जनपद

ठेले पर घायल को लेकर भटकते रहे परिजन, हुई मौत

108 डायल करने पर भी नहीं आई एंबुलेंस
सीएचसी से लेकर जिला अस्पताल के डाक्टर घायल को करते रहे रेफर
मेडिकल कालेज,गोरखपुर ले जाते समय हो गयी मौत

महराजगंज, 22 जुलाई;सड़क दुर्घटना के एक घायल को एंबुलेंस न मिलने के कारण परिजन ठेले पर लादकर भटकते रहे और उसकी मौत हो गयी।
मामला महराजगंज के कोल्हुई थाना क्षेत्र के कोल्हुई कस्बे का है। यहां रविवार को गोरखपुर मार्ग पर हुई दुर्घटना में घायल तड़पता रहा। सूचना देने के बाद भी सरकारी एंबुलेंस मौके पर नहीं पहुंची। गंभीर रुप से घायल सूड़े उर्फ योगेंद्र के परिजन किसी तरह ठेले पर लाद कर नजदीकी अस्पताल ले गये। गंभीर स्थिति को देखते हुए चिकित्सकों ने उसे जिला अस्पताल रेफर कर दिया। प्राथमिक उपचार के बाद चिकित्सकों ने उन्हें मेडिकल कालेज के लिए रेफर कर दिया। रास्ते में ही उसकी मौत हो गई।

मौत का कौन है जिम्मेदार?

सूड़े उर्फ योगेंद्र कोल्हुई कस्बे में गोरखपुर मार्ग पर एक होटल में काम करता था। रोजाना की भांति काम कर घर लौट रहा था। तेज रफ्तार से आ रही बाइक ने ठोकर मार दी। वह घायल होकर सड़क पर गिरकर तड़पने लगा। राहगीरों ने 100 व 108 पर फोन किया। 100 नंबर यूपी डायल की गाड़ी पहुंची, इसके पुलिसकर्मियों ने मदद के बजाय अस्पताल भेजने की सलाह देकर पिंड छुड़ा लिया। एम्बुलेंस काफी इंतजार के बाद भी जब नहीं पहुंची, तो लोगों ने घायल को ठेले पर लाद कर कस्बे में ही प्राथमिक उपचार कराया। चिकित्सकों की सलाह पर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र बनकटी भेजा। जहां चिकित्सकों ने हालत गंभीर देख उसे जिला अस्पताल महराजगंज रेफर कर दिया। यहां से सुबह रेफर करने के बाद रास्ते में ही उसकी मौत हो गई। मौत के बाद मृतक के घर में कोहराम मचा हुआ है। इस सम्बंध में मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ. क्षमा शंकर पांडेय ने कहा कि यह एक गंभीर मामला है, इसकी गम्भीरता से जांच कराकर दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

Skip to toolbar