Templates by BIGtheme NET
Home » साहित्य – संस्कृति

साहित्य – संस्कृति

गंगटोक : खूबसूरत शहर , प्यारे लोग

gangtok 8

सिक्किम यात्रा-4 (समाप्त) सगीर ए खाकसार अगर आप गंगटोक जा रहे हैं तो कम से कम पांच दिन या हफ्ते भर का प्रोग्राम अवश्य बनाएं। गंगटोक के चारों दिशाओं में कुछ न कुछ घूमने लायक़ है। गंगटोक के बारे में पहले से ज़्यादा कुछ न मालूम होने की वजह से हम लोगों को बहुत से खूबसूरत जगहों को देखने से ...

Read More »

प्रेमचंद पार्क में ‘ सद्गति ’ का मंचन

sadgati 2

गोरखपुर. अलख कला समूह शनिवार को प्रेमचंद पार्क में बने मुक्ताकाशी मंच पर मुंशी प्रेमचंद द्वारा लिखित कहानी  ‘ सद्गति ‘ का मंचन किया. वरिष्ठ कहानीकार एवं रंगकर्मी राजाराम चौधरी ने कहानी का नाट्य रूपांतरण  किया था जबकि निर्देशन बेचन सिंह पटेल का था. नाटक में दुखी अपनी बेटी की शादी का शगुन निकलवाने पंडित के वहां जाता है. पंडित ...

Read More »

छंगू लेक की खूबसूरती का भला क्या कहना !

IMG-20180519-WA0004

सिक्किम यात्रा-3 सगीर ए खाकसार कहते हैं कि गंगटोक कश्मीर के बाद हिंदुस्तान की दूसरी सबसे खूबसूरत जगह है। मैंने कश्मीर तो देखा नहीं है। फिर मेरे लिए तो हिन्दुस्तान की सबसे खूबसूरत जगह गंगटोक ही हुई। सिक्किम यात्रा का पहला दिन गंगटोक के पूर्वी हिस्से में स्थित बाबा मंदिर और सोमोगो लेक अथवा छंगू लेक को निहारने में गुजरा। ...

Read More »

गंगटोक : भारत का स्विट्ज़रलैंड

gangtok 3

सिक्किम यात्रा-2 सगीर ए खाकसार भारत का स्विट्ज़रलैंड कहे जाने वाले गंगटोक के स्थानीय पर्यटन स्थलों को देखने के क्रम में हमारे टैक्सी ड्राइवर जेपी ने सबसे पहले दूर स्थित हनुमान टोक को दिखाना मुनासिब समझा। यहां पर टूर पाइंट्स के हिसाब से तय होते हैं । आप कितने पॉइंट्स देखना चाहते हैं। हमने दस पाइंट्स देखने तय किये। हनुमान ...

Read More »

7200 फुट की ऊंचाई पर स्थित हनुमान टोक से दिखता है गंगटोक का खूबसूरत नजारा

gangtok 12

सिक्किम यात्रा-एक सगीर ए खाकसार यह है हनुमान टोक। यह मंदिर सिक्किम के गंगटोक शहर से करीब 09 किमी दूर है। मेरे ड्राइवर ने बताया कि टोक का अर्थ होता है ऊंचाई या फिर टॉप। इससे पहले मैंने यहां के मंदिरों के नाम हनुमान टोक और गणेश टोक से अंदाज़ा लगाया था कि शायद टोक का अर्थ होता है मंदिर। ...

Read More »

सहजनवा में नाटक ‘ अंधेर नगरी ‘ व ‘ जाति ही पूछो साधु ‘ का मंचन

नाटक अंधेर नगरी का मंचन

गोरखपुर। बुधवार शाम सहयोग वेलफेयर सोसाइटी के तत्वाधान में सहजनवा मार्केट में चलाए गए तीस दिवसीय नाट्य प्रशिक्षण के बाद प्रशिक्षित कलाकारों द्वारा तहसील रोड शादी महल मैरिज हाल में प्रसिद्ध लेखक भारतेंदु हरिश्चंद्र द्वारा लिखित व धर्मेंद्र भारती द्वारा निर्देशित नाटक ‘ अंधेर नगरी ‘ व मशहूर नाटककार विजय तेंदुलकर द्वारा लिखित तथा धर्मेंद्र भारती द्वारा निर्देशित नाटक ‘ ...

Read More »

पर्यावरण संतुलन का संदेश दे गया नाटक ‘ चौथा बंदर ’

yuva natay manch

गोरखपुर । पर्यावरण जागरूकता अभियान के तहत युवा नाट्य मंच द्वारा गुरुवार को मुंशी प्रेमचंद पार्क में बने मुक्ताकाशी मंच पर अनिल कुमार दत्ता द्वारा लिखित व अरुण बच्चन द्वारा निर्देशित नाटक ”  चौथा बंदर ” का  मंचन किया गया जिसमें संस्था के 14 कलाकारों ने नाटक में अपनी प्रतिभा दिखलाई । नाटक “चौथा बंदर” पूर्णतया पर्यावरण व प्रदूषण पर ...

Read More »

गोरखपुर में ‘ कुच्ची का कानून ’

kuchchi ka kanoon_gorakhpur 4

पटना की सांस्कृतिक संस्था ‘ कोरस ‘ ने प्रसिद्ध  कथाकार शिवमूर्ति की चर्चित कहानी पर आधारित नाटक  ‘ कुच्ची का कानून ’ का मंचन किया गोरखपुर.  प्रेमचंद पार्क स्थित मुक्ताकाशी मंच पर आज शाम पटना से आयी सांस्कृतिक संस्था ‘ कोरस ‘ ने प्रसिद्ध  कथाकार शिवमूर्ति की चर्चित कहानी ‘ कुच्ची का कानून ’ का मंचन किया. यह आयोजन प्रेमचन्द ...

Read More »

पटना की कोरस 22 अप्रैल को करेगी नाटक ‘ कुच्ची का कानून ’ का मंचन

kuchichi-ka-kanoon-5

गोरखपुर, 18 अप्रैल। प्रेमचन्द पार्क के मुक्ताकाशी मंच पर 22 अप्रैल को शाम सात बजे पटना की कोरस टीम प्रख्यात कथाकार शिवमूर्ति लिखित कहानी ‘ कुच्ची का कानून ’ का मंचन करेगी. यह आयोजन प्रेमचन्द साहित्य संस्थान और अलख कला समूह ने किया है. दोनों संस्थाओं से जुड़े सुजीत श्रीवास्तव, बैजनाथ मिश्र और बेचन सिंह पटेल ने बताया कि ‘ ...

Read More »

देश और समाज को लोकतांत्रिक बनाने की लड़ाई घर से शुरू करनी होगी-प्रो लाल बहादुर वर्मा

lokrang_sangoshthi

लोकरंग में ” सामाजिकता के निर्माण में लोक नाट्य की भूमिका ” पर संगोष्ठी जोगिया ( कुशीनगर)। 11वें लोकरंग के दूसरे दिन आज दोपहर में ‘ सामाजिकता के निर्माण में लोकनाट्य की भूमिका ’ विषय पर संगोष्ठी हुई। संगोष्ठी में बोलते हुए प्रख्यात इतिहासकार प्रो लाल बहादुर वर्मा ने कहा कि सामाजिकता के बिना मुनष्य, मनुष्य नहीं रहा सकता। आज ...

Read More »