समाचार

बालिका गृह काण्ड की सीबीआई जांच कराने की मांग को लेकर भाकपा माले का जोरदार प्रदर्शन

देवरिया चलो!बालिका गृह कांड की ज़िमेदारी लो, रीता बहुगुणा जोशी इस्तीफा दो!

تم النشر بواسطة ‏‎Sujeet Sonu‎‏ في الأربعاء، ٥ سبتمبر ٢٠١٨
  • 8
    Shares
देवरिया. देवरिया बालिका संरक्षण गृह काण्ड की हाई कोर्ट की निगरानी में सीबीआई जांच कराने की मांग को लेकर भाकपा माले के सैकड़ो कार्यकर्ताओं ने आज रेलवे स्टेशन से कलेक्ट्रेट तक जूलूस निकाल कर प्रदर्शन किया. कार्यकर्ताओं ने कलेक्ट्रेट में सभा कर अपर जिलाधिकारी वित्त को सात सूत्रीय ज्ञापन दिया.
बुधवार को ऐपवा की राष्ट्रीय महासचिव मीना तिवारी, भाकपा माले के प्रदेश सचिव सुधाकर यादव, प्रेमलता पाण्डेय, रामकिशोर वर्मा, गीता पाण्डेय के नेतृत्व में सैकड़ो की संख्या में कार्यर्ताओं ने झंडा, बैनर व नारे लिखे तख्ती के साथ प्रदर्शन किया। जुलूस रेलवे स्टेशन से शुरू हुआ. जुलूस प्रदर्शन में भारी संख्या में महिलायें शामिल थीं. प्रदर्शनकारी सरकारी शेल्टर होम खोलो, मंत्री रीता जोशी इस्तीफा दो तथा प्रदेश की योगी सरकार के खिलाफ नारेबाजी कर रहे थे.
कड़ी धूप में भी कार्यकर्ता जोरदार नारेबाजी करते हुए आगे बढ़ते जा रहे थे.  कलेक्ट्रेट पहुँच कर जुलूस सभा में बदल गया. सभा को संबोधित करते हुए ऐपवा की राष्ट्रीय महासचिव मीना तिवारी ने कहा कि बिहार में मुजफ्फरपुर के बालिका गृह काण्ड की नीतिश सरकार सीबीआई जांच कराने को तैयार नहीं थी, लेकिन आंदोलन के दबाव में सरकार को सीबीआई जांच कराना पड़ा. उन्होंने कहा कि यहां पर भी आंदोलन के बल पर सीबीआई जांच के लिए सरकार को मजबूर किया जा सकता है. जब तक सरकार हाईकोर्ट की निगरानी में सीबीआई जांच नहीं कराती आंदोलन जारी रहेगा.
भाकपा माले के राज्य सचिव सुधाकर यादव ने कहा कि आज प्रदेश के सभी शेल्टर होम की हाई कोर्ट की निगरानी में सीबीआई जांच कराने को प्रदर्शन हुआ है. ऐसा न होने पर आगे भी प्रदर्शन किया जाएगा.
सभा में सभी सरकारी, अनुदानित शेल्टर होम की सर्वे कर रिपोर्ट सार्वजनिक करने, सभी शेल्टर होम से गायब लड़कियों, महिलाओं का सत्यापन कराने, गिरिजा त्रिपाठी की संस्था से गोद दिये बच्चों की जांच कराने, सभी शेल्टर होम की वित्तीय आडिट रिपोर्ट सार्वजनिक करने, संस्था को नियम ताक पर रख अनुदान देने वाले महिला व बाल विकास विभाग के अफसरों के भूमिका की जांच कराने की मांग की.
ज्ञापन देते समय उस समय स्थिति तनावपूर्ण हो गई जब ज्ञापन लेने आये एसडीएम ने कहा कि उन्हें तुरंत ज्ञापन दे दिया जाय क्योंकि उनके पास मांग सुनने का वक्त नहीं है. इसका कार्यकर्ताओं ने तीव्र प्रतिवाद किया और उनके खिलाफ नारेबाजी करने लगे. बाद में एडीएम ने आकर ज्ञापन लिया.
सभा की अध्यक्षता भाकपा माले की राज्य कमिटी की सदस्य प्रेमलता पाण्डेय व संचालन श्रीराम कुशवाहा ने किया। सभा को ऐपवा जिलाध्यक्ष गीता पाण्डेय, श्रीराम चौधरी, रामकिशोर वर्मा, राजेश साहनी, ओम प्रकाश सिंह, परमहंश, बसंत, लाल साहब, सुहेला गुप्ता, नीलम सिंह, कलक्टर शर्मा, अरूण कटारिया, हरिशंकर मल्ल आदि ने संबोधित किया।

Add Comment

Click here to post a comment