समाचार

जाँच समिति की रिपोर्ट नामंजूर, छात्रों ने प्रदर्शन कर आन्दोलन छेड़ने की चेतावनी दी

प्रताड़ना से क्षुब्ध होकर शोध छात्र दीपक कुमार की आत्महत्या की कोशिश का मामला

गोरखपुर. गोरखपुर विश्वविद्यालय के शोध छात्र दीपक कुमार के आत्महत्या के प्रयास के मामले में आज छात्रों ने प्रदर्शन कर और कुलपति को ज्ञापन देकर उग्र आन्दोलन की चेतवानी दी. छात्रों ने आरोप लगाया कि दो प्रोफेसरों के जातीय व मानसिक रूप से उत्पीड़न के कारण शोध छात्र दीपक कुमार ने आत्महत्या की कोशिश की थी लेकिन विश्वविद्यालय प्रशासन ने दोषी प्रोफेसरों पर कोई कार्यवाही नहीं की और जाँच के नाम पर पूरे मामले में लीपापोती कर दी.

प्रदर्शनकारी छात्रों ने कहा कि शोध छात्र दीपक कुमार द्वारा प्रो.द्वारिका नाथ श्रीवास्तव व प्रो.चन्द्रप्रकाश श्रीवास्तव पर मानसिक व जातीय प्रताड़ना का आरोप लगाया गया था और इसकी लिखित शिकायत कुलपति से भी की थी लेकिन  इस पर कार्यवाही नहीं हुई. तंग आकर दीपक ने आत्महत्या की नीयत से कीटनाशक पी लिया था. अगले दिन शोध छात्र दीपक कुमार के पिता द्वारा दोनों प्रोफेसरों के खिलाफ लिखित शिकायत थाना कैण्ट में किया गया लेकिन पुलिस ने आत्मत्या के लिए उकसाने के मामले की बजाये दीपक के साथ अज्ञात लोगो द्वारा मारपीट के मामले में मुक़दमा दर्ज कर खानापूर्ति कर दी. छात्रो द्वारा आन्दोलन के बाद दोनों प्रोफेसरों के नाम मुकदमे में शामिल किया गया लेकिन विश्विद्यालय प्रशासन द्वारा दोषी प्रोफेसरों के खिलाफ कोई कठोर कार्यवाही नही की गई न ही आजतक उनकी गिरफ्तारी हुई । महज खानापूर्ति के लिए विश्वविद्यालय प्रशासन द्वारा एक जाँच कमेटी बनाई गई, जिसमें शोध छात्र से बिना पूछताछ किये उन दिनों प्रोफेसरों को क्लीन चिट दे दिया गया।

छात्रों का कहना था कि वे जाच कमिटी की जाँच से संतुष्ट नहीं है. इसलिए पुनः शोध छात्र दीपक कुमार के साथ जाकर कुलपति की अनुपस्थिति में प्रतिकुलपति से मिलकर ज्ञापन देकर 24 घंटे के अंदर उन आरोपी प्रोफेसरों पर कार्यवाही की मांग की गई है. कार्यवाही न होने पर उग्र आंदोलन किया जायेगा.

प्रदर्शन में छात्र नेता प्रशांत कुमार, अमित सिंघानिया, अनूप ईश्वर, डॉ. राजेश यादव, रिषभ राव, पवन कुमार, शिवशंकर गौड़, राजीव यादव, सत्येन्द्र भारती, सुधीराम रावत, सोनू सिद्धार्थ, पूर्वांचल सेना के जिलाध्यक्ष सुरेन्द्र वाल्मीकि, मंजेश कुमार, राहुल यादव, संजय यादव, रविन्द्र कुमार आदि शामिल थे।

Leave a Comment