Monday, February 6, 2023
Homeसमाचारपूर्वांचल बैंक की शाखाओं में करेंसी की किल्लत बरकरार, कई शाखाओं में...

पूर्वांचल बैंक की शाखाओं में करेंसी की किल्लत बरकरार, कई शाखाओं में नो कैश की स्थिति

-अब तक 571 शाखाओं से सिर्फ 100 करोड़ का ही भुगतान हो पाया है जबकि जमाकर्ताओं ने 1800 करोड़ जमा किए
-कम से कम 500 करोड़ की जरूरत

गोरखपुर। पूर्वांचल बैंक की अधिकतर शाखाएं नो कैश की स्थिति से जूझ रही हैं। आरबीआई और स्टेट बैंक से उसे करेंसी नहीं मिलने से आज कई शाखाओं में ग्र्राहकों को भुगतान नहीं किया जा सका। अन्य बैंकों में जहां लोगों की लम्बी कतारें देखी गई वहीं पूर्वांचल बैंक की शाखाओं में सन्नाटा पसरा रहा।
आठ नवम्बर की रात नोटबंदी के बाद से ही पूर्वांचल बैंक की शाखाओं को अपने प्रायोजक बैंक स्टेट बैक से करेंसी नहीं मिल पा रही है। इस कारण बहुत कम ग्राहकों को भुगतान किया जा सका है।

जिला पंचायत के पास स्थित पूर्वाञ्चल बैंक की शाखा
जिला पंचायत के पास पूर्वाञ्चल बैंक की शाखा

पूर्वांचल बैक की 11 जिलों में 571 शाखाएं हैं। अधिकतर शाखाएं ग्रामीण क्षेत्रों में हैं जिनसे किसान, गरीब और मेहनतकश तबका जुड़ा है। पूर्वांचल बैक की सभी शाखाओं में 92 लाख जमाकर्ता हैं। इनमें से 18 लाख को डेबिट कार्ड दिया गया है जबकि शेष बैंक की शाखाओं से लेन देन करते हैं।
पूर्वांचल बैंक की शाखाओं में नोटबंदी के पहले प्रतिदिन 40-45 करोड़ भुगतान होता था लेकिन करेंसी की किल्लत के कारण आठ नवम्बर से 27 नवम्बर तक बैंक अपने जमाकर्ताओं को सिर्फ 100 करोड़ का भुगतान कर पाया है।
पूर्वांचल बैंक के महाप्रबंधक ओपी सिंह ने गोरखपुर न्यूज लाइन को बताया कि आठ नवम्बर के बाद से बैंक में जमाकर्ताओं ने 1800 करोड़ जमा किया है। हमारा अनुमान है कि जमाकर्ता कम से कम 600 करोड़ की निकासी करेंगे। इसके लिए बैंक को 500 करोड़ की और जरूरत होगी लेकिन चेस्ट से करेंसी मिलने में हो रही दिक्कत से हम ग्राहकों को 24 हजार की सीमा तक भी भुगतान नहीं कर पा रहे हैं। यह पूछे जाने पर कि कई शाखाओं में नो कैश की स्थिति है और वहां लोगों ने हंगामा भी किया है, उनका जवाब था कि शुक्रवार के पहले कुछ स्थानों पर यह स्थिति थी लेकिन शुक्रवार को बैंक की अधिकतर शाखाओं ने पांच-पांच लाख का भुगतान किया है।
लेकिन सोमवार को पूर्वांचल बैंक की तमाम शाखाओं पर करेंसी की भारी किल्लत देखी गई। भुगतान न होने के कारण ग्राहक निराश होकर लौटे। जहां दूसरे बैंकों में ग्राहकांे की लम्बी कतारें थी वहीं पूर्वांचल बैंक में इक्का-दुक्का लोग ही नजर आ रहे थे।

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments