Tuesday, May 17, 2022
Homeसमाचारबाले मियां के लगन की रस्म अदा, मुख्य मेला 22 मई से

बाले मियां के लगन की रस्म अदा, मुख्य मेला 22 मई से

गोरखपुर। हज़रत सैयद सालार मसऊद गाजी मियां अलैहिर्रहमां जनसामान्य में बाले मियां के नाम से जाने जाते हैं। हज़रत सैयद सालार मसऊद गाजी मियां अलैहिर्रहमां का मुख्य मेला 22 मई को होना तय पाया गया है। जो एक माह तक चलेगा। मेला बहरामपुर स्थित बाले मियां के आस्ताने पर अकीदत के साथ मनाया जाता है।

पूर्वांचल की गंगा-जमुनी तहजीब की मिसाल माने जाने वाले इस मेले में भारी तादाद में अकीदतमंदों की सहभागिता होती है।

रविवार को लगन की रस्म अकीदत के साथ पूरी हुई। मुख्य मेला की तारीख़ तय की गई। सुबह से ही आस्ताने पर अकीदतमंदों का तांता लगा रहा। फज्र की नमाज़ के बाद गुस्ल शरीफ़ की रस्म हुई। क़ुरआन ख्वानी की गई। दोपहर के समय अकीदममंदो द्वारा लगन की रस्म अदा की गई। अकीदतमंद नरकटिया, नकहा, बसंतपुर सहित कई मोहल्ले से जुलूस की शक्ल में चादर के साथ आस्ताने पर पहुंचे। चादर व गागर आस्ताने पर पेश किया की। फातिहा ख्वानी व दुआ ख्वानी। कनूरी पेश की। आस्ताना परिसर में मेले जैसा माहौल रहा। इस दौरान इलियास, बब्लू, रेयाज अहमद, कमरुद्दीन, समीउल्लाह, मौलाना कुतुबुद्दीन, कयामुद्दीन, हाफिज खुर्शीद आलम निजामी, रजिया खातून, हाफिज गुलाम जीलानी आदि मौजूद रहे।

एडवोकेट तौहीद अहमद व मनोव्वर अहमद ने बताया कि हर साल लगन की रस्म पलंग पीढ़ी के रूप में मनाई जाती है। बहरामपुर में हर साल जेठ के महीने में मेला लगता हैं जहां पर आसपास के क्षेत्रों के अलावा दूर दराज से बड़ी संख्या में अकीदतमंद यहां आते है। मेला 22 मई से शुरू होकर 22 जून तक चलेगा। कोरोना काल में मेला का आयोजन नहीं हो सका था। संभावना है कि इस बार काफी संख्या में अकीदतमंद जुटेंगे।

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments