Monday, February 6, 2023
Homeसमाचारकिसानों पर खाट लूट का इल्जाम शर्मनाक : मीम अफजल

किसानों पर खाट लूट का इल्जाम शर्मनाक : मीम अफजल

आयोजकों ने किसानों को खटिया ले जाने की इजाजत दी थी
सैयद फरहान अहमद
गोरखपुर, 7 सितम्बर। कांग्रेस के यूपी मीडिया इंचार्ज और पूर्व सांसद मीम अफजल ने देवरिया के रूद्रपुर में आयोजित खाट सभा में खाटों की लूट पर सख्त प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि किसानों पर खाटों की लूट का इल्लाम लगाना निहायत शर्म की बात है। उन्होंने स्पष्टीकरण देते हुए कहा कि आयोजकों ने किसानों को खटिया ले जाने की इजाजत दी थी। मीम अफजल के अनुसार जब एक महिला उनके सामने खाट ले जा रही थी तो उन्होंने उससे पूछा कि वह इसका क्या करेगी तो महिला ने बेहद जज्बाती अंदाज में कहा कि उसके बेटे की शादी होने वाली है और यह खाट वह अपनी बहू को देगी। तब मैंने उससे कहा कि वह एक नहीं बल्कि दो खाट अपने साथ ले जायें।

IMG_1150

उन्होंने जोर देकर कहा कि यह हर कोई जानता है कि कोई भी लूट खुलेआम नहीं होती है। कुछ मीडिया चैनलों और विपक्षी पार्टियों खास कर भाजपा पर निशाने साधते हुए कांग्रेस नेता ने कहा कि उन्हें खाटों की बात तो नजर आती है लेकिन देश का नौ हजार करोड़ लूट ले जाने वाले (विजय माल्या ) नजर नहीं आते है। यह इंतेहाई शर्मनाक और अफसोसनाक बात है।

IMG_1152
राहुल गांधी की किसान यात्रा को उत्साहपूर्वक बताते हुए मीम अफजल ने कहा कि कांग्रेस पार्टी हमेशा से किसानों के हित में काम करती रही है। उन्होंने कहा कि यूपी की कुल आबादी में 65 प्रतिशत किसान है। जहां इन पर 49 हजार करोड़ रूपए का बकाया है। लेकिन अफसोस की बात यह है कि इन किसानों के हित में ना तो राज्य सरकार और ना ही केंद्र की सरकार कोई कार्य रही है। किसानों की इस पीड़ा को कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने महसूस किया और ‘ कर्ज माफ, बिजली बिल हाफ, समर्थन मूल्य का करो हिसाब‘ के नारे के साथ किसान यात्रा शुरू की है और उनसे रूबरू होकर समस्याओं को सुनने के साथ उनका हल निकलवाने के लिए सरकारों पर दबाव बना रहे है। एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि उप्र में पिछले 27 साल से जात-पात और धर्म के नाम पर सरकारें चल रही है जिसकी वजह से यहां की जनता का भला नहीं हो पा रहा है। लेकिन कांग्रेस पार्टी इस परसेप्शन को खत्म करते हुए यह बताना चाहती है कि पार्टी के लिए हिंदू मुसलमान, सिख, ईसाई सब एक समान है।
एक अन्य सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि कांग्रेस की सबसे बड़ी ताकत उसका नजरिया है। जो धर्मनिरपेक्षता को कायम रखते हुए मुल्क की  एकता को बरकरार रखना चाहती है। कांग्रेस एक चुनाव से कमजोर नहीं होती है अगर ऐसा होता तो यह 113 साल की उम्र की ना होती।
उन्होंने कहा कि 2017 और 2019 में कांग्रेस रहेगी और सरकार बनायेगी। गठबंधन से सबंधित के जवाब में मीम अफजल ने कहा कि कांग्रेस अपने बल पर अकेले चुनाव लड़ेगी। छोटे दल वोट कटिंग मशीन है उनसे कैसे गठबंधन हो सकता है ?

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments