समाचार

सीएम ने 57.57 करोड़ की 27 परियोजनाओं का लोकार्पण किया

गोरखपुर. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 22 सितम्बर को 87.57 करोड़ रूपये की लागत से जनपद की कुल 36 परियोजनाओं का शिलान्यास /लोकार्पण किया. इसमें 30 करोड़ की लागत से 9 परियोजनओं का शिलान्यास तथा 57.57 करोड़ रू0 की 27 परियोजनाओं का लोकार्पण शामिल है।

मुख्यमंत्री ने इस मौके पर्व प्रधानमंत्री आवास योजना शहरी, आसरा योजना के 7-7 लाभार्थियों को आवास का प्रतीक चाभी तथा प्रमाण पत्र और राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा योजना के तहत 7 लाभार्थियों को अंत्योदय/पात्र गृहस्थी का राशन कार्ड अपने हाथ से वितरित किया। इसके अतिरिक्त बसफोड़ समुदाय के लाभार्थियों को आसरा योजना के तहत प्रमाण पत्र/प्रतीक चाभी दी गयी। इस दौरान कुल 151 लाभार्थियों को जिसमें आसरा आवास योजना के 100 तथा प्रधानमंत्री आवास योजना शहरी के 51 लाभार्थियों को योजना के तहत प्रमाण पत्र/प्रतीक चाभी वितरित की गयी।

इस अवसर पर अपने सम्बोधन में मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार द्वारा प्रदेश में ग्रामीण क्षेत्रों में 11 लाख प्रधानमंत्री आवास (ग्रामीण) बनाया जा चुका है जिसका एक साथ गृह प्रवेश अक्टूबर माह के अन्त में कराया जायेगा। इसी प्रकार शहरी क्षेत्र में 4 लाख लोगों को आवास उपलब्ध कराया जायेगा।
मुख्यमंत्री ने कहा कि बसफोड़ जो सड़क के किनारे कार्य करते थे वे अपने आवंटित आवास में रहेंगे और प्रशासन उनके परम्परागत रोजगार की व्यवस्था भी सुनिश्चित कराये। उन्होंने यह भी कहा कि खेतों के किनारे बांस लगाये जायें ताकि उनका परम्परागत रोजगार प्रभावित न हो और उनके कलाकृतियों को बाजार में बिक्री की व्यवस्था की जाये। उन्होंने कहा कि बसफोड़ को स्वंय सहायता समूह बनाकर स्वावलम्बी बनाया जाये।

उन्होंने कहा कि प्रदेश में अंत्योदय एंव पात्र गृहस्थी के तहत 3.50 करोड़ लोगों को राशन कार्ड वितरित करने का फैसला किया गया है जिसका शुभारम्म आज यहां से किया गया है। अंत्योदय कार्ड के तहत कार्ड धारक को 35 किलो खाद्यान्न रियायती दर पर दिया जाता है, पात्र गृहस्थी कार्ड पर प्रत्येक सदस्य को 5 किलो खाद्यान्न दिया जाता है। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार द्वारा सर्वे कराया जा रहा है कि कोई भी पात्र व्यक्ति राशन कार्ड से वंचित न रहे और जो लोग छूटे है उन्हें भी राशन कार्ड उपलब्ध कराया जायेगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि कुष्ठ रोगियों को एक-एक मुख्यमंत्री आवास, राशन कार्ड प्राथमिकता के आधार पर उपलब्ध कराने का निर्णय लिया गया है। इसी प्रकार वंनटांगियां, मुसहर, थारू एंव अन्य जन जातियों के लोगों को भी राशन कार्ड, पेंशन एंव जन कल्याणकारी योजनाओं का लाभ दिलाया जायेगा जिससे उनका सामाजिक उत्थान हो सके।

उन्होंने कहा कि फरवरी में एम्स का ओ.पी.डी. का संचालन प्रारम्भ होगा तथा वर्ष 2020 तक एक.बी.बी.एस. छात्रों का प्रवेश भी करा दिया जायेगा। उन्होंने कहा कि एम्स के आरम्भ होने से पूर्वी उ0प्र0, बिहार, नेपाल का एक बहुत बड़ा भूभाग इससे लाभान्वित होगा। उन्होंने कहा कि फर्टिलाइजर के  संचालित होने पर रोजगार में वृद्धि होगी। रामगढ़ताल में वाटर स्पोर्टस एंव अन्य सौन्दर्यीकरण कार्य कराये जा रहे है, दिसम्बर में चिड़ियाघर भी प्रारम्भ हो जायेगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि गोरखपुर को बंगलुरु , कोलकाता एंव काठमाण्डू, चेन्नई तथा अन्य स्थानों से जोड़ने के लिए वायु सेवा का संचालन भी शीघ्र होगा। गोरखपुर-वाराणसी की दूरी फोरलेन बन जाने से काफी कम हो जायेगी. महानगर में रिंगरोड का निर्माण कराया जा रहा है, जंगल कौड़िया से कालेसर तक बाइपास बन रहा है, सहजनवा से कुस्मही तक फोरलेन से जोड़ दिया गया है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि माह अक्टूबर में बी.आर.डी. मेडिकल कालेज 8 नये सुपर स्पेशिलिटी का कार्य पूर्ण हो जायेगा और नवम्बर में लोगों के लिए उपलब्ध होगा.

इस अवसर पर विधायक डा0 राधामोहन दास अग्रवाल, फतेह बहादुर सिंह, शीतल पाण्डेय, संत प्रसाद, महेन्द्रपाल सिंह, विपिन सिंह, महापौर सीता राम जायसवाल, उपाध्यक्ष महला आयोग अंजू चैधरी, जिलाध्यक्ष जनार्दन तिवारी, प्रदेश उपाध्यक्ष उपेन्द्र दत्त शुक्ल सहित अन्य जन प्रतिनिधि गण के अतिरिक्त मण्डलायुक्त अमित गुप्ता, आई.जी. नीलाब्जा चैधरी, जिलाधिकारी के0 विजयेन्द्र पाण्डियन, मुख्य विकास अधिकारी अनुज सिंह आदि उपस्थित रहे।

Leave a Comment