समाचार

शिक्षा मित्रों ने दूसरे दिन भी दिया धरना, एडीएम सिटी को सौंपा ज्ञापन ‌

गोरखपुर. आदर्श समायोजित शिक्षक /शिक्षा मित्र वेलफेयर एसोसिएशन जनपद इकाई गोरखपुर ने सोमवार से प्रदेश नेतृत्व द्वारा प्रस्तावित तीन दिवसीय धरना प्रदर्शन के दौरान मंगलवार को दूसरे दिन भी बीएसए कार्यालय पर धरना दिया और संघ के जिला अध्यक्ष गदाधर दुबे के नेतृत्व में अपनी मांगों से संबंधित मुख्यमंत्री को संबोधित ज्ञापन एडीएम सिटी को सौंपा.

अपनी माँगों के समर्थन में पूरे जनपद के शिक्षा मित्र भारी संख्या में जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी कार्यालय गोरखपुर उपस्थित हुए और जोरदार धरना प्रदर्शन कर अपनी मांगो को उठाया.

बैठक को सम्बोधित करते हुए उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षणेत्तर संघ के जनपद अध्यक्ष श्री आशुतोष तिवारी  ने कहा कि हमने बेसिक शिक्षा परिषद के बच्चों का भविष्य सँवारा और आपके भविष्य के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है. यह वर्तमान सरकार के समय की सबसे बड़ी विडम्बना है. अगर  यह सरकार जल्द से जल्द कोई सकारात्मक निर्णय नहीं लेती है तो आने वाले 2019 में इस सरकार को सत्ता हासिल करने में चने चबाने पड़ सकते हैं.

उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षक संघ के  जेपी नायक नें सम्बोधित करते हुए कहा आपकी चट्टानी एकता के सामने सरकार झुकेगी जैसा विगत वर्षों में मुख्यमंत्री  ने आपके धरने को सम्बोधित करते हुए जिलाधिकारी कार्यालय गोरखपुर में कहा था कि आप अपने धरने को मजबूत करें संगठित रहें आपके संघर्ष व एकता के आगे सरकार को झुकना ही पड़ेगा.

बासगाँव के प्राथमिक शिक्षक संघ के विकास खण्ड मंत्री योगेश शुक्ला  ने कहा वर्तमान सरकार को आपको समान कार्य-  समान वेतन लागू करना पड़ेगा .

प्राथमिक शिक्षक संघ गोरखपुर के जिला उपाध्यक्ष ज्ञानेन्द्र ओझा  नें कहा कि आपकी एकता सरकारों को बनाने बिगाड़ने का माद्दा रखती है. जैसा विगत बर्षो में हमने दिखाया है. यह सरकार भी शिक्षा मित्रों के बारे में सोचने के लिए मजबूर होगी.

shiksha mitr 3
‌धरने के अन्त में जनपदीय अध्यक्ष  गदाधर दूबे ने सम्बोधित करते हुए कहा कि हम मुख्यमंत्री  से यही कहना चाहते हैं कि आपकी सरकार नें ही सन् 2000 में ‘ शिक्षा मित्र ‘ रूपी योजना के रूप में हमें जन्म दिया और हमें आशा ही नहीं पूर्ण विश्वास है कि आप हमारा उद्धार अवश्य करेंगे । प्रदेश में लगभग 600 शिक्षामित्र मर चुके हैं. उनकी शहादत को देखते हुए अब तक जो भी बचे हुए शिक्षामित्र हैं उनका समायोजन बहाल कर नया जीवन देने का काम करें. इस सरकार से गुजारिश है कि लिखित परीक्षा का हट छोड़कर जो भी शिक्षामित्र सहायक अध्यापक के पद पर कार्यरत थे उनको उनके पद पर पुनः बहाल करने की सरल प्रक्रिया अपनाई जाए. जो कमियां हैं उसे दुरुस्त किया जाए. राजनीतिक द्वेष बस से कोई काम शिक्षा मित्रों के प्रति ना किया जाए. आज समायोजन रद्द होने से शिक्षा मित्रों के परिवार में असहनीय पीड़ा, दुख, अनिश्चितता व अन्य समस्याएं पैदा हो गई हैं.

बुधवार को शिक्षा मित्र जनपद के सभी विधायकों,  सांसदों को ज्ञापन देकर अपनी समस्याओं को बताएगा और इसके निराकरण के लिए निवेदन भी करेगा । इस दौरान संगठन के सभी जिला पदाधिकारी व ब्लाक अध्यक्ष तथा समस्त सक्रिय शिक्षामित्र उपस्थित रहेंगे ।
‌       आज के धरना-प्रदर्शन में प्रमुख रूप से जनपद कोषाध्यक्ष सुर्यनारायण दूबे , वरिष्ठ उपाध्यक्ष  अजय चंद ,मंत्री  हुकुमचंद चौहान , माण्डलिक मंत्री  संजय यादव , ध्रुव नारायण सिंह ,नवनीत मिश्रा , चन्द्रजीत यादव , रणविजय यादव ,  दिनेश पाण्डेय , संतोष पाण्डेय , अम्बिकेश पाण्डेय जी ,जय प्रकाश शुक्ला , प्रवीण चौबे ,चन्दा, अमित राय,अतुल राय,प्रदीप, नरसिंह मौर्य, अवधेश कुमार , आभा चतुर्वेदी, उर्मिला, रंजना,चन्द्रकला ,सरिता, दिलीप कुमार पाण्डेय, चन्द्रिका,दुर्गा दूबे, गौतम पाण्डेय, गौतमकुमार,गौतम यादव, चन्द्रभान, विरेन्द्र बहादुर सिंह, प्रीति यादव, नागेश्वरी,आशा पाण्डेय, मीना श्रीवास्तव, अनुराधा,शारदा, नीतू सिंह, ममता , मीरा सिंह, केदारनाथ,राकेश मिश्रा,अरविंद निषाद, आदि सैकड़ों शिक्षा मित्र उपस्थित थे ।

Add Comment

Click here to post a comment