समाचार साहित्य - संस्कृति

प्रसिद्ध साहित्यकार प्रो रामदेव शुक्ल प्रेमचंद सहित्य संस्थान के अध्यक्ष बने

  • 130
    Shares

गोरखपुर, 20 अगस्त। प्रसिद्ध साहित्यकार प्रो रामदेव शुक्ल, प्रेमचंद सहित्य संस्थान के नए अध्यक्ष चुने गए हैं। रविवार की शाम प्रेमचंद पार्क स्थित प्रेमचंद साहित्य संस्थान द्वारा संचालित पुस्तकालय में संस्थान के पदाधिकारियों और सदस्यों ने सर्वसम्मति से प्रो शुक्ल को संस्थान का अध्यक्ष चुना।

इस मौके पर प्रो रामदेव शुक्ल भी उपस्थित थे। प्रो शुक्ल, संस्थान के तीसरे अध्यक्ष हैं। संस्थान के संस्थापक अध्यक्ष प्रो परमानंद श्रीवास्तव थे। उनके निधन के बाद प्रसिद्ध कवि प्रो केदारनाथ सिंह संस्थान के अध्यक्ष बने। श्री सिंह का 19 मार्च 2018 को निधन हो गया था। इसके बाद से संस्थान के अध्यक्ष का पद रिक्त था।
अध्यक्ष बनने के बाद प्रो रामदेव शुक्ल ने प्रेमचन्द के साहित्य से युवाओं को जोड़ने के लिए अभियान चलाने पर बल दिया। उन्होंने कहा कि संस्थान प्रेमचंद के साहित्य को गांवों में ले जाने की योजना बनाए और उस पर अमल करें। उन्होंने इस मौके पर गांव और किसानों के संकट की चर्चा करते हुए कहा कि संस्थान इन विषयों पर प्रेमचंद का लेखन के आलोक पर बहस आयोजित करे।
इस अवसर पर प्रो रामदेव शुक्ल ने संस्थान की त्रैमासिक पत्रिका ‘साखी’ के अट्ठाइसवें अंक का लोकार्पण भी किया।

प्रेमचन्द साहित्य संस्थान के निदेशक प्रो सदानंद शाही और पूर्व सचिव राजेश मल्ल ने कहा कि प्रो रामदेव शुक्ल के मार्गदर्शन में संस्थान और बेहतर तरीके से कार्य करेगा। प्रो सदानंद शाही ने कहा कि इस वर्ष 31 जुलाई 2018 को प्रेमचन्द साहित्य संस्थान की स्थापना के 25 वर्ष पूरे हो गए। स्थापना की रजत जयंती वर्ष पर संस्थान कई आयोजन करने जा रहा है। रजत जयंती वर्ष में संस्थान की स्मारिका ‘ कर्मभूमि ’ का प्रकाशन किया जाएगा। इस वर्ष प्रेमचन्द के उपन्यास ‘ सेवासदन ’ के प्रकाशन के 100 वर्ष पूरे हुए हैं। संस्थान सेवा सदन पर केन्द्रित एक राष्टीय सेमिनार आयोजित करेगा। इसके अलावा संस्थान की पत्रिका साखी प्रसिद्ध कवि एवं संस्थान के अध्यक्ष रहे केदारनाथ सिंह पर विशेषांक प्रकाशित करेगा।
संस्थान के सचिव मनोज कुमार सिंह ने सबके प्रति आभार व्यक्त किया। कार्यक्रम में फतेह बहादुर सिंह, अशोक चौधरी, नितेन अग्रवाल, आनन्द पांडेय, बेचन सिंह पटेल, बैजनाथ मिश्र, विकास द्विवेदी आदि उपस्थित थे।

Add Comment

Click here to post a comment