read More »

मार्क्स का चिंतन सिर्फ आर्थिक नहीं सम्पूर्ण मनुष्यता का चिंतन है: रामजी राय

marx and our time 3

गोरखपुर। मार्क्स ने मुनष्य को एक समुच्चय में नहीं एक सम्पूर्ण इकाई के रूप में समझा और कहा कि वह एक ही समय में आर्थिक, राजनीतिक, दार्शनिक, सांस्कृतिक होता है। उसे टुकड़ो-टुकड़ों में अलग-अलग नहीं देख सकते। सम्पूर्णता की अवधारणा मार्क्स की यह अवधारणा उस समय के दर्शन में मौजूद नहीं थी। मार्क्स का चिंतन सिर्फ आर्थिक चिंतन नहीं सम्पूर्ण ...

Read More »

शोषण से मुक्ति का रास्ता है मार्क्सवाद

mahesh ashk

गोरखपुर में कार्ल मार्क्स की 200 वी जयंती पर गोष्ठी गोरखपुर. दुनिया के महान क्रंतिकारी कार्ल मार्क्स की जयंती के 200 वी वर्षगांठ पर 5 मई को गोरखपुर विश्वविद्यालय के मजीठिया भवन में संगोष्ठी का आयोजन किया गया। इसका आयोजन भगत सिंह छात्र मोर्चा, इंकलाबी नौजवान सभा व भगत सिंह अम्बेडकर मंच के सयुक्त तत्वावधान में किया गया। संगोष्ठी का ...

Read More »

हमारे लिए तो होली बेरंग है

शिक्षा मित्र_तीसरा दिन_प्रदर्शन

  बेचन सिंह पटेल प्रदेश के शिक्षामित्रों में जहां समायोजन रद्द होने का दुख है वहीं काम के बदले दाम न मिलने का मलाल. 25 जुलाई को समायोजन निरस्त होने के बाद से ही न तो सात महीने से बेसिक के शिक्षामित्रों का मानदेय मिला और न ही सर्व शिक्षा अभियान के शिक्षामित्रों को दो माह से मानदेय मिला. इसके ...

Read More »

सिर्फ डिग्रियां बांटने वाली टीचिंग मशीन बन गयी हैं यूनिवर्सिटी : प्रो.अनिल शुक्ल

pro anil shukl

‘ भारत में शिक्षक-शिक्षा के मुद्दे ‘ पर शिक्षा शास्त्र विभाग में दो दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी गोरखपुर। गोरखपुर विश्वविद्यालय के शिक्षा शास्त्र विभाग में आयोजित ‘ भारत में शिक्षक-शिक्षा के मुद्दे ‘ विषयक आयोजित दो दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी के पहले दिन 24 फरवरी को मुख्य अतिथि महात्मा ज्योतिबा फुले रोहेलखंड विश्वविद्यालय बरेली के कुलपति प्रो.अनिल शुक्ला ने कहा कि आज ...

Read More »

बजट से गाँव और किसान के जीवन पर कोई सीधा प्रभाव नही पड़ने वाला है

budget 2018

आशुतोष राय बजट केवल सरकार के वार्षिक आय व्यय का लेखा जोखा भर नहीं होता, बल्कि एक महत्वपूर्ण राजनीतिक दस्तावेज होता है जो सरकार की प्राथमिकताओं और उद्देश्यों को स्पष्ट करता है। सीमित आय के स्रोतों को ध्यान में रखते हुए जब अर्थव्यवस्था के विभिन्न क्षेत्रों में बजट का आवंटन किया जाता है तो उससे सरकार की प्राथमिकताओं का पता ...

Read More »

प्राथमिक विफलता ?

primary-school_kushinagr

  शिक्षा अधिकार कानून के सात साल बाद जावेद अनीस भारत के दोनों सदनों द्वारा पारित ऐसा कानून जो देश के 6 से 14 के सभी बच्चों को निःशुल्क,अनिवार्य और गुणवत्तापूर्ण शिक्षा देने की बात करता है उसके सात साल पूरे होने के बाद उपलब्धियों के बारे में सोचने को बैठें तो पता चलता है कि यह कानून अपना असर ...

Read More »

अल्पसंख्यकों के लिए गिनी चुनी योजनायें , उनका भी हाल बुरा

muslim votar

अल्पसंख्यक अधिकार दिवस पर खास सैयद फरहान अहमद फिलहाल ‘सबका साथ सबका विकास’ जुमले में अल्पसंख्यक फिट नहीं बैठ रहे हैं। अल्पसंख्यकों के विकास के लिए सरकार के पास कोई ठोस योजनाएं ही नहीं है। सालों पुरानी छात्रवृत्ति व मदरसों के आधुनिकीकरण के अलावा सरकार कोई योजना नहीं है। प्री-मैट्रिक, पोस्ट मैट्रिक, मेरिट-कम-मीन्स योजना व मदरसा आधुनिकीकरण योजना योजना सालों ...

Read More »

भारत में अंतर्राष्ट्रीय बाल अधिकार समझौते के 25 साल

IMG_20170815_161543

  जावेद अनीस 20 नवम्बर 1989 को संयुक्त राष्ट्र की आम सभा द्वारा “बाल अधिकार समझौते”को पारित किया था. जिसके बाद से हर वर्ष 20 नवम्बर को अंतरराष्ट्रीय बाल दिवस के रूप में मनाया जाता है. बाल अधिकार संधि ऐसा पहला अंतरराष्ट्रीय समझौता है जो सभी बच्चों के नागरिक, सांस्कृतिक, सामाजिक, आर्थिक एवं राजनीतिक अधिकारों को मान्यता देता है. इस ...

Read More »
Skip to toolbar