Thursday, February 9, 2023
Homeसमाचारराहुल गांधी की खाट सभा में खाटों की लूट

राहुल गांधी की खाट सभा में खाटों की लूट

मनोज कुमार सिंह

रूद्रपुर (देवरिया) 7 सितम्बर। रूद्रपुर में आज राहुल गांधी की खाट सभा में खाटों की लूट हो गई। सभा खत्म होते ही लोग खाटों को लेकर घरों की तरफ दौड़ पड़े। देखते-देखते सभा स्थल से ढाई हजार खाटें गायब हो गईं। जिनके हाथ में खाट नहीं आई उसने खाट के पायों और रस्सियों से ही संतोष किया।

IMG_1139

कांग्रेस के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राहुल गांधी की आज से शुरू हुई ‘देवरिया -दिल्ली किसान यात्रा’ की पहली खाट सभा के लिए संभल से ढाई हजार चारपाइयां और सैकड़ों मोढे मंगाए गए थे। ये चारपाइयां पारम्परिक चारपाइयों की तरह ही थीं लेकिन इसकी रस्सी मूँज के बजाय मशीन से बुने गए प्लास्टिक की थी। ये रस्सियां रंग बिरंगी और चमकीली थीं।

IMG_1144
योजना यह थी कि एक-एक खाट पर चार-चार किसान बैठेंगे। बीच में बने रैम्प पर राहुल गांधी की खाट होगी। पहले किसान अपनी बात रखेंगे फिर राहुल बोलेंगे लेकिन भीड़ बढ़ गई और पूरी व्यवस्था धराशायी हो गई।

IMG_1148
लोग खाटों पर बैठने के बजाय उस पर खड़े हो गए जिससे दर्जनों खाटें टूट गईं। जिन 100 से अधिक किसानों को राहुल गांधी के लिए बने रैम्प के पास बैठना था, वे सुरक्षा जांच के कारण पहुंच ही नहीं सके। आधा दर्जन किसानों-नरेन्द्र यादव, नाथू कुशवाहा, कमलेश प्रजापति, दयाशंकर, रामबहाल यादव और कृषि विज्ञानी यशवंत सिंह को किसी तरह रैम्प पर बुलाया गया जिन्होंने खाद-बीज, बिजली के बिल महंगे होने, कर्ज माफी, उपज का लाभकारी दाम मिलने और सूखा-बारिश से हुए नुकसान का मुआवजा न मिलने की बात रखी। रामबहाल की बातों से राहुल बहुत खुश हुए और उनको गले लगाने के बाद उनके साथ सेल्फी भी ली।

IMG_1150

राहुल गांधी ने जैसे ही भाषण खत्म किया सभा के दक्षिण छोर से कुछ लोग चारपाई उठा कर ले जाने लगे। कुछ ही देर में पूरा सभा स्थल एक अजीब नजारे में तब्दील हो गया। जिसको जो खाट मिली उसे लेकर जाने लगा। कुjituछ लोग टूटी खाटों को तोड़ उसके पाए और रस्सिया निकालने लगे। रूद्रपुर के पंडा टोले से आयीं विशनावती को खाट का एक पाया ही मिल सका। उन्होंने कहा कि यह कपड़ा धोने के लिए मुगदड़ के काम आएगा।

संभल से खाट लेकर आया जीतू रास्ते में किसी तरह बचाए गए तीन खाटों पर पैर जमा कर खड़ा था और अपने मालिक को मोबाइल फोन से खाटों के लुट जाने का वाकया सुना रहा था। साथ ही वह खाट व मोढे लेकर जा रहे लोगों से उसे वापस करने का अनुरोध कर रहा था लेकिन उसकी कोई सुन नहीं रहा था। उसने कहा कि पुलिस वाले कोई मदद नहीं कर रहे। नेता लोग खुद लोगों को खाट ले जाने के लिए उकसा रहे हैं। जीतू को यहां से खाटें बटोर कर संतकबीरनगर जिले के खलीलाबाद ले जाना था जहां आठ सितम्बर को राहुल गांधी की खाट सभा होनी है।

खजवा चैराहे से पहले पापकार्न खा रहे रूद्रपुर के युवा रवि प्रसाद लोगों की इस हरकतों पर खासे नाराज हो रहे थे। उन्होंने कहा कि खाट ले जाने वालों ने रूद्रपुर का नाम खराब कर दिया। हम भगत सिंह और चन्द्रशेखर आजाद की बात कर रहे हैं और ये खाटें लूट कर ले जा रहे हैं।

 

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments