Templates by BIGtheme NET
Home » साहित्य – संस्कृति

साहित्य – संस्कृति

‘जश्न-ए-ईद मिलादुन्नबी व ‘जलसा-ए-दस्तारबंदी’ के साथ हजरत मुबारक खां शहीद का उर्स-ए-पाक शुरू

dargah mubarak khan shahid 3

गोरखपुर, 12 जुलाई। नार्मल स्थित दरगाह पर हजरत मुबारक खां शहीद अलैहिर्रहमां का सालाना तीन दिवसीय उर्स-ए-पाक बुधवार को ‘जश्न-ए-ईद मिलादुन्नबी व ‘जलसा-ए-दस्तारबंदी’ के साथ शुरू हुअा। इस मौके पर मुख्य अतिथि फैजाबाद के पीरे तरीकत अल्लामा सैयद अब्दुर्रब उर्फ चांद बाबू ने कहा कि पैगंबर-ए-इस्लाम हजरत मोहम्मद सल्लल्लाहौ अलैहि वसल्लम की शिक्षाओं के सही प्रचारक औलिया हैं. शांति की शिक्षा उनके ...

Read More »

‘ ईमानदार बुद्धिधर्मी रचनाकार हैं डॉ पी एन सिंह ’

dr p n singh _gazipur 6

गाजीपुर में डॉ० पी० एन० सिंह का अभिनन्दन समारोह और उन पर केन्द्रित पुस्तक  ‘ एक जन बुद्धिधर्मी की विचार-यात्रा ’ का लोकार्पण गाजीपुर, 1 जुलाई। ‘ समकालीन सोच ’ परिवार के तत्वावधान में जनपद के बुद्धिजीवियों की ओर से समाजवादी चिंतक एवं समालोचक डॉ० पी० एन० सिंह के 77-वें जन्म दिन के अवसर पर उनके व्यक्तित्व एवं कृतित्व पर ...

Read More »

बारिश के बीच अलख कला समूह ने किया नाटक “ सदाचार की ताबीज ” का मंचन

sadachar ka tabeej 5

गोरखपुर, 2 जुलाई. अलख कला समूह द्वारा आयोजित 15 दिवसीय नाट्य कार्यशाला के उपरांत तैयार नाटक “सदाचार की ताबीज” का मंचन मुंशी प्रेमचंद पार्क में बने मुक्ताकाशी मंच पर एक जुलाई को किया गया. बारिश के बावजूद न सिर्फ नाटक का मंचन हुआ बल्कि नाटक देखने अच्छी खासी संख्या में दर्शक भी पहुंचे. यह नाटक मशहूर लेखक हरिशंकर परसाई के ...

Read More »

नाटक ‘ सदाचार का ताबीज ‘ का मंचन एक जुलाई को प्रेमचंद पार्क में

natak sadachar ki tabeej

गोरखपुर, 30 जून. अलख कला समूह द्वारा आयोजित 15 दिवसीय नाट्य प्रशिक्षण के बाद 1 जुलाई की शाम 5 बजे मुंशी प्रेमचंद पार्क में बने मुक्ताकाशी मंच पर नाटक ‘ सदाचार का ताबीज ‘ का मंचन किया जाएगा . यह नाटक मशहूर लेखक हरिशंकर परसाई के लेख पर आधारित है जिसका नाट्य रूपांतरण मृत्युंजय उपाध्याय ” नवल ” व निर्देशक ...

Read More »

कबीर की जयंती पर ‘काव्यपाठ व चर्चा ‘ का आयोजन

kabeer jayanti

वाराणसी, 28 जून. जन भोजपुरी मंच के लंका स्थित सभागार में भोजपुरी के आदि कवि संत कबीर दास की जयंती मनाई गई. इस अवसर पर ‘काव्यपाठ व चर्चा’ का आयोजन किया गया. चर्चा करते हुये मंच के संयोजक प्रो0 सदानंद शाही ने कहा कि कबीर की काशी ज्ञान, विज्ञान साधना से लेकर धर्म संस्कृति का केन्द्र रही है। कबीर का ...

Read More »

माटी नाट्य संस्थान ने गौतम बुद्ध के जीवन पर आधारित “बुद्धम्” का मंचन किया

buddham

गोरखपुर, 27 अप्रैल. तथागत गौतम बुद्ध के जीवन पर आधारित, विश्व शांति को समर्पित “बुद्धम्” नाटक का भव्य मंचन दीक्षा भवन में माटी नाट्य संस्थान ने पूर्वांचल सेना के संयुक्त सहयोग से किया. लेखक सुनील राजा के निर्देशन में 55 द्वारा ढाई ई घंटे के इस मंचन ने दीक्षा भवन में खचाखच भरे दर्शकों को अपने से जोड़े रखा। इस ...

Read More »

अलख कला समूह का 15 दिवसीय नाट्य कार्यशाला शुरू

alakh kala samooh

गोरखपुर, 16 जून। अलख कला समूह का 15 दिवसीय नाट्य कार्यशाला 16 जून से मुंशी प्रेमचंद पार्क में प्रारंभ हो गया. अलख कला समूह के अध्यक्ष अशोक चौधरी ने कार्यशाला का शुभारम्भ किया। 15 दिवसीय नाट्य कार्यशाला के बाद 1 जुलाई को मुंशी प्रेमचंद पार्क में स्थित मंच में प्रशिक्षित कलाकारों द्वारा नाट्य मंचन किया जाएगा। कार्यशाला के प्रशिक्षक मध्यप्रदेश ...

Read More »

अलख कला समूह 15 दिवसीय नाट्य कार्यशाला आयोजित करेगा

IMG-20180614-WA0008

गोरखपुर, 15 जून. अलख कला समूह ने गुरुवार को मुंशी प्रेमचंद पार्क में एक बैठक कर 15 दिवसीय नाट्य कार्यशाला आयोजित करने का निर्णय लिया। यह कार्यशाला 16 जून से शुरू होगी। नाट्य कार्यशाला के बाद 1 जुलाई को मुंशी प्रेमचंद पार्क में स्थित मुक्ताकाशी मंच पर प्रशिक्षित कलाकारों द्वारा नाट्य मंचन किया जाएगा। कार्यशाला के प्रशिक्षक मध्यप्रदेश नाट्य विद्यालय ...

Read More »

नफरत के खिलाफ अदब का प्रोटेस्ट है ‘ मै मुहाजिर नहीं हूं ’ – शारिब रुदौलवी

2018-06-09-PHOTO-00000002

लखनऊ, 10 जून। कथाकार-उपन्यासकार बादशाह हुसैन रिजवी के उपन्यास ‘मै मुहाजिर नहीं हूं’ के उर्दू संस्करण का 9 जून को यूपी प्रेस क्लब में विमोचन हुआ। इस उपन्यास का हिन्दी संस्करण 2011 में आ चुका है। इसका उर्दू अनुवाद डाॅ वजाहत हुसैन रिजवी ने किया है। इप्टा व प्रलेस द्वारा आयोजित इस कार्यक्रम की सदारत उर्दू के मशहूर अदीब शारिब ...

Read More »

इफ्तार की खुशबू से मुअत्तर माह-ए-रमजान की फिजां

iftar 2

गोरखपुर। माह-ए- रमजान का फैजान बदस्तूर जारी हैं। रोजा खैर से गुजर रहा है। इबादत-ए-इलाही में बंदे मशरूफ हैं । अल्लाह भी बंदे की इबादत से राजी हैं। इसलिए तो रोजेदार के लिए तमाम नेमतें हैं। रोजेदार का हर काम इबादत में शुमार हैं। खाना, पीना, सोना, उठना, बैठन, सांस लेना। अन्य दिनों में हम कुछ खाये-पीये, पहनें तो हिसाब ...

Read More »
Skip to toolbar