जनपद

कमिश्नर ने कहा- साफ सफाई से ही खत्म होगा इंसेफेलाइटिस

पंचायती राज विभाग ने आयोजित की मंडल स्तरीय कार्यशाला
फरमान, 15 सितंबर तक गोरखपुर मंडल में शत प्रतिशत बन जायें शौचालय
सफाईकर्मियों के पेच कसे,सफाई नहीं दिखी तो नपेंगे

गोरखपुर, 27 जुलाई।गोकुल अतिथि गृह में पंचायती राज विभाग द्वारा जिला स्तरीय एवं विकास खण्ड स्तरीय अधिकारियो के मण्डल स्तरीय कार्यशाला आयोजित की गयी. कार्यशाला के मुख्य अतिथि मंडलायुक्त अनिल कुमार ने इस मौके पर कहा कि गांवों की सफाई व्यवस्था को हर हाल में दुरुस्त किया जाय क्योंकि इसके बिना गांवों को जेई और एईएस से मुक्त नहीं किया जा सकता।. उन्होंने जोर देकर कहा कि किसी भी हालत में जल जमाव न होने दिया जाय। झाड़ झंखाड़ नियमित रूप से हटाये जायं.
उन्होंने कहा कि गांवों को प्राथमिकता के अधार पर ओडीएफ किया जाये. हर हाल मे 15 सितम्बर तक मण्डल में शौचालय का लक्ष्य शतप्रतिशत पूर्ण कर उसका सत्यापन करा लिया जाये. इसमें किसी भी स्तर पर यदि लापरवाही बरती गयी तो सम्बंधित के विरूद्ध कार्यवाही की जायेगी. मण्डलायुक्त ने कहा है कि स्वच्छता स्वस्थ्य जीवन का मूल आधार है तथा गंदगी बीमारियो की जननी है. स्वच्छता से ही इंसेफेलाइटिस पर नियंत्रण पाया जा सकता है इस लिए कार्य योजना के तहत कार्यवाही कर स्वच्छता अभियान को सफल बनाया जाय. पर्याप्त बचाव, जागरूकता एवं समय से उपचार से ही समाज को जेई/एईएस मुक्त बनाया जा सकता है इसलिए लोगो को जागरूक करने के साथ साथ गांवों को स्वच्छ तथा बीमारी मुक्त किया जाये.
मण्डलायुक्त ने आगे कहा कि एईएस जो जनजनित बीमारी है इससे बचाव हेतु आवश्यक है कि इंडिया मार्का-2 हैण्डपम्प का पानी सेवन करें, छोटे हैण्डपम्पों के जल का सेवन कदापि न करें और यदि अपरिहार्य परिस्थितियां हो तो पानी गरम करके पीयें. उन्होंने कहा कि पाइप लाइन की सफाई के साथ ही जल की गुणवत्ता की जांच करायी जाये तथा इंसेफेलाइटिस गांव/क्षेत्रों के तालाबों, जल जमाव स्थलो में गम्बुजिया मछली डाली जाये। उन्होंने सुअर बाड़ो को आबादी से दूर रखा जायें.
मण्डलायुक्त ने कहा कि यदि सफाई कर्मी अपनी दायित्व निर्वहन करने में उदासीनता बरतते पाये गये तो उसके विरूद्ध कठोरतम कार्यवाही सुनिश्चित की जायेगी क्याेंकि बरसात के मौसम में गंदगी के कारण अनेक संक्रामक बीमारियाें के फैलने की अाशंका प्रबल होती है. उन्होंने कहा कि आवश्यकता है कि सफाई व्यवस्था हेतु सफाई उपकरण जैसे फाागिग मशीन, ठेले गाड़ी आदि क्रय करके गांव को स्वच्छ एवं सुन्दर बनाया रखा जाये.
15 अगस्त को 25 लाख पौधों का रोपण
वृक्षारोपण पर बल देते हुए उन्होंने कहा कि मण्डल में 39 लाख पौधों के रोपण का लक्ष्य निर्धारित है, 15 अगस्त को 25 लाख वृक्षारोपण किया जाना है. इसके लिए अभी से स्थल चयन तथा गड्ढा खोदवाने का कार्य करने के निर्देश देते हुए कहा कि इस बार वृक्षारोपण का जीओ टैगिंग भी होगा.
अगस्त माह में होगा स्वच्छता सर्वेक्षण
उन्होंने यह भी बताया कि 1 अगस्त से 31 अगस्त के बीच भारत सरकार द्वारा जिलो का स्वच्छ सर्वेक्षण भी कराया जाना है. उन्होंने इसकी सम्पूर्ण तैयारिया करने के निर्देश देते हुए कहा कि जहां जो कमिया दिखे उसे ठीक करा लिया जाये तथा स्वच्छता के प्रति सभी को जागरूक किया जाये.
कार्यशाला में देवरिया एवं कुशीनगर के मुख्य विकास अधिकारी तथा सम्बंधित अन्य अधिकारी उपस्थित रहें। आज की कार्यशाला देवरिया एवं कुशीनगर के जिला स्तरीय एवं ब्लाक स्तरीय अधिकारी उपस्थित रहें.

Skip to toolbar