Templates by BIGtheme NET
Home » विचार (page 3)

विचार

जीवन के अंत के खतरे और खतरों का अंत

प्रमोद कुमार प्रसिद्ध सैद्धांतिक भौतिकशास्त्री  व  आस्ट्रो-वैज्ञानिक स्टेफन हॉकिंग ने विगत दिनों पृथ्वी पर जीवन  के अंत के समीपस्थ खतरों  एवं उससे मानव प्रजाति को बचाने का जैसा तात्कालिक व दीर्घकालिक रास्ता बताया  हैं, वे दोनों विचलित कर देने वाले हैं. हिंदी समाचार-पत्रों के अनुसार इस महान वैज्ञानिक ने सुझाव दिया है कि मनुष्य को चाँद और मंगल ग्रह पर ...

Read More »

साक्षात्कार में सफलता के लिए आवश्यक है कौशल, धैर्य एवं मजबूत मनोबल

neuvoo

  (फीचर लेख नेउवो इंडिया द्वारा) हैदराबाद, 15 जून।  जब आप किसी नई नौकरी की तलाश में जा रहे है या आप किसी व्यापार के सिलसिले में किसी कार्यालय में पहली बार साक्षात्कार देने जा रहे है तो नये मेजबान के सामने आपकी पहली मुलाकात के समय जो हाव भाव, स्वभाव, प्रभाव, पहनावा, भाषा शैली और संबंधित विषय में किये ...

Read More »

कुपोषण पर “श्वेत पत्र” का क्या हुआ ?

जावेद अनीस मध्य प्रदेश के लिये कुपोषण एक ऐसा कलंक है जो पानी कि तरह पैसा बहा देने के बाद भी नहीं धुला है. पिछले साल करीब एक दशक बाद कुपोषण की भयावह स्थिति एक बार फिर सुर्खियाँ बनीं थीं. विपक्षी दलों ने इसे राज्य सरकार की लापरवाही, भ्रष्टाचार और असफलता बताकर घेरा था. राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने भी राज्य ...

Read More »

क्लिनिकल स्टैब्लिसमेंट एक्ट : इलाज महंगा होगा, आम लोगों की मुसीबत बढ़ेगी

photo Dr.R.N.Singh

डॉ आर एन सिंह आम आदमी की सेहत और जिंदगी को हिफाजत के लिए क्लिनिकल स्टैब्लिसमेंट रजिस्ट्रेशन एक्ट को अभी हिन्दुस्तान में लागूं करना वाजिब नहीं है। यह कानून समृद्ध पाश्चात्य देशों के लिए कार्पोरेट सेक्टर के अनुकूल है। भारत में इसे लागू करने आम जनता का जीवन खतरे में पड़ जायेगा। इलाज पांच से दस गुना महंगा  हो जाएगा, ...

Read More »

कल्याणकारी योजनाओं में ‘ आधार ‘ का पेंच

aadhar

जावेद अनीस 2007 में शुरू की गई मिड डे मील भारत की सबसे सफल सामाजिक नीतियों में से एक है, जिससे होने वाले लाभों को हम स्कूलों में बच्चों कि उपस्थिति बाल पोषण के रूप में देख सकते हैं. आज मिड डे मील स्कीम के तहत देश में 12 लाख स्कूलों के 12 करोड़ बच्चों को दोपहर का खाना दिया ...

Read More »

बाहुबली का “ दक्षिण दोष ”

bahubali

                                      जावेद अनीस ‘ बाहुबली -2 ‘ भारतीय सिने इतिहास में मील का पत्थर साबित हुई है. यह देसी फैंटेसी से भरपूर एक भव्य फिल्म है जो अपने प्रस्तुतिकरण,बेहतरीन टेक्नोलॉजी, विजुअल इफेक्ट्स और सिनेमाई कल्पनाशीलता से दर्शकों को विस्मित करती है. एस.एस. राजामौली के निर्देशन में बनी यह  फिल्म भारत की सबसे ज्यादा कमाने वाली फिल्म बन चुकी है. बाहुबली ...

Read More »

नये मोड़ पर व्यापम घोटाला

      जावेद अनीस व्यापम घोटाला एक बार फिर नया मोड़ लेता जा रहा है. मई का महीना मुख्यमंत्री शिवराज के लिए राहत भरी खबर लाया है. कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह व्यापम घोटाले में शिवराज सिंह चौहान के सीधे तौर पर शामिल होने का आरोप लगाते आ रहे हैं. लेकिन इस मामले में सीबीआई ने सुप्रीम कोर्ट में एक हलफनामा ...

Read More »

निजीकरण की वकालत करती है नयी स्वास्थ्य नीति

IMG_20160825_155256

भोपाल, 7 अप्रैल। जन स्वास्थ्य अभियान और मध्यप्रदेश लोक सहभागी साझा मंच  नयी स्वास्थ्य नीति को निजीकरण की वकालत करने वाला करार दिया है।  जन स्वास्थ्य अभियान के राहुल शर्मा  और मध्यप्रदेश लोक सहभागी साझा मंच के जावेद अनीस द्वारा जारी बयान में कहा गया है कि हमारे देश में स्वास्थ्य सेवाएं भयावह रूप से लचर हैं. सरकारों ने लोक स्वास्थ्य की जिम्मेदारी से ...

Read More »

गैस चैम्बर में तब्दील होता गोरखपुर

(गोरखपुर में बढ़ते प्रदूषण की अनदेखी पर लेखक -कवि प्रमोद कुमार का आलेख)   गोरखपुर में विकास नगर मोहल्ले के मेरे एक मित्र को एक मध्य रात्रि में लगा कि उनका दम घूंट रहा था। नींद टूटी तो अनुभव किया कि पूरा घर एक अज्ञात दमघोंटू गैस से भर गया था। उन्होंने बाहर निकल देखा कि एक चिमनी से निकला ...

Read More »

‘ मांस का मजहब ’

( उत्तर प्रदेश में बूचड़खानों पर पाबंदी को लेकर छिड़ी बहस मांसाहार और शाकाहार तक पहुँच गई है। वरिष्ठ पत्रकार नासिरुद्दीन का यह लेख इस बहस को छेड़े जाने की राजनीति को समझने के लिए बहुत जरूरी है। नासिरुद्दीन का यह लेख 12 अगस्त 2016 को प्रभात खबर में प्रकाशित हुआ था )  हमारे मुल्क के खान-पान का मिजाज मांसाहार नहीं है ...

Read More »