Monday, December 5, 2022
Homeसमाचारगोरखपुर-बस्ती मंडल की 26 सीटों पर भाजपा प्रत्याशी घोषित, आठ विधायकों का...

गोरखपुर-बस्ती मंडल की 26 सीटों पर भाजपा प्रत्याशी घोषित, आठ विधायकों का टिकट कटा

गोरखपुर। भाजपा ने आज गोरखपुर-बस्ती मंडल के 41 में से 26 सीटों पर अपने प्रत्याशी घोषित कर दिए। भाजपा ने आठ वर्तमान विधायकों का टिकट काट दिया है और उनके स्थान पर नए चेहरों को मौका दिया है। एक सीट पर वर्तमान विधायक के पुत्र को मौका दिया गया है तो एक विधायक की सीट बदल दी गई है।

भाजपा ने आज सिद्धार्थनगर जिले में कपिलवस्तु, बांसी, इटवा, डुमरियागंज विधानसभा क्षेत्र से प्रत्याशी घोषित किए। इन सीटों पर सभी वर्तमान विधायकों-श्यामधनी राही, जय प्रताप सिंह, सतीश चन्द्र द्विवेदी और राघवेन्द्र प्रताप सिंह को उम्मीदवार बनाया है। जय प्रताप सिंह प्रदेश सरकार में स्वास्थ्य मंत्री हैं तो सतीश चन्द्र द्विवेदी बेसिक शिक्षा राज्य मंत्री स्वतंत्र प्रभार हैं।

गोरखपुर जिले की नौ सीटों में से आज छह सीटों-कैम्पियरगंज, पिपराइच, सहजनवा,खजनी सुरक्षित, बांसगांव, चिल्लूपार से प्रत्याशी घोषित किए। इनमें से सहजनवा, खजनी सुरक्षित के वर्तमान भाजपा विधायकों का टिकट काट दिया गया हैं। खजनी सुरक्षित सीट पर वर्तमान विधायक संत प्रसाद की जगह श्रीराम चौहान को प्रत्याशी बनाया गया है। श्री चौहान संतकबीरनगर जिले के धनघटना सुरक्षित सीट से चुनाव जीते थे। उन्हें वहां से हटा कर खजनी लाया गया है।

सहजनवा के वर्तमान विधायक शीतल पांडेय का टिकट काट कर प्रदीप शुक्ल को दिया गया है। शीतल पांडेय मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के नजदीकी माने जाते हैं। चिल्लूपार से राजेश त्रिपाठी को एक बार फिर भाजपा प्रत्याशी बनाया गया है। वह पिछला चुनाव बसपा प्रत्याशी विनय शंकर तिवारी से हार गए थे। विनय शंकर तिवारी अब सपा में शामिल हो गए हैं और उन्हें सपा ने प्रत्याशी भी घोषित कर दिया है। राजेश त्रिपाठी बसपा के टिकट से चिल्लूपार सीट पर दो चुनाव जीत चुके हैं और वे मायावती सरकार में मंत्री भी रह चुके हैं।

कैम्पियरगंज से भाजपा ने एक बार फिर पूर्व मंत्री फतेहबहादुर सिंह पर भरोसा जताया है। पूर्व मुख्यमंत्री वीर बहादुर सिंह के बेटे फतेहबहादुर सिंह छह बार विधायक रह चुके हैं। वे कई बार मंत्री भी रह चुके हैं। इस सीट पर उनका मुकाबला सपा प्रत्याशी काजल निषाद से होगा।

भाजपा आलाकमान ने पिपराइच से महेन्द पाल सिंह और बांसगाव से विमलेश पासवान को एक बार फिर टिकट दिया है। दोनों 2017 के चुनाव में जीतकर पहली बार विधायक बने थे। विमलेश पासवान के भाई कमलेश पासवान बांसगांव के भाजपा सांसद हैं।

गोरखपुर सदर सीट से मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ खुद चुनाव लड़ेंगे। भाजपा ने अभी गोरखपुर ग्रामीण सीट और चौरीचौरा पर प्रत्याशी घोषित नहीं किया है। दोनों सीटों पर भाजपा की सहयोगी निषाद पार्टी दावेदारी कर रही है।

भाजपा ने कुशीनगर की सात सीटों में से तीन-हाटा, कुशीनगर और फाजिलनगर से आज प्रत्याशी घोषित किए। तीनों स्थान पर सीटिंग विधायकों के टिकट काट कर नए चेहरे उतारे गए हैं। हाटा के विधायक पवन केडिया की जगह मोहन वर्मा को प्रत्याशी बनाया गया है। मोहन वर्मा हाटा के नगर पालिका चेयरमैन हैं। कुशीनगर में वर्तमान विधायक रजनीकांत मणि त्रिपाठी का टिकट काट कर पीएन पाठक को प्रत्याशी बनाया गया है। फाजिलनगर विधानसभा क्षेत्र से गंगा सिंह कुशवाहा की जगह उनके बेटे सुरेन्द्र कुशवाहा को प्रत्याशी बनाया गया है।

देवरिया जिले में देवरिया से शलभ मणि त्रिपाठी को प्रत्याशी बनाया गया है। वे पत्रकार रह चुके हैं और इस समय मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के मीडिया सलाहकार हैं। देवरिया में भाजपा से वर्तमान विधायक डॉ सत्यप्रकाश मणि त्रिपाठी विधायक हैं। वे 2020 में इस सीट पर हुए उपचुनाव में जीत कर विधायक बने थे। पिछले चुनाव में यहां से भाजपा के जनमेजय सिंह विधायक बने थे जिनका निधन हो जाने के बाद उपचुनाव हुआ था।

भाजपा ने रामपुर कारखाना से भी नए प्रत्याशी सुरेन्द्र चौरसिया को चुनाव लड़ने का मौका दिया है। यहा के भाजपा विधायक कमलेश शुक्ल का टिकट काट दिया गया है। सुरेन्द्र चौरसिया हिन्दू युवा वाहिनी से जुड़े रहे हैं और उनकी पत्नी जिला पचायत सदस्य रह चुकी हैं। बरहज के विधायक सुरेश तिवारी का भी टिकट काट दिया गया है और उनके स्थान पर पूर्व मंत्री दुर्गा प्रसाद मिश्र के बेटे दीपक मिश्र शाका को टिकट दिया गया है। रूद्रपुर से वर्तमान विधायक एवं मंत्री जय प्रकाश निषाद और पथरदेवा से कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही को उम्मीदवार बनाया गया है।

बस्ती सदर से दयाराम चौधरी और हरैया से अजय कुमार सिंह को दुबारा टिकट मिला है। संतकबीर नगर की धनघटा सुरक्षित सीट से गनेश चन्द्र चौहान और खलीलाबाद से अंकुर राज तिवारी को प्रत्याशी बनाया गया है। अंकुर राज तिवारी तीन महीना पहले ही भाजपा में सक्रिय हुए थे। उनकी संतकबीरनगर के सांसद प्रवीण निषाद से नजदीकी है। धनघटा सीट से प्रत्याशी बनाए गए गनेश चन्द्र चौहान आरएसएस से जुड़े हैं।

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments