जनपद

हुसैनाबाद चक्शा हुसैन में आयोजित हुआ ‘ जलसा-ए-ईद मिलादुन्नबी ‘

गोरखपुर। ईद मिलादुन्नबी पर्व के बाद शहर में जलसों का दौर जारी है। शहर के विभिन्न मोहल्लों में जलसे हो रहे हैं। यह सिलसिला इसी तरह पूरे माह तक बदस्तूर जारी रहेगा। इसी क्रम में हुसैनी नौजवान कमेटी के तत्वावधान में शुक्रवार को हुसैनाबाद चक्शा हुसैन निकट बैतुल नूर मस्जिद ‘जलसा-ए-ईद मिलादुन्नबी’ आयोजित हुआ।

इसमें बतौर मुख्य अतिथि मेंहदावल के मुफ्ती अलाउद्दीन मिस्बाही ने कहा कि प्यारे नबी-ए-पाक (हजरत मोहम्मद सल्लल्लाहो अलैहि वसल्लम) की पूरी जिन्दगी तमाम इंसानों के लिए आदर्श है। आप एक अच्छे रहबर, इंसान, आदर्श पिता, दोस्त, भाई तथा शौहर के रूप में अपनी विशिष्ट पहचान रखते हैं, जिनके आदर्श पर चलकर किसी भी व्यक्ति का जीवन सफल हो सकता है। प्यारे नबी-ए-पाक से मोहब्बत करना ईमान का हिस्सा है।

अध्यक्षता करते हुए मौलाना अमीरुद्दीन निजामी ने कहा कि अल्लाह इल्म-ए-दीन हासिल करने वालों से बेहद खुश होता है, इसलिए आपको चाहिए की इल्म-ए-दीन खुद भी हासिल करें और घर वालों को भी सिखाएं।

संचालन मौलाना हारून मिस्बाही ने किया। तिलावत कारी अरमान अली ने की। नात शरीफ कारी मो. आजम रज़ा व मौलाना मो. नजरे आलम ने पेश की। अंत में सलातो-सलाम पढ़कर मुल्क व मिल्लत के लिए दुआएं हुई।

जलसे में वसीम अंसारी, आफाक हुसैन गुड्डू, हाजी आशिक अली, अकबर अली, बदरुल हसन, इम्तियाज अहमद, मुनाजिर हसन, समीउल्लाह, शमशाद अली, हाजी उसामा, रियाज, परवेज अहमद, महबूब, राजन, जामिन अली, राजू खान, जफर सिद्दीकी, लाइक अहमद आदि लोग मौजूद रहे।

Leave a Comment