Thursday, March 23, 2023
Homeसमाचारराज्यछुट्टा पशुओं से किसान परेशान, गौशाला बस कागजों पर चला रहा है...

छुट्टा पशुओं से किसान परेशान, गौशाला बस कागजों पर चला रहा है प्रशासन : अजय कुमार लल्लू

छुट्टा पशुओं से पीड़ित किसानों को रखवाली भत्ता दे सरकार, योगी सरकार गौ संरक्षण के लिए छत्तीसगढ़ सरकार से प्रेरणा ले: अजय कुमार लल्लू

लखनऊ.  उत्तर प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष  अजय कुमार लल्लू ने आरोप लगाया है कि योगी राज में एक तरफ बड़ी संख्या में गौवंश की मौत हो रही है तो दूसरी तरफ किसान छुट्टा पशुओं से त्राहि त्राहि कर रहे हैं. लाखों की तादाद में प्रदेश के सभी जिलों में आवारा गौवंश किसानों की फसल को नुकसान पहुंचा रहे हैं. किसानों सहित ग्रामीण लोगों की आय का जरिया रहे पशु हाट खत्म हो गए हैं. प्रदेश सरकार गोवंश संरक्षण के नाम पर खानापूर्ति कर किसानों की फसलें बर्बाद कर देने पर तुली है. उन्होंने कहा कि हम सरकार से मांग करते हैं कि जब तक गौशाला का बेहतर प्रबंधन नहीं हो पाता है तब तक सरकार छुट्टा पशुओं पीड़ित किसानों को सरकार रखवाली भत्ता दे.

कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि रबी सीजन में किसानों के लिए आवारा पशु तबाही का कारण बन गए हैं. प्रदेश सरकार गोवंश संरक्षण के नाम पर आबकारी से लेकर मंडी परिषद तक से भारी भरकम सेस (टैक्स) वसूल रही है पर गौशालाओं के निर्माण और गायों की देखभाल के नाम पर जमीन पर कुछ भी नहीं हो रहा है। सरकारी गौशालाओं मे योगी सरकार में चारे एवं इलाज के अभाव में हजारों गायों की मौत हो चुकी है.

प्रदेश सरकार ने किसानों की फसलों को अवारा पशुओं से बचाने के लिए जो गौ संरक्षण योजना की शुरूआत की वह सिर्फ कागजों तक ही सीमित रह गया है क्योंकि जो बजट आवंटित किया गया वह इन आवारा पशुओं की संख्या के मुकाबले ऊँट के मुंह में जीरा साबित हो रहा है और जो बजट आवंटित है उसमें बन्दरबांट हो रहा है, उसका दुष्परिणाम यह है कि चारे और अन्य सुविधाओं के अभाव में बड़ी संख्या में आवारा पशु इन संरक्षण गृहों में आये दिन अपनी जान गंवा रहे हैं और यह संरक्षण गृह गौ वंशों के लिए जिन्दा कब्रगाह बन गये हैं. अभी दो दिन पूर्व राजधानी के बंथरा में रामचैरा गोशाला में बीमार गायों को जिन्दा हालत में ही कुत्ते नोच-नोचकर काट रहे थे। यह भयावह स्थिति केवल राजधानी लखनऊ तक ही सीमित नहीं है बल्कि सुलतानपुर, बांदा, वाराणसी, सीतापुर, खीरी, कानपुर, हरदोई, अयोध्या, प्रयागराज, अम्बेडकरनगर, बहराइच, गोण्डा, देवरिया, इटावा आदि लगभग प्रदेश के अधिकांश जिलों में ऐसी ही भयावह स्थितियां हैं जहां गौशालाओं में व्याप्त अव्यवस्था, चारे की अनुपलब्धता और रखरखाव के अभाव में गौ वंश अपनी जान गंवा रहे हैं।

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष ने मांग की कि गौ संरक्षण की उन्नत व्यवस्था के लिए कांग्रेसशासित राज्य छत्तीसगढ़ से प्रदेश की योगी सरकार को प्रेरणा लेते हुए गौ वंश के संरक्षण हेतु अविलम्ब प्रभावी कदम उठाने चाहिए और फसलों केा बर्बादी से रोकने के लिए तत्काल किसानों को समुचित आर्थिक मदद मुहैया करायें.

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments