Friday, January 27, 2023
Homeसमाचारहवाई अड्डे के लिए भूमि अधिग्रहण के खिलाफ आंदोलन तेज, आठ नवम्बर...

हवाई अड्डे के लिए भूमि अधिग्रहण के खिलाफ आंदोलन तेज, आठ नवम्बर को मेधा पाटकर आजमगढ़ में

आज़मगढ़। मंदुरी हवाई पट्टी को अन्तरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के रुप में विस्तारीकरण के नाम पर गांवों की जमीन छीनने के खिलाफ चल रहे आंदोलन में शामिल होने मशहूर सामाजिक कार्यकर्ता एवं जन आंदोलनों के राष्ट्रीय समन्वय की संयोजक मेधा पाटकर 8 नवम्बर को मंडूरी के जमुआ बाग पहुंचेंगी। अनोदलन में शरीक होने के लिए नौ नवम्बर को किसान नेता राकेश टिकैत भी पहुंचेंगे।

जमीन-मकान बचाओ संयुक्त मोर्चा के संयोजक रामनयन यादव ने बताया कि धरने के 25 वें दिन 6 नवम्बर को जमुआ में हो रहे धरने स्थल पर किसान पंचायत होगी।

श्री यादव ने कहा कि तीन हफ्ते से हम जमुआ की बाग में धरने पर बैठे हैं. यह धरना 12 अक्टूबर के दिन और रात में प्रशासन द्वारा सर्वे के नाम पर उत्पीड़न के विरोध में शुरू हुआ था। आज तक दोषियों के खिलाफ कार्रवाई तो दूर अब झूठी सर्वे रिपोर्ट के नाम पर ग्रमीणों को आतंकित किया जा रहा है कि उनकी जमीन ली जाएगी। जब गांव में अधिकारियों ने सर्वे किया ही नहीं तो सर्वे रिपोर्ट कैसी ? इस झूठ-फरेब के खिलाफ 6 नवम्बर को किसान पंचायत होगी। किसान पंचायत में किसान आंदोलन के नेतृत्वकारी नेता शामिल होंगे। आठ नवम्बर को जन आन्दोलनों की नेता मेधा पाटकर और 9 नवम्बर को किसान नेता राकेश टिकैत धरने के समर्थन में आएंगे।

धरने पर बैठे ग्रामीणों ने कहा कि एयरपोर्ट के लिए हम जमीन-मकान नहीं देंगे। पूरे देश के किसान नेता हमें समर्थन कर रहे हैं। इस आंदोलन को संयुक किसान मोर्चा, जनांदोलनों का राष्ट्रीय समन्वय जैसे संगठनों का निरंतर समर्थन मिल रहा है। उनके नेता लगातार आ रहे हैं.

धरने के 21 वें दिन बड़ी संख्या में ग्रामीण महिला-पुरुष शामिल हुए। किसान नेता दुखहरन राम, राजेश आज़ाद और राजीव यादव ने धरने को संबोधित किया. कार्यक्रम की अध्यक्षता फूलमती ने किया। संचालन शशिकांत उपाध्याय ने किया।

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments