Tuesday, May 17, 2022
Homeसमाचारगोरखपुर विश्वविद्यालय को केन्द्रीय विश्वविद्यालय बनाने पर न हां न ना, दीनदयाल...

गोरखपुर विश्वविद्यालय को केन्द्रीय विश्वविद्यालय बनाने पर न हां न ना, दीनदयाल पीठ बनेगा

गोरखपुर विश्वविद्यालय के संवाद भवन में आयोजित कार्यक्रम में मानव संसाधन विकास मंत्री स्मृति ईरानी ने की घोषणा
गोरखपुर, 27 मई। केन्द्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री स्मृति ईरानी ने आज दीनदयाल उपाध्याय गोरखपुर विश्वविद्यालय में आयोजित एक कार्यक्रम में विश्वविद्यालय दीनदयाल उपाध्याय पीठ बनाने की घोषणा की। गोरखपुर विश्वविद्यालय को केन्द्रीय विश्वविद्यालय बनाने की मांग के सम्बन्ध में उन्होंने न हां कहा न ना। उन्होंने कहा कि केन्द्रीय विश्वविद्यालय बनाने के लिए एक निश्चित प्रक्रिया होती है। वह चाहेंगी कि अगले साल यहां आए और इसी परिसर में योगी आदित्यनाथ की उपस्थिति में इस कार्य करने का मौका मिले।
विश्वविद्यालय के संवाद भवन में भूगोल विभाग के प्रोफेसर केएन सिंह ने ‘ वर्तमान राष्टीय परिद्श्य और बौद्धिकों की भूमिका ‘ विषय पर संगोष्ठी का आयोजन किया था। इसमें बतौर मुख्य अतिथि केन्द्रीय मानव संसाधन मंत्री स्मृति ईरानी ने भाग लिया। कार्यक्रम की अध्यक्षता गोरखपुर के सांसद योगी आदित्यनाथ ने की। योगी आदित्यनाथ ने मुख्य अतिथि के पहले संबोधन की इच्छा व्यक्त की और अपने संबोधन में गोरखपुर विश्वविद्यालय को केन्द्रीय विश्वविद्यालय बनाने की मांग रखी। उन्होंने कहा कि जुलाई में एम्स और गोरखपुर खाद कारखाने का शिलान्यास होने जा रहा है। जून माह में बीआरडी मेडिकल कालेज के उच्चीकरण कार्य का भी शुभारंभ कराने का प्रयास हो रहा है। गोरखपुर की बड़ी मांगों को मोदी सरकार ने दो वर्ष में पूरा कर दिया है। उन्होंने कहा कि गोरखपुर विश्वविद्यालय को केन्द्रीय विश्वविद्यालय बन जाने से न सिर्फ पूर्वी उत्तर प्रदेश को बल्कि पश्चिमी बिहार और नेपाल के लोगों को भी इसका लाभ मिलेगा। योगी ने प्रदेश की सपा सरकार पर पूर्वांचल के विकास में व्यवधान डालने का आरोप लगाया।
केन्द्रीय मानव संसाधान विकास मंत्री स्मृति ईरानी ने अपने संबोधन के प्रारम्भ में ही विश्वविद्यालय में दीनदयाल पीठ की स्थापना की घोषणा की। उन्होंने केन्द्रीय विश्वविद्यालय के मुद्दे पर कहा कि इसकी एक प्रक्रिया होती है। भाजपा घोषणा करने में नहीं कार्य करने में विश्वास करती है। योगी आदित्यनाथ के संघर्ष के कारण खाद कारखाना, एम्स और बीआरडी मेडिकल कालेज का उच्चीकरण का कार्य पूरा होने जा रहा है। केन्द्रीय विश्वविद्यालय का भी मांग जरूर पूरी होगी। उन्होंने कहा कि वह चाहेंगी कि अगले वर्ष योगी जी की उपस्थिति में यहां इस कार्य को करने का अवसर उन्हें मिले। इस पर हाल में जोरदार ताली बजी। बाद में उन्होंने मजाकिया लहजे में कहा कि उन्होंने न तो ना कहा न हां। इस पर प्रो केएन सिंह ने कहा कि मंत्री जी ने हम सभी की भावनाओं को समझा है और केन्द्रीय विश्विद्यालय की मांग जरूर पूरी होगी। अपने संबोधन में श्रीमती इरानी ने मानव संसाधान विकास मंत्रालय के कार्यों को गिनाया और मंत्रालय पर शिक्षा के भगवाकरण के आरोपों का बचाव किया।

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments