समाचार

काम पर लौटे बीआरडी मेडिकल कालेज के जूनियर डॉक्टर

धरना पर बैठे बीआरडी मेडिकल कालेज के हड़ताली जूनियर डाक्टर

गोरखपुर: बीआरडी मेडिकल कालेज के हड़ताली जूनियर डाक्टर काम पर लौट आये हैं। सोमवार की रात मेडिकल कालेज प्रशासन और पुलिस के आश्वासन के बाद जूनियर डाक्टरों ने काम पर लौटने का फैसला किया. इन्होंने चेतावनी दी कि हड़ताल समाप्त नहीं स्थगित हुई है. यदि डाक्टरों से किये गये वायदे पूरे नहीं हुये तो वे कभी भी अपना फैसला वापस ले सकते हैं.डाक्टरों ने प्रशासन को मामले के हल के लिये एक सप्ताह का समय दिया है.

मरीज के तीमारदार से मारपीट के बाद जूनियर डाक्टरों के खिलाफ दर्ज हुआ था एससी/एसटी एक्ट में मुकदमा

विवेचना में मुकदमा स्पंज करने, सुरक्षा व्यवस्था टाइट करने के आश्वासन के बाद खत्म हुई हड़ताल

10 सितंबर को बालरोग की ओपीडी में मरीज के तीमारदार से वाद विवाद के दौरान मारपीट हो गयी थी. यहां डाक्टर भारी पड़ गये थे और तीमारदार की पिटाई कर दी थी. इसके बाद गुलरिहा थाना में तीमारदार ने डाक्टरों के खिलाफ एससी/एसटी एक्ट और अन्य धाराओं में मुकदमा कायम करा दिया. इसकी सूचना मिलने के बाद जूनियर डाक्टर हड़ताल पर चले गये. डाक्टर इसके खिलाफ धरना दे रहे थे. इसके चलते इमरजेंसी समेत ओपीडी में काम काज ठप हो गया. डाक्टरों की मांग थी कि आये दिन मारपीट की होने वाली घटनाओं के मद्देनजर सुरक्षा व्यवस्था ठीक की जाय. जूनियर डाक्टरों के खिलाफ दर्ज एफआईआर रद की जाय.

कामकाज ठप होने के चलते मेडिकल कालेज समेत जिला प्रशासन भी सकते थे और जूनियर डाक्टरों से लगातार वार्ता कर रहा था. सोमवार की शाम से चल रही कवायद के बीच रात दस बजे सहमति बनी कि विवेचना के पश्चात मुकदमे को स्पंज कर दिया जायेगा. साथ ही सुरक्षा के मद्देनजर सभी प्रमुख स्थानों पर सीसीटीवी कैमरे लगाये जायेंगे. सुरक्षाकर्मियों की संख्या भी पर्याप्त रहेगी. प्रशासन से लिखित आश्वासन मिलने के बाद जूनियर डाक्टरों ने हड़ताल स्थगित करने की घोषणा की.