समाचार

महाराणा प्रताप शिक्षा परिषद संस्थापक सप्ताह समारोह में शामिल हुए योगी आदित्यनाथ और डॉ रमन सिंह

गोरखपुर. उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह मंगलवार को एमपी इंटर कालेज प्रांगण में आयोजित महाराणा प्रताप शिक्षा परिषद संस्थापक सप्ताह समारोह के उद्घाटन कार्यक्रम में शामिल हुए. इस अवसर पर महाराणा प्रताप शिक्षा परिषद की 40 शिक्षण संस्थाओं के छात्र-छात्राओं द्वारा  शोभा यात्रा निकाली गयी। यह समारोह 10 दिसम्बर तक चलेगा और समापन कार्यक्रम में राष्ट्रपति रामनाथ कोविद और राज्यपाल राम नाइक सम्मिलित होंगे.

उद्घाटन कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि पूर्वी उ0प्र0 की सबसे बड़ी शैक्षणिक संस्था अपने संस्थापकों के प्रति श्रद्धा एंव सद्भाव को व्यक्त करने के लिए इस समारोह का आयोजन प्रतिवर्ष करती है। उन्होंने महाराणा प्रताप के कृतिव एंव व्यक्तित्व पर प्रकाश डालते हुए कहा कि हम सबको उनके आदर्शों को अपनाना चाहिए तथा यह शैक्षणिक संस्थान शिक्षा के साथ साथ रोजगारपरक प्रशिक्षण जिससे छात्र/छात्राएं स्वावलम्बन की दिशा में अग्रसर हों, इस उद्देश्य से अपने शैक्षणिक कार्य संचालित कर रही है और आज यह संस्थान 86वां संस्थापक समारोह आयोजित कर रहा है।

मुख्यमंत्री ने बताया कि 1932 में इस शैक्षणिक संस्था की स्थापना हुई थी आज इसकी 48 शैक्षणिक संचालित है जिसमें लगभग 50 हजार छात्र/छात्राएं अध्ययनरत है। उन्होंने गुणवत्तापरक शिक्षा पर बल देते हुए कहा कि शिक्षित व्यक्ति ही शिक्षित शिक्षित समाज की स्थापना कर सकता है।

कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री डा0 रमन सिंह ने इस गौरवशाली आयोजन के प्रति धन्यवाद देते हुए कहा कि यह शैक्षणिक संस्था अपनी विशिष्ट परम्परा को आगे बढ़ाने की दिशा में बेहतर कार्य कर रहा है जो नई पीढ़ी के निर्माण के लिए उपयोगी है। उन्होंने कहा कि शिक्षा के बिना जीवन अन्धकारमय होता है और जीवन में शिक्षा का बड़ा महत्व है, इसके बिना विकास की परिकल्पना नही की जा सकती है और मेहनत का कोई विकल्प नही होता है, भविष्य निर्माण के लिए यह आवश्यक है। पढ़ाई के साथ साथ खेल का भी जीवन में अहम रोल होता है। शिक्षित व्यक्ति ही बेहतर समाज एंव राष्ट्र का निर्माण करता है।

उन्होंने कहा कि उ0प्र0 सरकार विकास की ओर निरन्तर अग्रसर है, प्रदेश में नई व्यवस्था तथा परिवर्तन आया है, उ0प्र0 सरकार ने समर्थन मूल्य के तहत गेहूं/धान खरीद की व्यवस्था की है, गन्ना मूल्य का भुगतान इंफ्रास्ट्रचर डवलपमेन्ट, कानून व्यवस्था बेहतर , विकास में गति लाई है।

विशिष्ट अतिथि के रूप में प्रदेश के खेल मंत्री चेतन चौहान ने अपने सम्बोधन में छात्रों से कहा कि कार्यों का उद्देश्य निश्चित होना चाहिए अर्थात पढ़ाई मन से करें तथा उत्तम स्वास्थ्य के दृष्टिगत खेल को भी अपने जीवन में अपनाएं।
इस अवसर पर उपरोक्त के अतिरिक्त विधायक डा0 राधामोहन दास अग्रवाल, शीतल पाण्डेय, विपिन सिंह, श्रीमती संगीता यादव, पूर्व एमएलसी डा0 वाईडी सिंह, महापौर सीता राम जायसवाल, दीदउगोविवि के कुलपति प्रो वीके सिंह आदि उपस्थित रहे।

आई.टी.बी.पी. ने जीती महन्त अवेद्यनाथ जी महराज अखिल भारतीय प्राइजमनी पुरूष कबड्डी प्रतियोगिता

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मुख्य अतिथि के रूप में रीजनल स्टेडियम में आयोजित महन्त अवेद्यनाथ जी महराज अखिल भारतीय प्राइजमनी पुरूष कबड्डी प्रतियोगिता के समापन एंव पुरस्कार वितरण कार्यक्रम में विजयी प्रतिभागियों को पुरस्कृत किया। यह प्रतियोगिता एक दिसम्बर से प्रारम्भ होकर 4 दिसम्बर तक आयोजित की गयी  जिसमें कुल 12 टीमों के लगभग 170 खिलाड़ियों ने भाग लिया।

विजयी प्रतिभागियों में आई.टी.बी.पी. प्रथम, इंडियन नेवी द्वितीय एंव उत्तर प्रदेश तृतीय स्थान पर रहा। विजयी प्रतिभागी प्रथम को स्वर्णपदक, द्वितीय को रजत पदक तथा तृतीय को कांस्य पदक प्रदान किया गया।

इस मौके पर मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश सरकार द्वारा खेलों को बढ़ावा देने के लिए प्रदेश में कुल 16 खेलों में 19 जनपदों में 44 छात्रावास संचालित किये जा रहे हैं. इसके अतिरिक्त प्रदेश में 3 स्पोर्टस कालेज लखनऊ, गोरखपुर एंव सैफई में संचालित है। जनपद में निर्मित क्रीड़ांगनों में 30 खेलों में 533 प्रशिक्षकों द्वारा स्थानीय प्रशिक्षण शिविर संचालित किया जा रहा है।

मुख्यमंत्री ने बताया कि प्रदेश के 66 जिलों में 71 स्टेडियम, 67 बहुद्देशीय हाल, 38 तरणताल, 18 छात्रावास भवन, सिन्थेटिक टेनिस कोर्ट, 19 डारमेट्री, 9 कुश्ती हाल, 5 शूटिंग रेन्ज, 8 सिन्थेटिक हाकी मैदान, 2 फ्लड लाइटयुक्त सिन्थेटिक हाकी स्टेडियम एंव 10 स्टेडियमों में अत्याधुनिक जिम उपकरण स्थापित है।


उन्होंने कहा कि ओलम्पिक गेम में प्रतिभाग/पदक विजेता खिलाड़ियो में स्वर्ण पदक रू0 6 करोड़, रजत 4 करोड़, कांस्य 2 करोड़ एवं प्रतिभाग करने वाले प्रतिभागी को रू0 10 लाख दिया जाता है। लक्ष्मण/रानी लक्ष्मीबाई पुरस्कार से सम्मानित होने वाले खिलाड़ियो को प्रशस्ति पत्र, पुरस्कार की कांस्य प्रतिमा, वर्तिलेख एवं रू0 3,11000.00 की धनराशि नकद प्रदान की जा रही है। उन्होंने यह भी बताया कि ओलम्पिक/कामनवेल्थ/ऐशियन गेम्स, विश्व कप में पदक विजेता खिलाड़ियो को राजपत्रित अधिकारियो के रूप में नियुक्ति प्रदान किये जाने की व्यवस्था है। वर्ष 2018 में कामनवेल्थ गेम्स में 18 प्रतिभागियों ने दो स्वर्ण, 2 रजत, 3 कांस्य इस प्रकार कुल 7 पदक तथा ऐशियन गेम्स में 45 प्रतिभागियो ने कुल 11 पदक अर्जित किया। प्रदेश सरकार द्वारा खिलाड़ियो को रू0 6 करोड़ 45 लाख की नकद धनराशि से पुरस्कृत किया गया।

इस अवसर पर छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री डा0 रमन सिंह, प्रदेश के खेल मंत्री चेतन चौहान सांसद अयोध्या लल्लू सिंह, विधायक डा0 राधा मोहन दास अग्रवाल, विपिन सिंह, श्रीमती संगीता यादव, विमलेश पासवान, महापौर सीता राम जायसवाल, राज्य महिला आयोग उपाध्यक्ष अंजू चौधरी सहित मण्डलायुक्त अमित गुप्ता, जिलाधिकारी के0 विजयेन्द्र पाण्डियन उपस्थित रहे।

Leave a Comment